संजीवनी टुडे

रतलाम/ राष्ट्रसंत आचार्यश्री पुलकसागर ने कैदियों को दिया प्रेरक उद्बोधन, कहा -आप जेल में प्रायश्चित के लिए आए हैं, अच्छाई के मार्ग पर चलें

संजीवनी टुडे 21-02-2020 22:14:37

जिला जेल परिसर रतलाम में शुक्रवार को राष्ट्रसंत आचार्यश्री पुलकसागर महाराज द्वारा कैदियों को प्रेरक उद्बोधन दिया गया। इस अवसर पर कलेक्टर रुचिका चौहान, जेल अधीक्षक आरके डांगी तथा जैन समाज के कई व्यक्ति उपस्थित थे।



रतलाम। जिला जेल परिसर रतलाम में शुक्रवार को राष्ट्रसंत आचार्यश्री पुलकसागर महाराज द्वारा कैदियों को प्रेरक उद्बोधन दिया गया। इस अवसर पर कलेक्टर रुचिका चौहान, जेल अधीक्षक आरके डांगी तथा जैन समाज के कई व्यक्ति उपस्थित थे।

आचार्यश्री पुलकसागरजी ने कैदियों से कहा कि अच्छाई के मार्ग पर चलें, बुरी संगत से बचें, आत्म नियंत्रण रखें, अच्छी संगति करें। आप यहां जेल में प्रायश्चित के लिए आए हैं। संत के प्रवचन सुनने के बाद आपकी आंखों से आंसू आते हैं तो इन्हें बहने दे, यह प्रायश्चित के आंसू है। जेल सुधारालय हैं, यहां से बाहर निकलने के बाद अच्छे कार्यों में जुट जाएं। उन्होंने कहा कि जेल में गौशाला भी होनी चाहिए।

इस अवसर पर कलेक्टर रुचिका चौहान ने कहा कि जेल में निरुद्ध कैदियों को जेल से बाहर निकलने के बाद अच्छा जीवन मिले, वह रोजगारलक कार्य कर सकें, इसके लिए प्रशासन द्वारा कैदियों को विभिन्न रोजगारमूलक प्रशिक्षण प्रदान करने के प्रयास किए जा रहे हैं। संतों के सानिध्य से प्रत्येक व्यक्ति में सकारात्मक भाव उत्पन्न होते हैं। व्यक्ति अच्छे कार्यों की ओर उन्मुख होता है। कार्यक्रम के अंत में जेल अधीक्षक आरके डांगी ने आभार व्यक्त किया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

More From state

Trending Now
Recommended