संजीवनी टुडे

ऐतिहासिक झंडा साहब में झंडा रोहण

संजीवनी टुडे 25-03-2019 17:38:26


देहरादून। सोमवार को प्रातःकाल से ही झंडेजी की पूजा-अर्चन प्रारंभ हो गई और पुराने झंडे को विधि विधान से नीचे उतारा गया। पुराने गिलाफ उतारे गये और दोपहर से शाम तक नये गिलाफ चढ़ाये जाते रहे। दस से 20 हजार श्रद्धालुओं की उपस्थिति में झंडे साहब को पुनः स्थापित किया गया। 

मात्र 240000/- में टोंक रोड जयपुर में प्लॉट 9314166166

बड़ी संख्या में आये श्रद्धालुओं के कारण सहारनपुर चौक, तिलक मार्ग, रामलीला बाजार, झंडा जी साहब, कांवली रोड, लक्खीबाग, भंडारीबाग, मातावाला बाग क्षेत्रों में जाम की स्थिति बनी रही। पांच बजे के आसपास सज्जादा नशीन महंत देवेन्द्र दास द्वारा हजारों संगतों की उपस्थिति में झंडेजी का आरोहण किया गया। लगभग एक माह तक चलने वाले इस मेले में 10 लाख श्रद्धालु पहुंचेगे ऐसा माना जाता है। 

झंडे पर गिलाफ चढ़ाने के लिए कई वर्षों का इंतजार करना पड़ता है। इस वर्ष होशियापुर के शिमली गांव निवासी केसर सिंह पुत्र तेज सिंह ने सनील का दर्शनी गिलाफ चढ़ाया। दर्शनी गिलाफ के अंदर 41 सादे गिलाफ चढ़ाये जाते हैं और मध्य भाग में 21 सनील के गिलाफ होते हैं। 

बाहर की ओर जो गिलाफ चढ़ाया जाता है उसे दर्शन गिलाफ कहते हैं। इस वर्ष के मेले में वर्षा ने भी वर्षा ने भी झंडा साहब का स्वागत किया। झंडारोहण के अवसर पर जनपद में सभी सरकारी, गैर सरकारी संस्थानों में स्थानीय अवकाश रहता है जिसके कारण लोग अपनी मन्नतें मांगने झंडा साहब पहुंचते हैं। 

साल 1676 में गुरु राम राय महाराज के देहरादून आगमन से गुरु राम राय दरबार का इतिहास प्रारंभ होता है। गुरू राम राय जो देहरादून के संस्थापक माने जाते हैं, सिखों के सातवें गुरु हर राय के ज्येष्ठ पुत्र थे। उनका जन्म होली के पांचवें दिन यानि पंचमी को यानि साल 1646 में होशियारपुर पंजाब में हुआ था। 

MUST WATCH & SUBSCRIBE

कीरतपुर गांव में जन्मे गुरु हर राय ने बाद में उदासीन पंथ स्वीकार कर लिया था। आज इनका यह दरबार उदासीन पंथ का सबसे बड़े मठों में माना जाता है। यहां गद्दी ग्रहण करने वाले महंत को सज्जादा नशीन की संज्ञा दी जाती है। गुरु राम राय के जन्म के खुशी में होली के पांचवें दिन झंडा साहब में विशेष मेला लगता है। विश्व प्रसिद्ध ऐतिहासिक झंडा साहब का झंडारोहण होली के पांचवें दिन यानि पंचमी को सम्पन्न हो गया। 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

More From state

Trending Now
Recommended