संजीवनी टुडे

बगैर पुलिस बंदोबस्त के राम भरोसे रही मैराथन

संजीवनी टुडे 20-06-2019 17:32:20

मैराथन दौड़ बगैर पुलिस बंदोबस्त के राम भरोसे रही।


झज्जर। विश्व योग दिवस से ठीक एक दिन पहले झज्जर में आयोजित की गई मैराथन दौड़ बगैर पुलिस बंदोबस्त के राम भरोसे रही। न तो बीच रास्ते कोई पुलिस का इन्तजाम था और न ही दौड़ में शामिल था कोई कर्मचारी या अधिकारी। गुरुवार को उपायुक्त ने झज्जर के जहांआरा बाग स्टेडियम इस मैराथन दौड़ को बकायदा हरी झंडी दिखाकर रवाना किया गया था। 

लेकिन जैसे ही मुख्य अतिथि ने मैराथन दौड़ को हरी झंडी दिखाई और दौड़ शुरू हुई तो उसके तुरन्त बाद ही वहां पर मौजूद अधिकारियों व कर्मचारियों ने अपने-अपने गंतव्य की ओर प्रस्थान कर दिया। मैराथन दौड़  को राम भरोसे छोडक़र जहां अधिकारी व कर्मचारी वहां से खिसक गए वहीं मैराथन में भाग लेने वाले स्कूली बच्चे बुरी तरह से हांफते हुए बगैर पुलिस बंदोबस्ता के सडक़ों पर दौड़ते रहे। यह संयोग ही रहा कि भारी व्यस्त मार्ग होने के चलते इस दौरान कहीं कोई दुर्घटना नहीं घटित हुए वरना प्रशासन की यही लापरवाही बच्चों
की जिंदगी के खिलवाड़ का कारण बन सकती थी। 

गत दिवस इस मैराथन दौड़ के लिए जो रूट निर्धारित किया गया था उसके अनुसार यह मैराथन दौड़ जहांआरा बाग स्टेडियम से प्रारम्भ होकर पुराना बस स्टैंड,अम्बेडक़र चौक व टैक्सी स्टैंड से होकर सीनियर सेकेंडरी स्कूल के सामने आकर खत्म होनी थी। लेकिन गुरुवार को इस मैराथन दौड़ का रूट डाईवर्ट कर दिया गया। जहां आरा बाग स्टेडियम से शुरू हुई यह मैराथन दौड़ शहर के नागरिक अस्पताल, पुरानी तहसील रोड़ से होकर यहां बीकानेर चौक पर आकर सम्पन्न हुई।  इस दौरान जिला पुलिस  का एक भी कर्मचारी यहां सडक़ पर दिखाई नहीं दिया। लोगों ने भी पुलिस प्रशासन की इस चूक को एक बहुत बड़ी लापरवाहीं माना है।

सिटी थाना प्रभारी कुलदीप देशवाल ने बताया कि उन्हें इस बारे में कोई भी लिखित आदेश प्रशासन की तरफ से नहीं मिले थे। यदि आदेश मिलते तो वह मैराथन दौड़ के दौरान बीच रास्ते पुलिस का जरूर बंदोबस्त करते।

मात्र 260000/- में टोंक रोड जयपुर में प्लॉट 9314188188 

More From state

Trending Now
Recommended