संजीवनी टुडे

राजस्थान: ठग ने चितौड़ एसपी बन विधायक से मांगे 10 लाख, पुलिस ने पाली से किया गिरफ्तार

संजीवनी टुडे 03-06-2020 21:58:52

जिला पुलिस अधीक्षक के नाम पर चितौड़गढ़ विधायक चंद्रभानसिंह आक्या को फोन कर 10 लाख की ठगी करने का प्रयास करने वाले को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिए है।


चित्तौड़गढ़। जिला पुलिस अधीक्षक के नाम पर चितौड़गढ़ विधायक चंद्रभानसिंह आक्या को फोन कर 10 लाख की ठगी करने का प्रयास करने वाले को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिए है। इस मामले को लेकर चितौड़गढ़ के सदर थाने में प्रकरण दर्ज किया है। गिरफ्तार आरोपित पाली का हिस्ट्रीशीटर है।

सदर थाना पुलिस के अनुसार चितौड़गढ़ विधायक चंद्रभानसिंह आक्या ने थाने पर एक रिपोर्ट दी कि 30 मई को शाम 4 बजे एक अज्ञात व्यक्ति ने फ़ोन किया और अपने आप को एसपी दीपक भार्गव का नाम बताते हुए अपना परिचय दिया। उसके बाद अज्ञात व्यक्ति ने अपना व्हाट्सएप्प नंबर देते हुए उसमें फ़ोन करने की बात की। इस पर विधायक आक्या ने उसके नंबर पर फ़ोन किया। अज्ञात व्यक्ति ने कहा कि मेरे रिश्तेदार उदयपुर के अमेरिकन हॉस्पिटल में भर्ती है और आप मुझे वहां 10 लाख की व्यवस्था कर दे, जिससे में हॉस्पिटल का भुगतान कर दूं। 

विधायक आक्या ने रिपोर्ट में बताया कि उन्होंने भी एक बार विश्वास करते हुए फ़ोन करने वाले को एसपी भार्गव समझ कर हां कर दी। इसका कारण था कि मोबाइल नंबर पर ट्रूकॉलर में भी दीपक भार्गव का ही नाम अंकित हो रहा था। इसलिए विश्वास कर रुपयों की व्यवस्था के लिए हां कर दी। इसके बाद फोन रखने के बाद विधायक आक्या ने अपने चचेरे भाई महिपालसिंह, जो कि उदयपुर में रहते हैं, उनसे बात कर रुपयों की व्यवस्था करने को कहा। इसके करीब 20 मिनट बाद जब विधायक आक्या ने एसपी भार्गव को फोन कर कर तथ्यों से अवगत कराया तो एसपी भार्गव ने बताया कि उन्होंने किसी भी तरह का फोन नहीं किया और ना ही मदद के लिए 10 लाख रुपए मांगे। 

एसपी भार्गव ने विधायक को धोखाधड़ी एवं ठगी से बचने के लिए पेमेंट रुकवाने के लिए कहा और सदर थाने में तुरंत इसकी रिपोर्ट करने के लिए कहा। रिपोर्ट के बाद पुलिस जांच में जुट गई। आरोपी के मोबाइल नंबर की लोकेशन के आधार पर आरोपी की पहचान कर पुलिस विशेष टीम का गठन कर पाली भेजा गया। यहां पर सुरेश उर्फ भैराराम उर्फ भेरिया पुत्र भंवरलाल घांची निवासी रजत नगर, रामदेव रोड, पाली, थाना कोतवाली को डिटेन कर चित्तौड़ लाया गया। पूछताछ के दौरान उसने पुलिस अधीक्षक के नाम पर ठगी करने का प्रयास करना स्वीकार किया। पुलिस ने घटना में प्रयुक्त मोबाइल बरामद किया गया। आरोपी सुरेश एक ठग है, जिसके विरूद्ध पूर्व में भी ठगी समेत 47 प्रकरण दर्ज है। यह विधायक, मंत्री व अन्य बड़े अधिकारी बन कर ठगी करने का आदी है। सुरेश घांची पुलिस थाना कोतवाली पाली का हिस्ट्रीशीटर भी है।

यह खबर भी पढ़े: प्रशासन की लापरवाही लील गई महिला की जिंदगी, 20 घंटे गौशाला के दरवाजे पर पड़ा रहा शव

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From state

Trending Now
Recommended