संजीवनी टुडे

रायपुर सीट : भाजपा और कांग्रेस के उम्मीदवारों की साँस जीत-हार के बीच अटकी

संजीवनी टुडे 21-04-2019 21:46:35


रायपुर। रायपुर लोकसभा क्षेत्र में चुनाव प्रचार रविवार शाम को 5 बजे भले ही थम गया हो लेकिन यहां भाजपा बनाम कांग्रेस की इज्जत की लड़ाई के किस्से लोगों के बीच 23 अप्रैल तक चलते रहेंगे। भाजपा और कांग्रेस के उम्मीदवारों की साँस जीत-हार के बीच अटकी है | रायपुर हमेशा से ही भाजपा का गढ़ रहा है, लेकिन इस बार राज्य में कांग्रेस की सत्ता आते ही फिजा बदली हुई नजर आ रही है।

इसकी सबसे बड़ी वजह रायपुर लोकसभा क्षेत्र से मुख्यमंत्री की पसंद का उम्मीदवार का होना है। यहां कांग्रेस ने वर्तमान मेयर प्रमोद दुबे को मैदान में उतारा है। उनका मुकाबला भाजपा के पूर्व मेयर सुनील सोनी से है। लेकिन भाजपा का गढ़ रहे छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में 2019 का चुनावी लड़ाई बेहद दिलचस्प मोड़ पर खत्म होने वाली है। यहां एक दिन बाद यानी 23 अप्रैल को मतदान है, लेकिन मीडिया से लेकर राजनीतिक विशेषज्ञ भी इन दोनों में के बारे में कुछ भी बता पाने में असमर्थ हैं।

मात्र 240000/- में टोंक रोड जयपुर में प्लॉट 9314166166

भाजपा और कांग्रेस के बीच इस सीट को लेकर इतनी उहापोह है कि जो रणनीति भाजपा अपना रही है, वहीं रणनीति कांग्रेस भी अपना रही है। भाजपा ने यहां शनिवार को पूरे शहर में रोड शो किया, तो उसके एक दिन बाद रविवार को मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने रोड शो कर भाजपा का पासा पलटने की पूरी कोशिश की। लेकिन भाजपा का गढ़ कहे जाने वाले रायपुर की जनता ही चुनाव करेगी कि वह दोनों पार्टियों के उम्मीदवारों में से किसे संसद में भेजना पसंद करती है।

MUST WATCH & SUBSCRIBE

मतदाताओं की बात करें तो रायपुर लोकसभा क्षेत्र में कुल 21 लाख 11 हजार 104 मतदाता हैं, जिनमें से पुरुष मतदाताओं की संख्या 10 लाख 71 हजार 921 है। रायपुर लोकसभा क्षेत्र में महिला मतदाताओं की संख्या भी पुरुषों के मुकाबले थोड़ा ही कम है। यहां 10 लाख 38 हजार 886 महिला मतदाता हैं। 

More From state

Loading...
Trending Now
Recommended