संजीवनी टुडे

प्रदेश में तेज हवाओं के साथ बारिश शुरू, कई जिलों में ओले और बिजली

संजीवनी टुडे 27-03-2020 11:35:53

मध्‍य प्रदेश इस वक्‍त देश के साथ कोरोना वायरस (कोविड-19) से जहां एक ओर जंग लड़ रहा है, तो दूसरी ओर तेज हवाओं के साथ अचानक से आए मौसमीय परिवर्तन ने इस लड़ाई को और कठिन बना दिया है।


भोपाल। मध्‍य प्रदेश इस वक्‍त देश के साथ कोरोना वायरस (कोविड-19) से जहां एक ओर जंग लड़ रहा है, तो दूसरी ओर तेज हवाओं के साथ अचानक से आए मौसमीय परिवर्तन ने इस लड़ाई को और कठिन बना दिया है। डॉक्‍टरों के अनुसार नमीदार वातावरण, बरसात, जल्‍दी-जल्‍दी मौसम में बदलाव आना से एलर्जी का खतरा बड़ जाता है, जोकि बाद में छींक आने, खांसी, गला चौक होने, खरास, नाक बहने, आंखों से आंसू आने, उनके लाल होने का कारण बनता है। जबकि कोरोना से बचने के लिए जरूरी है कि अपने को सर्दी के लक्षणों से बचाया जाए। 

वहीं, मध्य प्रदेश के कई इलाकों में शुक्रवार की सुबह अचानक मौसम बदलने के चलते तेज हवाओं के साथ बारिश शुरू हो गई है । मौसम विभाग ने इस संबंध में पहले ही अलर्ट जारी कर बता दिया था कि 27 मार्च को प्रदेश के अधिकांश इलाकों में बारिश होने की संभावना है। कुछ जिलों में वर्षा के साथ गरज चमक के साथ आंधी (हवाओं की अधिकतम गति 30 से 40 किमी प्रति घंटा) की संभावना है। इस दौरान भोपाल समेत ग्वालियर, दतिया, नीमच, मंदसौर, उज्जैन, अलीराजपुर, झाबुआ, धार, खरगौन, सीहोर एवं बैतूल जिलों में वर्षा होगी । कुछ इलाकों में ओलवृष्टि भी होगी। इसी के तहत आज राजधानी भोपाल समेत मध्यप्रदेश के कई जिलों में मौसम बदल गया। तेज हवाओं के साथ हल्की बारिश का दौर शुरू हो गया है। भोपाल में देर रात से हल्‍की बारिश हो रही है जोकि सुबह 06 से 09 बजे तक किसी इलाके में तेज तो कहीं हल्‍की-हल्‍की होती रही । 

मौसम विशेषज्ञ शैलेन्द्र नायक के अनुसार, पहला चक्रवाति संचरण के रुप में पश्चिमी विच्छोप उत्तरी पाकिस्तान, सटे हुये पंजाब तथा जम्मू एवं कश्मीर पर स्थित है तथा इससे प्रेरित चक्रवाती संचरण पश्चिमी राजस्थान एवं सटे पाकिस्तान पर स्थित है। चक्रवाती संचरण के रुप में दूसरा पश्चिमी विच्छोप अफगानिस्तान के पश्चिमी हिस्सो एवं आसपास के क्षेत्रो में स्थित है। इन दोनों पश्चिमी विच्छोपों एवं प्रेरित चक्रवाती संचरण के संयुक्त प्रभाव के कारण मध्यप्रदेश के हिस्सों में अनेक स्थानों पर बारिश के साथ गरज चमक के साथ आंधी (हवाओं की अधिकतम गति 30 से 40 किमी प्रति घंटा) की संभावना है। 

उन्‍होंने बताया कि वातावरण में आगे कुछ दिन तक यह मौसम में इस तरह का परिवर्तन का दौर बना रहेगा। आगामी 3 से 4 दिनों के दौरान मध्यप्रदेश के अधिकतम एवं न्यूनतम तापमानों में विशेष परिवर्तन की संभावना नहीं है। मध्यप्रदेश मे 28 से 29 तक शुष्क मौसम के बाद फिर 31 मार्च से 1 अप्रैल तक हल्की वर्षा एवं ओलावृष्टि का एक और दौर है। 30 मार्च से एक ताजा पश्चिमी विच्छोप द्वारा पश्चिमी हिमालयीन क्षेत्र को प्रभावित करने की संभावना है। इस कारण 30 मार्च से 1 अप्रैल के दौरान मध्यप्रदेश के कुछ हिस्सो में कहीं कहीं हल्की ओलावृष्टी/वर्षा का एक दौर की संभावना है।

इन जिलों में बारिश का अलर्ट 
मौसम विभाग के अनुसार प्रदेश के  इंदौर और उज्जैन संभाग के जिलों में बारिश होगी। इनके अलावा सीहोर होशंगाबाद, बैतूल,  भोपाल, ग्वालियर, और चंबल संभाग के जिलों के साथ  टीकमगढ़, सागर, दमोह, नरसिंहपुर और छिंदवाड़ा जिले में बारिश होगी । बाकि जिलों में मौसम सामन्य रहेगा।  उल्‍लेखनीय है कि गुरुवार को ही सीहोर, इछावर, आष्टा, जावर, मेहतवाड़ा, कोठरी, रेहटी में तेज बारिश हुई है। सीहोर में 10 मिनट में करीब तीन एमएम बारिश हुई है। इछावर में बारिश के साथ करीब आधा दर्जन गांव में चना आकार के ओले गिरे हैं। बारिश और ओलावृष्टि से फसल में काफी नुकसान की आशंका है। यहां ओलावृष्टि से इछावर ब्लॉक के देहखेड़ी, सेमली जदीद, मुवाड़ा, ढाबलामाता, बिजोरी, खेजड़ा, रामनगर, ढाबलाराय, गाजीखेड़ी, मोहनपुर नोआबाद, निपानिया सिक्का, हलियाखेड़ी, जोगड़ाखेड़ी, रामपुरा आदि गांव की फसल प्रभावित हुई है। 

संक्रमण फैलने का खतरा
हमीदिया अस्पताल के छाती व श्वास रोग विशेषज्ञ डॉक्टर विकास मिश्रा ने बताया कि अचानक मौसम के बदलने के कारण हल्की बारिश और फिर धूप निकलने से संक्रमण का खतरा ज्यादा रहेगा। इसी तरह मौसम अगर लंबे समय तक ऐसा बना रहता है तो वायरस का संक्रमण फैल रहा है। उन्होंने बताया कि ऐसे मौसम के कारण अत्यावश्यक होने पर ही घर से बाहर निकलें। गीला होने से बचें।

उधर, बाल रोग विशेषज्ञ डॉ. विनीत चतुर्वेदी ने कहा कि ऐसे बदलते मौसम से बच्‍चों की देखभाल सावधानी से करने की जरूरत है, वे गीले नहीं हों, यदि हो गए हैं तो तुरंत उनके कपड़े बदलें जाएं और उन्‍हें गरम दूध या आहार दें, जिससे कि बच्‍चे खांसी या जुखाम के शिकार होने से बचें । उन्‍होंने कहा  है कि ऐसा बिल्‍कुल न सोचें कि मौसम बदल गया है, गर्मी आ गई है, अचानक बदलते इस मौसम में बच्‍चों को पूरी बांह के कपड़े पहनाकर रखें। यदि थोड़ा भी असर बच्‍चे पर दिखे तो तुरंत बच्‍चों के डॉक्‍टर (पिडियाट्रिक्‍स) को दिखाएं। 

यह खबर भी पढ़े: प्रभास संग अफेयर को लेकर अनुष्का शेट्टी ने कहा- सिनेमा में काम करना छोड़ दूंगी...

यह खबर भी पढ़े: RBI के गवर्नर शक्तिकांत दास आज 10 बजे मीडिया को संबोधित करेंगे, बड़े एलान की उम्मीद

जयपुर में प्लॉट मात्र 289/- प्रति sq. Feet में बुक करें 9314166166

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

More From state

Trending Now
Recommended