संजीवनी टुडे

पंजाब CM ने पड़ोसी देश को चेताया- या तो सुधर जाओ वरना नतीजे भुगतने को तैयार रहो

इनपुट- यूनीवार्ता

संजीवनी टुडे 05-12-2019 20:39:43

मुख्यमंत्री ने प्रदेश में निवेश तथा प्रगति के लिये उद्योगों को सुरक्षित तथा स्थिर माहौल मुहैया कराने की अपनी सरकार की वचनबद्धता दोहराते हुये पाकिस्तान तथा राष्ट्र विरोधी ताकतों को चेताया कि


मोहाली। पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने प्रदेश में निवेश तथा प्रगति के लिये उद्योगों को सुरक्षित तथा स्थिर माहौल मुहैया कराने की अपनी सरकार की वचनबद्धता दोहराते हुये पाकिस्तान तथा राष्ट्र विरोधी ताकतों को चेताया कि पंजाब को अस्थिर करने की नापाक कोशिश करने वाले अपने मंसूबों में कामयाब नहीं हो सकेंगे। उन्होंने पड़ोसी देश को चेताया कि या तो सुधर जाओ वरना नतीजे भुगतने को तैयार रहो।

यह खबर भी पढ़ें:​ ​मनमोहन के बयान से आया राजनीतिक भूचाल, सत्तापक्ष और पूर्व PM के परिजनों ने की कड़ी आलोचना

प्रोग्रेसिव पंजाब इन्वेस्टमेंट समिट 2019 के पहले दिन मुख्य सत्र में चर्चा के दौरान कैप्टन सिंह ने कहा कि पंजाब पुलिस को स्पष्ट हिदायतें दी गई हैं कि किसी अंदरूनी या बाहरी खतरे से कड़ाई से निपटा जाये । पाकिस्तान की ओर से पंजाब में गड़बड़ी करने की हाल में कोशिश की गई । पुलिस ने इनके मंसूबों को कुचल कर रख दिया । पाक खुफिया एजेंसी आईएसआई की शह पर प्रदेश में विभिन्न ग्रुपों की घुसपैठ की पाक फौज की कोशिश को भी करारा जवाब दिया गया।

उन्होंने कहा कि पाकिस्तान की अपनी समस्यायें हैं लेकिन इन समस्याओं को मैं अपनी समस्यायें नहीं बनने दूंगा । पिछले दो सालों में पंजाब पुलिस ने 28 आतंकवादी गुटों का पर्दाफाश किया तथा आईएसआई की शह पर पंजाब को तबाह करने की कोशिश करने वाले सौ से अधिक आतंकियों को गिरफ्तार किया गया ।

उन्होंने बताया कि उनका मानना है कि पाक प्रधानमंत्री इमरान खान शांति अमन चैन चाहते हैं लेकिन उनके इस रास्ते में फौज रूकावट पैदा कर रही है ताकि फैाज की चौधराहट कायम रहे । अब समय बदल गया है तथा पाकिस्तान को समझ लेना चाहिये कि यदि उसने अपने तौर तरीके नहीं बदले तो वो बर्बाद हो जायेंगे।गैंगस्टरों को चेतावनी देते हुये मुख्यमंत्री ने कहा कि गैंगस्टरवाद को खत्म करना उनकी सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता है । गुंडे या गैंगस्टर या तो हथियार डाल दें अन्यथा बुरे नतीजे भुगतने को तैयार रहें।

उन्होंने कहा कि वह उद्योग को प्रफुल्लित करने के लिये ठोस कदम उठा रहे हैं और इसीलिये ट्रक यूनियनों का खात्मा करना पड़ा । महिलाओं की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिये आवश्यक कदम उठाये हैं जिससे उद्योगों मेें कामकाजी महिलायें शिफ्ट डयूटी कर सकें । रात के समय पुलिस अब ऐसी महिलाओं को सुरक्षा देगी । दिन में भी वे पुलिस सहायता ले सकती हैं।

राज्य की तरक्की के लिए औद्योगिक विकास को महत्वपूर्ण सैक्टर बताते हुए कैप्टन सिंह ने कहा कि उद्योग और निवेशकों को उपयुक्त माहौल मुहैया करवाने पर ध्यान केंद्रित किया हुआ है जिससे पंजाब निवेश पक्ष से प्राथमिक ठिकाने के तौर पर उभरे। साल 2017 में लाई गई औद्योगिक नीति के तहत कारोबार को आसान बनाने के लिए सिंगल विंडो क्लीयरेंस, ऑनलाईन अजिऱ्याँ और मंजूरियां, उद्योगों के लिए बिजली पर सब्सिडी, व्यापार और उद्योग से सम्बन्धित मुख्य कानूनों में संशोधन के साथ-साथ जल नियमन जैसी सुविधायें निवेशकों को मुहैया करवाई गई हैं।

मुख्यमंत्री ने कृषि पर आधारित उद्योग की ज़रूरत पर ज़ोर देते हुये कहा कि औद्योगिक सैक्टर रोजग़ार के सही मौके मुहैया करवा कर पंजाब के नौजवानों को दूसरे मुल्कों की तरफ जाने को रोकने में मददगार साबित हो सकता है।

उन्होंने कहा कि अन्य राज्यों की तरह पंजाब को जी.एस.टी. का हिस्सा समय पर न मिलने के कारण वित्तीय समस्याओं से गुजरऩा पड़ रहा है। राज्य को अगस्त, 2019 से जी.एस.टी. का हिस्सा नहीं मिला है जो 6000 करोड़ रुपए बनता है। जी.एस.टी. के लागू होने से राज्य ने राजस्व निर्माण वाले अन्य सभी साधन केंद्र सरकार के हाथों में सौंप दिए हैं जिस कारण राज्यों के लिए ऐसी स्थिति पैदा हो जाती है।

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From state

Trending Now
Recommended