संजीवनी टुडे

एसआईटी जांच के खिलाफ नेता प्रतिपक्ष ने दायर की जनहित याचिका

संजीवनी टुडे 14-02-2019 16:52:45


रायपुर। छत्तीसगढ़ उच्च न्यायालय में भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष और नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने भूपेश बघेल की सरकार द्वारा विभिन्न मामलों की जांच करने के लिए गठित की गई स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम की कार्रवाई पर रोक लगाने याचिका दायर की है।

जयपुर में प्लॉट मात्र 2.30 लाख में Call On: 09314188188

उल्लेखनीय है कि 15 साल का वनवास काटने के बाद छत्तीसगढ़ की सत्ता में काबिज हुई कांग्रेस सरकार ने झीरम घाटी हत्याकांड, नागरिक आपूर्ति निगम घोटाला एवं अंतागढ़ टेप कांड मामलों में जांच के लिए एसआईटी का गठन किया है। 

नागरिक आपूर्ति घोटाले से संबंधित 36 हजार करोड़ के मामले में तो वरिष्ठ पुलिस अधिकारी आईपीएस मुकेश गुप्ता उप पुलिस अधीक्षक रजनीश सिंह को निलंबित भी किया गया है। इन लोगों के खिलाफ पुलिस में रिपोर्ट भी दर्ज हो चुकी है। 

अंतागढ़ मामले में पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी उनके पुत्र अमित जोगी, पूर्व मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह के दामाद पुनीत गुप्ता, पूर्व मंत्री राजेश मूणत एवं कभी कांग्रेस के सदस्य रहे एवं अंतागढ़ से कांग्रेस का पर्चा भरने के बाद ऐन वक्त पर नामांकन वापस लेने वाले मंतूराम पवार के खिलाफ भी एफ आई आर दर्ज की गई है।

बिलासपुर हाईकोर्ट ने याचिका दायर करने वाले भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष धरमलाल कौशिक ने कहा है कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल भ्रम फैलाने की राजनीति करके खुद को क्या साबित करना चाहते हैं। झीरम हत्याकांड पर बोलते हुए श्री कौशिक ने कहा कि एनआईए ने इस मामले में सभी बिंदुओं पर जांच कर ली है और अब यह प्रकरण न्यायिक प्रक्रिया में है। ऐसी स्थिति में एनआईए यह प्रकरण एसआईटी को कैसे सौंप सकती है। 

MUST WATCH & SUBSCRIBE

उन्होंने कहा है कि झीरम मामले में दाल में काला ढूंढने की माथापच्ची छोड़कर मुख्यमंत्री अपनी एसआईटी को उलझाने और प्रदेश को भरमाने से बाज आ जाए। उल्लेखनीय है कि भाजपा के नेता कांग्रेस सरकार पर बार-बार बार बदलापुर की राजनीति करने का आरोप लगाते रहे हैं, जबकि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल इसे बदलापुर की राजनीति बता रहे हैं।

More From state

Loading...
Trending Now
Recommended