संजीवनी टुडे

केंद्रीय श्रमिक संगठनों के तत्वावधान में विरोध प्रदर्शन

संजीवनी टुडे 02-08-2019 22:07:32

जयपुर में इंटक, एटक, एचएमएस, सीटू, राज सीटू, एक्टू से संलग्न श्रमिकों ने श्रम आयुक्त कार्यालय के बाहर प्रदर्शन किया।


जयपुर। केंद्र सरकार द्वारा देशभर के श्रमिकों को मजदूरी, बोनस आदि भुगतान से संबंधित चार श्रम कानूनों के स्थान पर ‘वेज कोड बिल’ एवं श्रमिकों की सुरक्षा स्वास्थ्य एवं सेवा शर्तों से संबंधित 13 श्रम कानूनों के स्थान पर ‘सेफ्टी कोड बिल’ पूंजीपति मालिकों को लाभ पहुंचाने की दृष्टि से संसद में प्रस्तुत कर पारित कराने की कार्यवाही के विरोध में केंद्रीय श्रमिक संगठनों के तत्वावधान में विरोध प्रदर्शन किया गया।

ु

जयपुर में इंटक, एटक, एचएमएस, सीटू, राज सीटू, एक्टू से संलग्न श्रमिकों ने श्रम आयुक्त कार्यालय के बाहर प्रदर्शन किया। प्रदर्शन को कर्मचारी नेता मुकेश माथुर, कुणाल रावत, रविंद्र शुक्ला, जीवन गुर्जर, रामपाल सैनी, एम एल यादव आदि ने संबोधित करते हुए कहा कि इन बिलों के लिए बनाई गई संसदीय समिति एवं ट्रेड यूनियन के विचार एवं सुझाव की केंद्र सरकार ने उपेक्षा करते हुए पूंजीपति मालिक तथा उनके संगठन के प्रतिनिधियों के सुझावों को सम्मिलित करते हुए यह बिल बनाए हैं।

ु

इनके लागू होते ही देशभर के श्रमिकों के हालात बदतर हो जाएंगे तथा पूंजीपति मालिकों द्वारा श्रमिकों के दमन, शोषण एवं उत्पीड़न का मार्ग प्रशस्त हो जाएगा उन्होंने कहा कि देशभर के श्रमिकों के हित में इन बिलों की पुन: समीक्षा की जानी चाहिए तथा श्रम संगठनों के प्रतिनिधियों से बातचीत करके एवं श्रमिक हित मे आम सहमति बनाकर ही कार्यवाही की जानी चाहिए। प्रदर्शन के बाद माननीय राष्ट्रपति के नाम एक ज्ञापन भी श्रम आयुक्त राजस्थान सरकार को सौंपा गया।

ु

प्रदर्शन में महेश मिश्रा, आर के सिंह, बी एम सुंडा, भंवर सिंह, घासी लाल शर्मा, आशिम खान, रमेश चतुर्वेदी, मुकेश चतुर्वेदी, विनीत मान, मीना सक्सेना, धर्मवीर चौधरी, विनोद राय, किशन सिंह सहित भारी संख्या में श्रमिकों ने भाग लिया। इसके अतिरिक्त संयुक्त प्रदर्शन अजमेर, कोटा, झुंझनु, बीकानेर, गंगानगर, ब्यावर, उदयपुर, चुरू, जोधपुर, झालरापाटन, सहित अनेक स्थानो पर केंद्र सरकार के विरुद्ध विरोध प्रदर्शन आयोजित हुए।

ु

गोवर्मेन्ट एप्रूव्ड प्लाट व फार्महाउस मात्र रु. 2600/- वर्गगज, टोंक रोड (NH-12) जयपुर में 9314166166

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

More From state

Trending Now
Recommended