संजीवनी टुडे

सोनागिर मेले की तैयारियाँ अंतिम चरण में, व्यवस्था चाक-चौबंद

संजीवनी टुडे 18-03-2019 22:13:52


दतिया। दतिया से 15 किलों मीटर दूर श्री दिगंबर जैन सिद्धक्षेत्र सोनागिर का वार्षिक मेला का आयोजन चैत्र कृष्ण एकम 21 मार्च से चैत्र कृष्‍ण पंचमी 25 मार्च तक किया जाएगा। जिसमें मेले में कौने-कौने से जैन धर्मावलंबी पहुंचेगें। मेले में कई सांस्कृतिक रंगरंगा कार्यकाम आयोजित किए जाएंगे। इस मेले में सम्मलित होने के लिए आचार्यश्री, मुनिश्री, आर्यिका एवं कई मुनिराज आएंगे ।

मात्र 240000/- में टोंक रोड जयपुर में प्लॉट 9314166166

आठवें तीर्थंकर भगवान चंद्रप्रभु यहां 17 बार आए सोनागिर कमेटी के महामंत्री बालचंद्र जैन ने हिस को बताया कि सोनागिर नाम की ये जगह मध्य प्रदेश के दतिया जिले में है। जैन धर्म में इस जगह को बहुत सम्मान से देखा जाता है। कहा जाता है कि जैन धर्म के आठवें तीर्थंकर भगवान चंद्रप्रभु यहां 17 बार आए थे। जैन धर्म में दिगंबर सम्प्रदाय के संत और अन्य भक्तों के लिए ये जगह महत्वपूर्ण तीर्थ के रूप में पूजी जाती है। 

भारत के सभी धर्मों व फिलॉसफी में मोक्ष को सबसे ऊंचा स्थान दिया गया है। काशी (बनारस) जैसी जगह के बारे में मान्यता है कि अगर वहां किसी की मृत्यु हो जाए तो उसे सीधे मोक्ष की प्राप्ति होती है। जिस खूबसूरत जगह के बारे में बता रहा है, वह काशी तो नहीं है, लेकिन जैन धर्म में सोनागिर इस जगह का स्थान और यहां की शांति और खूबसूरती का कोई जवाब नहीं। यहां की दो पहाड़ियों पर बने 77 सुंदर मंदिरों का नजारा किसी का भी मन मोहने के लिए पर्याप्त है।

मोक्ष को लेकर ये हैं किवदंती
जैन धर्म के अनुयायियों और स्थानीय कथाओं की मानें तो किसी जमाने में राजा नांगनाग कुमार इसी जगह जीवन और मृत्यु के चक्र से मुक्त हुए थे और मोक्ष को प्राप्त किया था। कथा के मुताबिक उनके बाद जैन धर्म के संत और अनुयायी मोक्ष और निर्वाण की तलाश में इस जगह आने लगे।

132 एकड़ में है 77 खूबसूरत मंदिर
जैन समाज के प्रवक्ता सचिन जैन ने बताया कि यहां पहाड़ी पर 132 एकड़ क्षेत्रफल में एक से बढ़कर एक 77 खूबसूरत मंदिर हैं। इनमें 57 नंबर का मंदिर मुख्य माना जाता है। मान्यता है कि आचार्य शुभ चंद्र और भर्तृहरि ने यहां रहते हुए कठिन तपस्या की। मंदिरों के इस परिसर को श्लघु सम्मेद शिखरश् भी कहा जाता है।

सोनागिर मेले पर रूकेंगे चार विशेष ट्रेन 9 दिन तक
21 मार्च से शुरू होने वाले सोनागिर मेले के लिए सोनागिर स्टेशन पर 18 मार्च से 26 मार्च तक चंबल एक्सप्रेस, बुलेन्दखण्ड एक्सप्रेस, लिंक एक्सप्रेस एवं उदयपुर इंटरसिटी एक्सप्रेस विशेष रूप से रूकेगी। वही पठानकोट एक्सप्रेस, छतीगढ़ एक्सप्रेस एवं पेंसीजर स्थाई रूप से रूकाती है। मध्यप्रदेश की डिपो बसे सोनागिर तिराहे पर यात्रियो की सुविधाओ के लिए रूकेगी।

पांच दिवसीय मेले मे निकलेंगी रथयात्राएं
पांच दिवसीय मेले में प्रतिदिन जिनालयों से भगवान चंद्रप्रभु की रथयात्राएं निकाली जाएंगी। पांच दिवसीय मेले में तेरहपंथी कोठी, बीस पंथी कोठी, मोह वाली कोठी, भिंड वाले मंदिर एवं खरौआ समाज द्वारा रथयात्राएं निकाली जाएंगी। रथयात्रा मंदिरों से शुरू होकर विशाल धर्मशाला में पहुंच कर कलशभिषेक होकर वपास मदिंर मे पहुंचकर संपन्न होगी। 

MUST WATCH & SUBSCRIBE

आयुक्त व आईजी कर चुके तैयारियों की समीक्षा
आयुक्त ग्वालियर संभाग बीएम शर्मा तथा आईजी चंबल संभाग योगेश देशभुख ने दतिया जिले का दौरा कर सोनागिर मेले की व्यवस्थायें देखी तैयारियों के संबंध में आवश्यक निर्देश दिए। इस दौरान कलेक्टर आरपीएस जादौन, पुलिस अधीक्षक डी कल्याण चक्रवती, अपर कलेक्टर टीएन सिंह, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक मंजीत सिंह चावला, आयुक्त ग्वालियर संभाग द्वारा सर्वप्रथम सोनागिर पहुंचकर होली पर लगने वाले वृहद मेले की तैयारियों का जायजा लिया। उन्होंने कहा कि मेले में सभी आवश्यक तैयारियां पूरी करें। इस बात का ध्यान रखें शांति व्यवस्था बनीं रहे और किसी भी प्रकार से आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन न हो।

More From state

Trending Now