संजीवनी टुडे

प्रभू श्रीराम वनगमन पथ स्थलों को किया जाएगा पर्यटन के रूप में विकसित

इनपुट- यूनीवार्ता

संजीवनी टुडे 21-11-2019 19:02:41

श्रीराम वनगमन पथ के महत्वपूर्ण स्थलों का राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर प्रचार करने के साथ-साथ प्रदेश के लोगों को इससे परिचित कराने हेतु इन स्थलों को पर्यटन की दृष्टि से विकसित किया जाएगा।


रायपुर। छत्तीसगढ़ सरकार ने प्रदेश में प्रभू श्रीराम वनगमन पथ के महत्वपूर्ण स्थलों का राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर प्रचार करने और प्रदेश के लोगों को इससे परिचित कराने के लिए इन स्थलों को पर्यटन की दृष्टि से विकसित करने का निर्णय लिया है।

यह खबर भी पढ़ें: ​भारतीय मछुआरों पर श्रीलंकाई नौसेना ने किया हमला, जालों को कर दिया नष्ट

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की अध्यक्षता में आज यहां हुई मंत्रिमंडल की बैठक के बाद प्रदेश के कृषि मंत्री रविन्द्र चौबे ने पत्रकारों को जानकारी देते हुए बताया कि प्रदेश में श्रीराम वनगमन पथ के महत्वपूर्ण स्थलों का राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर प्रचार करने के साथ-साथ प्रदेश के लोगों को इससे परिचित कराने हेतु इन स्थलों को पर्यटन की दृष्टि से विकसित किया जाएगा।

चौबे ने कहा कि शोध प्रकाशनों के अनुसार भगवान श्रीराम ने प्रदेश में वनगमन के दौरान लगभग 75 स्थलों का भ्रमण किया था, जिसमें से 51 स्थल ऐसे हैं, जहां प्रभु राम ने भ्रमण के दौरान रूक-रूककर कुछ समय व्यतीत किया था। शोधकर्ताओं ने अपने शोध के दौरान प्रभु श्रीराम के इन स्थलों में भ्रमण किए जाने की पुष्टि की है।

चौबे ने बताया कि सरकार द्वारा इन राम वनगमन पथ का पर्यटन की दृष्टि से विकास की योजना पर कार्य किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि राम वनगमन स्थलों में प्रथम चरण में 8 जिलों के स्थलों को पर्यटन के रूप में विकसित किया जाएगा। इस योजना के तहत कार्य का शुभारंभ रायपुर जिले के चंद्रखुरी में स्थापित माता कौशल्या मंदिर स्थित स्थल से किया जाएगा।

चौबे ने बताया कि मंत्रिमंडल की बैठक में 25 नवंबर से प्रारंभ होने जा रहे विधानसभा के शीतकालीन सत्र में पेश किए जाने वाले अनुपूरक बजट का अनुमोदन भी किया गया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

More From state

Trending Now
Recommended