संजीवनी टुडे

स्थापना दिवस के मौके पर नामचर्चा घरों में जुटी भीड बिगाड़ सकती है राजनैतिक समीकरण

संजीवनी टुडे 21-04-2019 21:52:23


कुरुक्षेत्र। पिछले लंबे समय से हरियाणा की राजनीति में अहम रहने वाले डेरा सच्चा सौदा की ओर सभी राजनैतिक पार्टियों की नजरें टिकी हुई हैं। 29 अप्रैल को डेरा सच्चा सौदा का स्थापना दिवस है, लेकिन रविवार को पिपली नामचर्चा घर सहित प्रदेश के कई जिलोंं में कार्यक्रमों का आयोजन किया गया। इस दौरान जरूरमंद लोगों की मदद भी की गई। कार्यक्रम में राजनैतिक विंग व प्रदेश 45 सदस्यीय कमेटी के सदस्यों ने संबोधित किया व साध संगत को एक रहने का आह्वान किया। जानकारी के अनुसार कुरुक्षेत्र लोकसभा में डेरा सच्चा सौदा की साध संगत की एक लाख से ज्यादा वोट हैं। 

मात्र 240000/- में टोंक रोड जयपुर में प्लॉट 9314166166

ु

राजनैतिक विंग के सदस्य जोगिंद्र सिंह व कृपा राम ने माना भी कि वे साध संगत से राय ले रहे हैं कि किस पार्टी को समर्थन किया जाए। वहीं यह भी माना कि हर बार की भांति इस बार भी कुछ दिन पहले ही किसी पार्टी को समर्थन दिया जा सकता है।

ु

डेरा मुखी बाबा गुरमीत राम रहीम के समर्थन की बात पर उन्होंने कहा कि बाबा कि ओर से कभी भी किसी पार्टी का समर्थन नहीं किया गया। हर बार डेरा सच्चा सौदा की राजनैतिक विंग ही साध संगत से सलाह कर समर्थन देती है। बाबा राम रहीम ने न तो पहले कभी किसी को समर्थन देने की बात कही और न ही अबकि बार कहेंगें।

डेरा सच्चा सौदा सिरसा के अनुयायियों के कई लाख वोट किस राजनैतिक दल या इनमें से किस-किस प्रत्याशी की झोली में जाएंगे, अभी तक यह तय नहीं हुआ है। इसे लेकर असमंजस की हालत बनी हुई है। जब से चुनावी रंग चढ़ने लगा है तब से ही डेरा सच्चा सौदा ने हर जिले में गतिविधियां भी बढ़ा दी हैं इससे साफ जाहिर है कि डेरे का रुख अचानक बदल सकता है। 

MUST WATCH & SUBSCRIBE

डेरे के स्थापना दिवस पर जिस तरह से डेरा प्रेमियों ने दूसरे प्रदेशों में व हरियाणा प्रदेश के सभी जिलों में भारी हाजरी प्रदर्शित करके डेरे में एकजुटता होने का एहसास कराया है, उससे साफ जाहिर है कि डेरा पूरी तरह से सक्रीय है। माना जा रहा है कि हरियाणा की दस लोकसभा सीटों पर और विधानसभा के चुनावों में डेरे से जुडे़ मतदाता समीकरणों को बडे़ पैमाने पर प्रभावित करते रहे हैं।

More From state

Trending Now
Recommended