संजीवनी टुडे

पीएम नरेंद्र मोदी ने ली महिलाओं की सुध, असंभव को किया मुमकिनः रघुवर दास

संजीवनी टुडे 25-02-2019 20:20:46


रांची। मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि राज्य की महिला शक्ति के रूप में जल सहिया बहनों और रानी मिस्त्रियों ने पूरे देश में झारखंड का मान बढ़ाया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने महिलाओं की सुध ली और असंभव को मुमकिन कर दिखाया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के स्वच्छ भारत मिशन के सपने को साकार करने में झारखंड अग्रणी राज्यों की गिनती में आता है। निर्धारित लक्ष्य से एक साल पहले ही झारखंड पूर्ण ओडीएफ हो चुका है। इस कामयाबी को हासिल करने में राज्य की महिलाओं ने अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। यह जल सहिया बहनों और रानी मिस्त्रियों के अथक प्रयास का ही प्रतिफल है कि आज संपूर्ण झारखंड शत प्रतिशत खुले में शौच मुक्त है। सोमवरा को मुख्यमंत्री दास रांची के खेलगांव आयोजित राज्य स्तरीय जल सहिया सम्मेलन 2019 को संबोधित कर रहे थे। 

मुख्यमंत्री दास ने कहा कि आजादी के 67 वर्ष बीत जाने के बाद भी देश की महिलाओं की समस्याओं पर किसी भी सरकार की नजर नहीं थी, परंतु वर्ष 2014 में देश में नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में सरकार के गठन होने के बाद से ही महिलाओं को सम्मान मिलना प्रारंभ हुआ। प्रधानमंत्री मोदी ने महिलाओं की पीड़ा को समझते हुए पूरे देश में स्वच्छ भारत मिशन के तहत शौचालय निर्माण के साथ-साथ साफ सफाई के लिए एक मुहिम चलाई। आज महिलाएं सम्मान की जिंदगी जी रही हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्तमान में महिलाएं पुरुषों की अपेक्षा किसी भी क्षेत्र में कम नहीं है। महिलाओं को सिर्फ प्लेटफॉर्म उपलब्ध कराने की जरूरत है और यह काम राज्य सरकार प्रतिबद्धता के साथ कर रही है। उन्होंने कहा कि भारतीय संस्कृति में नारी शक्ति की पूजा होती है। समाज में नारी शक्ति का सबसे ऊंचा स्थान है। उन्होंने कहा कि झारखंड आर्थिक विकास करने वाले राज्यों की सूची में गुजरात के बाद दूसरे स्थान पर है। आजादी के बाद पहली बार राज्य में डिस्ट्रिक्ट माइनिंग फंड द्वारा प्राप्त राजस्व की 30% राशि का खर्च जिलों के पेयजल आपूर्ति कार्य और अन्य विकास कार्यों में खर्च करने का प्रावधान राज्य सरकार द्वारा किया गया है। सोलर के माध्यम से टंकी लगाकर घर-घर पाइपलाइन से पानी पहुंचाना सरकार की प्राथमिकता है। मुख्यमंत्री ने कहा कि गैर आदिवासी गांवों में केंद्र सरकार द्वारा 14वें वित्त आयोग के पैसों से पानी पहुंचाने का कार्य किया जाएगा। उन्होंने कहा कि पिछले दिनों राज्य के सभी मुखिया के साथ बैठक आयोजित की गई थी। इस बैठक में गांव में मुख्यतः 3 योजनाओं को लागू करने पर विचार किया गया था। इन 3 योजनाओं में पेयजल आपूर्ति योजना, सभी पंचायतों में 200 एलईडी स्ट्रीट लाइट लगाने की योजना तथा ग्रामीण सड़कों को पेवर ब्लॉक के माध्यम से बनाना सुनिश्चित किया गया है। उन्होंने कहा कि शहर की व्यवस्था को गांव तक पहुंचाना सरकार का लक्ष्य है। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार की सभी योजनाएं आम जनता के आकांक्षाओं के अनुरूप बनाई गई हैं। योजनाओं में आम जनता की जितनी सहभागिता होगी योजनाएं उतनी ही सफल होंगी। इस अवसर पर पेयजल एवं स्वच्छता विभाग के मंत्री चंद्र प्रकाश चौधरी, पेयजल एवं स्वच्छता विभाग की सचिव आराधना पटनायक, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव डॉ. सुनील कुमार वर्णवाल, पेयजल एवं स्वच्छता विभाग के केंद्रीय संयुक्त सचिव हिरण्य बोराह, पेयजल एवं स्वच्छता विभाग के अभियंता प्रमुख श्वेताभ कुमार सहित रांची, खूंटी, रामगढ़, लोहरदगा, हजारीबाग एवं गुमला जिले से हजारों की संख्या में पहुंची जल सहिया बहनें और रानी ने मिस्त्रीयां उपस्थित थीं। पूरे राज्य की जलसहिया ऑनलाइन जुड़ी हुई थी। 

जयपुर में प्लॉट मात्र 2.30 लाख में Call On: 09314188188

मुख्यमंत्री ने की जल सहिया दीदीयों को ₹1000 प्रतिमाह मानदेय देने की घोषणा
मुख्यमंत्री दास ने राज्य की जल सहिया बहनों को मार्च 2019 से एक हजार रुपए प्रतिमाह मानदेय राशि देने की घोषणा की। इसके अतिरिक्त अलग से प्रोत्साहन राशि देने की भी घोषणा की। यह राशि डीवीटी के माध्यम से सीधे जल सहिया दीदियों के बैंक अकाउंट में भेजी जाएगी। उन्होंने कहा कि जल सहिया बहनों की लंबे समय से मांग थी कि उन लोगों को मानदेय नहीं मिलता है। सरकार द्वारा उनकी मांगों को गंभीरता से लिया गया तथा राज्य की प्रत्येक जल सहिया बहनों को ₹1000 प्रतिमाह मानदेय देने की स्वीकृति कैबिनेट द्वारा दी गई। जल सहिया बहनों के लिए किया गया वादा आज हमारी सरकार ने पूरी की है। जल सहिया बहनों को स्वच्छता एवं पेयजल के क्षेत्र में किए जा रहे मूल कार्यों के लिए यह मानदेय दिये जाएंगे। साथ ही इसके अतिरिक्त की जा रही गतिविधियों के लिए प्रोत्साहन राशि भी दी जाएगी।

MUST WATCH & SUBSCRIBE

झारखंड राज्य की रानी मिस्त्री पूरे देश में चर्चित, जल सहिया बहनों को मिलेगी प्लंबर की ट्रेनिंग
मुख्यमंत्री दास ने कहा कि झारखंड राज्य की रानी मिस्त्री पूरे देश में चर्चित रहीं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने "मन की बात" कार्यक्रम में राज्य की रानी मिस्त्रियों द्वारा शौचालय निर्माण के क्षेत्र में किए गए अनुकरणीय कार्यों की जमकर सराहना की थी। राज्य में नारी शक्ति सामाजिक बदलाव का सबसे बड़ा आधार हैं। नारी शक्ति ने ही राज्य में कृषि उद्योग, पशुपालन, बागवानी इत्यादि छोटे-छोटे लघु एवं कुटीर उद्योगों को संभालने का काम किया है। राज्य की आदिवासी बहनों में अपार क्षमता है। परिवार की इस शक्ति को हमें राज्य एवं राष्ट्र की शक्ति बनानी है। वर्ष 2014 तक झारखंड मात्र 18% खुले में शौच मुक्त था। पिछले 4 वर्षों में राज्य शत प्रतिशत खुले में शौच मुक्त हुआ है अर्थात स्वच्छ भारत मिशन के तहत राज्य में मिशन मोड पर शौचालयों का निर्माण हुआ। इ

More From state

Trending Now
Recommended