संजीवनी टुडे

श्री गुरुनानकदेव के 550 वें प्रकाशोत्सव में खूब बही आस्था की बयार, गुरू ग्रंथ साहब का मांगा आशीष

इनपुट- यूनीवार्ता

संजीवनी टुडे 12-11-2019 22:30:18

उत्तर प्रदेश श्रद्धा के सैलाब में गोते लगाता नजर आया। समूचे राज्य के विभिन्न गुरूद्वारो में श्रद्धालुओं ने मत्था टेका और परिवार के लिये गुरू ग्रंथ साहब का आशीष मांगा।


लखनऊ। श्री गुरुनानकदेव के 550 वें प्रकाश पर्व पर मंगलवार को उत्तर प्रदेश श्रद्धा के सैलाब में गोते लगाता नजर आया। समूचे राज्य के विभिन्न गुरूद्वारो में श्रद्धालुओं ने मत्था टेका और परिवार के लिये गुरू ग्रंथ साहब का आशीष मांगा।

यह खबर भी पढ़ें: बेटियों ने पिता को मुखाग्नि देकर सम्पन करवाई अंतिम संस्कार की प्रक्रिया, भर आई सभी की आंखें

इस दौरान गुरूद्वाराें में शबद कीर्तन की अमृत गंगा बहती रही। तड़के प्रभात फेरियां निकाली गयी और गुरूवाणी का अमृत आत्मसात करने के बाद श्रद्धालुओं ने लंगर छका। लखनऊ के डीएवी काले ज ग्राउंड पर आयोजित कार्यक्रम में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सिख गुरूओं की महिमा का बखान किया और उन्हे त्याग और बलिदान की प्रतिमूर्ति बताया।

लखनऊ के नाका,निशातगंज,आलमबाग और अहियागंज समेत विभिन्न गुरूद्वारों में लाखों श्रद्धालुओं ने मत्था टेका और गुरू ग्रंथ साहिब का आशीष ग्रहण किया। डीएवी कालेज ग्राउंड पर श्री योगी ने कहा कि देश और मानवता के लिये सिख गुरूओं के बलिदान को भुलाया नहीं जा सकता। करीब 550 साल पहले देश विदेशी आतिताइयो के आक्रमण, धर्म और सच्चाई के मूल्यों के हनन जैसी गंभीर समस्यायों का सामना कर रहा था। उस कालखंड में गुरूनानक देव जी ने अपने दिव्य प्रकाश से मानव कल्याण की राह दिखायी।

उन्होने कहा “ गुरूनानक देव जी ने विदेशी मुगल शासक बाबर का सामना करने का साहस दिखाया जब देश के लोग उसके उत्पीड़न का शिकार थे। धर्म, सच्चाई और बहन बेटियो का आदर करने के मामलों में समाज का एक बडा वर्ग अपनी आवाज उठाने से डरता था। उस समय गुरूनानक देवजी ने समाज को ज्ञान के उजाले के साथ नयी राह दिखायी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

More From state

Trending Now
Recommended