संजीवनी टुडे

बीकानेर/ रेल फाटकों की समस्या का स्थायी समाधान एकमात्र बाईपास ही विकल्प- कल्ला

संजीवनी टुडे 15-02-2020 16:25:11

राजस्थान के ऊर्जा मंत्री डॉ. बी.डी.कल्ला ने शनिवार को एक बार फिर यही बात दोहरायी कि यहां की वर्षों पुरानी रेलफाटकों की समस्या का स्थायी समाधान केवल और केवल एकमात्र बाईपास ही विकल्प है। इस दिशा में शीघ्र ही कार्रवाई के लिए एक शिष्टमण्डल मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के साथ बैठक कर समस्या के समाधान सम्बन्धी सुझाव देगा।


बीकानेर। राजस्थान के ऊर्जा मंत्री डॉ. बी.डी.कल्ला ने शनिवार को एक बार फिर यही बात दोहरायी कि यहां की वर्षों पुरानी रेलफाटकों की समस्या का स्थायी समाधान केवल और केवल एकमात्र बाईपास ही विकल्प है। इस दिशा में शीघ्र ही कार्रवाई के लिए एक शिष्टमण्डल मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के साथ बैठक कर समस्या के समाधान सम्बन्धी सुझाव देगा। साथ ही रेलमंत्री के साथ भी मीटिंग करके सरकार का पक्ष रखा जाएगा जिसमें रेल बाईपास बनाने पर सहमति हो सके इसके लिए उच्च स्तर पर सार्थक प्रयास किए जाएंगे। कल्ला ने बीकानेर प्रवास के दौरान अपने निवास पर रेल बाईपास निर्माण की मांग के संबंध में आए शिष्टमंडल को यह जानकारी दी। 

उन्होंने कहा कि रेल बाईपास बनाने के लिए वर्षों से वे प्रयासरत हैं और शीघ्र ही इस पर निर्णय करवा कर आमजन को राहत पहुंचाई जाएगी। उन्होंने कहा कि बहुत जल्द ही मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, भारत सरकार के रेल मंत्री, बीकानेर के सांसद व केंद्रीय राज्य मंत्री अर्जुनराम मेघवाल और वे स्वयं इस विषय पर बैठक करेंगे जिससे रेल बाईपास पर कोई ठोस नीतिगत निर्णय लिया जा सके। 

डॉ कल्ला ने कहा कि इसके साथ ही 25 से 29 फरवरी के बीच मुख्यमंत्री के साथ बीकानेर के प्रबुद्ध लोगों की एक बैठक आयोजित की जाएगी। शनिवार को ऊर्जा मंत्री से मिले इस शिष्टमंडल में पूर्व विधायक व वरिष्ठ अधिवक्ता आर के दासगुप्ता, अध्यक्ष व्यापार एसोसिएशन नरपत सेठिया, उमेश मेंहदीरत्ता, शांतिलाल कोचर, लोकेश राजवानी, सुमित कोचर सहित अन्य गणमान्य लोगों व विशेषज्ञों को आमंत्रित किया जाएगा ताकि बीकानेर बाईपास निर्माण संबंधी पक्ष मुख्यमंत्री के सामने रखा जा सके और समस्या के समाधान के लिए आवश्यक कदम उठाकर रेल फाटकों की समस्या से बीकानेर की जनता को निजात दिलाई जा सके। 

रेल बाईपास बनाने के लिए पूर्व में दिए थे 61 करोड़ः ऊर्जा मंत्री ने जानकारी देते हुए बताया कि वर्षों पूर्व भी रेल मंत्रालय को बाईपास बनाने के लिए 61 करोड़ 62 लाख रुपये दिए गए थे। उन्होंने बताया कि पिछले सप्ताह रेलवे महाप्रबंधक से मिलकर रेल बाईपास बनाने के लिए उन्हें बताया गया था तब महाप्रबंधक ने सैद्धांतिक रूप से इस पर सहमति व्यक्त की थी कि बीकानेर में रेल फाटकों की समस्या का एकमात्र समाधान रेल बाईपास ही है। डॉ कल्ला ने कहा कि आने वाले कुछ वर्षों में रेलवे द्वारा पूरे देश में रेल यातायात विद्युत आधारित होगा और रेलवे सभी स्थानों पर डबल लाइन भी डालेगा। ऐसे में बीकानेर के कोटगेट सहित अन्य स्थानों पर न तो विद्युत लाइन से चलने वाली रेल निकल पाएगी और ना ही डबल लाइन बन सकेगी, ऐसे में रेल मंत्रालय को बाईपास बनाना अनिवार्य होगा। अगर अभी रेल मंत्रालय राज्य सरकार और स्थानीय जिला प्रशासन के सहयोग से बाईपास का निर्माण कार्य करता है तो यह कार्य तेजी से और बेहतर ढंग से पूर्ण हो सकेगा। 

यह खबर भी पढ़ें:​ इस मॉडल का प्लस साइज फिगर देख बूढ़े भी हो जायेंगे जवान, देखें PICS

यह खबर भी पढ़ें:​ LOVE AAJ KAL: कार्तिक-सारा के बीच इंटिमेट और किसिंग सीन्स पर चली सेंसर बोर्ड की कैंची

जयपुर में प्लॉट मात्र 289/- प्रति sq. Feet में  बुक करें 9314166166

 

 

 

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From state

Trending Now
Recommended