संजीवनी टुडे

लॉकडाउन: भारत-नेपाल सीमा पर फंसे लोगों को बिहार में नो एंट्री, वहीं होगी रहने-खाने की व्यवस्था

संजीवनी टुडे 31-03-2020 18:46:50

नेपाल में लॉकडाउन होने के बाद ये कामगार अपने घर बिहार आ रहे थे, लेकिन बॉर्डर पर ही उन सभी लोगों को रोक दिया गया और बिहार में घुसने की इजाजत नहीं दी गई।


पटना। भारत-नेपाल सीमा पर फंसे लोगों को बिहार में इंट्री नहीं मिलेगी। बिहार के रक्सौल में भारत-नेपाल बॉर्डर पर दो हजार से अधिक भारतीय फंसे हैं। इनमें लगभग सभी लोग मजदूर वर्ग के हैं। नेपाल में लॉकडाउन होने के बाद ये कामगार अपने घर बिहार आ रहे थे, लेकिन बॉर्डर पर ही उन सभी लोगों को रोक दिया गया और बिहार में घुसने की इजाजत नहीं दी गई। हां, वहीं बॉर्डर पर ही उनके रहने और खाने की व्यवस्था की जाएगी। मुख्य सचिव दीपक कुमार ने कोरोना पर हुए क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप की बैठक के बाद मंगलवार को यह जानकारी दी।  

सीमावर्ती जिलों के डीएम को जल्द से जल्द आपदा राहत केंद्र खोलने का निर्देश
बैठक में मुख्य सचिव ने आपदा सीमा राहत केंद्रों की स्थिति की पड़ताल की। उन्होंने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग द्वारा सीमावर्ती जिलों के भोजपुर, कैमूर, बक्सर, औरंगाबाद, भागलपुर, बांका, जमुई, नवादा, गया, पूर्वी और पश्चिमी चम्पारण, सीतामढ़ी, मधुबनी, सुपौल, अररिया, किशनगंज, पूर्णिया, कटिहार, छपरा, सीवान और गोपालगंज समेत सभी सीमावर्ती जिलों के डीएम और एसपी से जानकारी ली। साथ ही जल्द से जल्द अपने जिलों में आपदा सीमा राहत केंद्र खोलने का आदेश दिया।

आपदा सीमा राहत केंद्र में लोगों को रखा जायेगा
मुख्न्य सचिव ने बताया कि प्रवासी लोगों को हर हाल में बिहार सीमा पर रोका जा रहा है। दिल्ली के अलावा मुंबई, हरियाणा और पंजाब से भी बड़ी संख्या में बिहार के लोग अपने घर लौटने के रास्ते में हैं। झारखंड और पश्चिम बंगाल से भी कुछ लोग आ रहे हैं। उनको फिलहाल घर जाने की इजाजत नहीं मिलेगी। बॉर्डर पर बड़े-बड़े आपदा राहत केंद्र बनाये गये हैं। प्रत्येक सीमावर्ती जिलों में बने कैंपों में 3 से 5 हजार लोगों के ठहरने और खाने की व्यवस्था की गई है। वहीं उनलोगों को क्वारेंटाइन किया जायेगा। 

बीते रविवार से ही सीमा पर जमा होने लगे थे लोग
भारत और नेपाल में लॉकडाउन के बीच नेपाल में मजदूरी करने वाले लोग परिवार अपने बच्चों के साथ रविवार की देर रात से ही रक्सौल-वीरगंज मैत्री पुल के पास जमा होने लगे थे। कुछ मजदूरों को नेपाल सरकार की ओर से बसों में बॉर्डर तक छोड़ा गया। अभी करीब दो हजार लोग वहां जमा हो गए हैं और देश में प्रवेश करना चाह रहे हैं। लोगों की संख्या को देखते हुए पुल को बंद कर दिया गया है। एसएसबी के जवान भी अलर्ट हैं। वे प्रशासनिक आदेश मिलने के बाद लोगों की जांच करने की बात कह रहे हैं।

यह खबर भी पढ़े: कोरोना का कहर: शहर में तेजी से मिल रहे संक्रमित मरीज, खतरे में इंदौर!

यह खबर भी पढ़े: डॉक्टर और कर्मचारियों के लिए बन रहे पांच हजार एंटी वायरस सूट, नहीं रहेगा संक्रमण का खतरा

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From state

Trending Now
Recommended