संजीवनी टुडे

अधिकारियों की मनमानी के चलते पानी को तरस रहे लोग

संजीवनी टुडे 16-06-2019 15:24:57

पीएचई विभाग के अधिकारियों की मनमानी के चलते ग्रामीण पानी को तरस रहे हैं।


उमरिया। सरकार लाख दावे करे, लेकिन जिलों में पेयजल की उपलब्धता निश्चित नहीं कर पा रही है। ऐसा ही मामला ग्राम पंचायत ओबरा का है, यहाँ पीएचई विभाग के अधिकारियों की मनमानी के चलते ग्रामीण पानी को तरस रहे हैं। दरअसल, उमरिया जिले के करकेली जनपद अंतर्गत आने वाली पंचायत ओबरा जिले की सबसे बड़ी पंचायत है। इसमें 1 हजार  घर की बस्ती ग्राम बेलमना और 1 हजार घर की बस्ती ग्राम ओबरा शामिल है। करीब 70 घर की बस्ती इंदिरा आवास कालोनी भी है। यहां के हैण्डपम्प सूखे हुए हैं और बोर भी बंद हो गए हैं। यहां वाटर सप्लाई बेलमना के नाम से ओवरहेड टैंक बनाया गया, जो बनते के साथ लीक हो गया और जो पाईप लाईन बिछाई गई है, वह भी कहीं पर मोटी और कहीं पर पतली है, जिसके चलते पानी सप्लाई नहीं हो पा रहा है। आये दिन मोटर भी जलती रहती है जिससे महीनों पानी सप्लाई बंद रहता है।

दो किलोमीटर दूर से पानी ला रहे ग्रामीण बलीराम कोल का कहना है कि हमारे मोहल्ले के लोग दिन रात पानी यहीं स्कूल के हैण्ड पम्प से ढोते हैं | इस मामले में जब सरपंच पुत्र राजा राम दाहिया से बात की गई, तो उन्होंने कहा कि पानी की बहुत समस्या है। पीएचई वाले आकर खुद देखे हैं। 2015 में हम कार्य भार संभाले हैं। इसके पहले 2012 में टंकी बनकर तैयार हो गई थी, लेकिन एक भी घर में पानी नहीं जा रहा था, हमने टंकी चालू करवाया। 50 परिवार इससे लाभान्वित हो रहे हैं। बेलमना में तीन-चार सौ परिवारों को पानी देना है, बाकी लोगों ने लिए हमने पीएचई से कहा है और आवेदन भी दिए हैं। हमारे पास पावती भी है। हैण्डपम्प सूखे हैं, हवा उगल रहे हैं उनका रखरखाव पीएचई नहीं कर रहा है। ठेकेदार नहीं सुनता है और विभाग कोई सहयोग नहीं करता है |

गाँव के ही युवक चन्दन शुक्ला ने बताया कि गाँव में विधायक शिव नारायण सिंह आये थे, तो हम लोगों ने उनसे कहा कि गाँव में पानी की बहुत समस्या है, आप निराकरण कीजिये। उन्होंने कहा कि अभी हमारे पास बजट नहीं है, जैसे ही आयेगा मैं कुछ कोशिश करूंगा फिर भी आप 10 दिन बाद उमरिया पंहुचिये, मैं तत्काल आपकी समस्या का निराकरण कर दूंगा। हम वाहन लेकर गए थे कि शायद कुछ व्यवस्था हो पायेगी, लेकिन हमें वहां असफलता मिली। सरपंच के साथ खाली हाथ वापस चले आये। अब तो विधायक फोन भी नहीं उठाते हैं। इस समस्या का निराकरण करने को तैयार ही नहीं हैं। 

बांधवगढ़ विधायक शिव नारायण सिंह से बात की गई, तो उन्होंने सरपंच को ही दोषी ठहराते हुए कहा कि मैंने सरपंच को कहा था कि मेरे पास विधायक मद नहीं है, जैसे ही 2019 का मेरे पास आयेगा आप एस्टीमेट बनाकर दे देना, मैं पात्र लिख दूंगा, आप स्वीकृत करा कर पाईप लाईन के माध्यम से जनता को पानी उपलब्ध करा दीजिएगा, लेकिन आज तक सरपंच न कोई प्रस्ताव लाये, न कुछ किये बस फोन से ही हैलो हाय करते हैं |

इस मामले में जिले के कलेक्टर स्वरोचिष सोमवंशी से बात की गई, तो उनका कहना है कि इस विशेष प्रकरण के बारे में मुझे अभी जानकारी मिली है, लेकिन समान्य रूप से हम लोगों ने पेयजल की समीक्षा की है और पंच परमेश्वर मद से 10 प्रतिशत राशि पेयजल के लिए उपयोग करने के निर्देश हैं। इसका रिव्यू किया गया है लेकिन जो आप बता रहे हैं यह बहुत ही गंभीर विषय है। इस ग्राम पंचायत में मैं विशेष टीम भेजकर जांच करवाता हूँ और कोई लापरवाही हुई तो कार्यवाई भी करूंगा।

मात्र 220000/- में टोंक रोड जयपुर में प्लॉट 9314188188

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

More From state

Trending Now
Recommended