संजीवनी टुडे

ग्राम विकास अधिकारी के चार्ज नहीं देने पर पंचायत की हुई तालाबंदी

संजीवनी टुडे 30-07-2019 21:32:37

सरपंच के नेतृत्व में वार्ड पंच व ग्रामीणों ने पंचायत ने की तालाबंदी


सुमेरपुर। तखतगढ- सुमेरपुर उपखंड क्षेत्र के धणा ग्राम पंचायत सरपंच नीतू आदिवाल ने वार्ड पंचों व ग्रामीणों के साथ मिलकर ग्राम विकास अधिकारी के करीब डेढ़ माह के बाद भी चार्ज हस्तांतरण नहीं करने को लेकर पंचायत पर की तालाबंदी । वहीं पंचायत की तालाबंदी कर प्रशासन के खिलाफ हाय हाय की नारेबाजी भी की । 

सरपंच ने बताया कि इस समस्या को लेकर कलेक्टर, जिला परिषद, एसडीएम , विकास अधिकारी  को ज्ञापन से अवगत कराया गया । लेकिन फिर भी ग्राम विकास अधिकारी ने नवनियुक्त ग्राम विकास अधिकारी को चार्ज नहीं सौंपा । जिससे ग्राम विकास कार्य में समस्या पनप रही हैं वहीं करीब-करीब साढे 4 साल तो बीत गए पंचायत कार्यकाल के बहुत कम समय रहने पर विकास कार्य सारे अधर झूल में अटक गए हैं । वहीं ग्रामीणों ने भी पंचायत सरपंच के संयुक्त मिलकर प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी की।

ज्ञात रहे कि 17 जून को ग्राम विकास अधिकारी गुणेशसिंह को एपीओ कर सुमेरपुर विकास अधिकारी नारायण सिंह राजपुरोहित ने ग्राम विकास अधिकारी राजेंद्र सोलंकी के आदेश जारी किए थे की वर्तमान में पंचायत समिति मुख्यालय के ग्राम पंचायत धणा के ग्राम विकास अधिकारी पद पर लगाया जाता है जिसके बाद धना ग्राम पंचायत में  18 जून को  कार्य ग्रहण कर लिया था लेकिन इसके उपरांत 30 जुलाई तक गुणेशसिंह द्वारा वर्तमान ग्राम विकास अधिकारी राजेंद्र सोलंकी को चार्ज का हस्थानांतरण नहीं करने को लेकर मजबूरन सरपंच व ग्रामीणों को ग्राम पंचायत की तालाबंदी करनी पड़ी। 

ु

वही सरपंच ने बताया कि विकास अधिकारी सुमेरपुर को चार से पांच बार व्यक्तिगत रूप से एवं फोन पर सूचना दे चुकी लेकिन फिर भी कोई सुनवाई नहीं हुई जिसको लेकर 23 जुलाई को जिला कलेक्टर ,पाली मुख्य कार्यकारी अधिकारी ,जिला परिषद पाली ,उपखंड अधिकारी सुमेरपुर, एससी-एसटी आयोग राजस्थान सरकार को भी इस समस्या समाधान के लिए लिखित रूप से अवगत करवाया गया । वहीं ज्ञापन में बताया कि ग्राम विकास अधिकारी गुणेशसिंह ने 17 जून से आज दिन तक मुझ सरपंच कार्यालय अध्यक्ष की बिना जानकारी के ग्राम पंचायत के विभिन्न खातों से विभिन्न कार्यो एवं व्यक्तियों को 20 लाख से अधिक राशि का भुगतान किया गया है जिसमें घपला होने की आशंका जगाई हैं और जिला कलेक्टर से गहनता से जांच करवाने की मांग की है ।

में एक दलित सरपंच होने के नाते नहीं हो रही मेरी सुनवाई - सरपंच ।

वहीं सरपंच नीतू आदिवाल ने ज्ञापन में बताया कि में एक दलित सरपंच होने के नाते प्रशासन द्वारा मेरी कोई सुनवाई नहीं हो रही है और दबंगों द्वारा मेरी आवाज को दबाया जा रहा है । 

क्या कहना विकास अधिकारी का।

सुमेरपुर विकास अधिकारी ने बताया कि धणा ग्राम पंचायत का चार्ज गुणेशसिंह के पास था जिनकी जगह पर राजेंद्र सोलंकी को लगाया गया है अब सभी ग्राम पंचायत ई ग्राम पंचायत है जहां बैंकों में गुणेशसिंह के हस्ताक्षर हटाकर राजेंद्र सोलंकी के हस्ताक्षर करवा दिए हैं जो कोई दस्तावेज अभी आधे अधूरे दिए हैं जिसको लेकर गुणेशसिंह ने कहा कि मैं वह कंप्लीट करके दे दूंगा जहां पर सीओ को भिजवा दिया है और एक-दो दिन में चार्ज हस्थानांतरण करवा दिया जाएगा । 

क्या कहना सरपंच का।
सरपंच ने बताया कि गुणेशसिंह को 17 जून को एपीओ किया गया था उसके बाद में राजेंद्र सोलंकी को यहां पर लगाया गया था लेकिन डेढ़ महीना होने को आया जो चार्ज नहीं देने को लेकर ग्रामीण विकास कार्यों में रोड़ा बना हुआ है । जिसको लेकर जिला कलेक्टर ,जिला परिषद ,उपखंड अधिकारी, विकास अधिकारी को ज्ञापन भी दे चुकी हूं लेकिन अभी तक कोई सुनवाई नहीं हुई है । उपसरपंच ने बताया कि बच्चों के स्कूल खुलने के बाद में कई प्रकार के हस्ताक्षर करवाने होते हैं लेकिन ग्राम विकास अधिकारी मुख्यालय चार्ज नहीं देने के कारण बच्चों को एवं ग्रामीणों को भी काफी समस्या का सामना करना पड़ रहा है । उप सरपंच भेराराम देवासी ।

एपीओ गुणेशसिंह ने बताया कि मुझे 17 जून को एपीओ कर अन्यत्र ग्राम पंचायत में लगाया गया था उसके बाद में मुझे आपदा नियंत्रण कक्ष में लगाने के कारण मैं चार्ज नहीं दे पाया हूं । उसमें से आधा अधुरा चार्ज तो दे चुका हूं जो बाकी का रहा चार्ज वह भी में एक-दो दिन में सुपुर्द कर दूंगा । एपीओ गुणेशसिंह ग्राम विकास अधिकारी ।वर्तमान ग्राम विकास अधिकारी ने बताया कि मुझे करीब 43 दिन हो गए हैं लेकिन चार्ज नहीं मिलने के कारण लोगों के कार्य करने में कठिनाई आ रही है और कार्य नहीं कर पा रहे हैं । वर्तमान ग्राम विकास अधिकारी राजेंद्र सोलंकी

गोवर्मेन्ट एप्रूव्ड प्लाट व फार्महाउस मात्र रु. 2600/- वर्गगज, टोंक रोड (NH-12) जयपुर में 9314166166

More From state

Trending Now
Recommended