संजीवनी टुडे

एनडीआरआई में किया गया17वें दीक्षांत समारोह का आयोजन

संजीवनी टुडे 23-03-2019 20:24:37


करनाल। शनिवार को राष्ट्रीय डेरी अनुसंधान संस्थान में17वें दीक्षांत समारोह का आयोजन किया गया। इसमें कृषि अनुसंधान एवं शिक्षा विभाग (डीएआरई) और भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद के महानिदेशक ने डाॅ. त्रिलोचन महापात्रा ने मुख्य अतिथि के रूप में शिरकत की और 249 विद्यार्थियों को डिग्रियां दी प्रदान की। 

डाॅ. त्रिलोचन महापात्रा ने विद्यार्थियों को संबोधित करते हुए कहा कि आज एनडीआरआई देश में डेरी उत्पादन, प्रसंस्करण और प्रबंधन में बड़ी संख्या में प्रशिक्षित युवा पेशेवरों को प्रदान करने जा रहा है। उन्होंने देश में दूध के उत्पादन पर संतोष व्यक्त करते हुए कहा कि पिछले 20 वर्षों से, भारत दुनिया में सबसे बड़ा दूध उत्पादक देश बना हुआ है और इसका श्रेय तकनीकी और मानव संसाधन आवश्यकता को पूरा करने के लिए एनडीआरआई जैसे अनुसंधान संस्थानों को जाता है। उन्होने छात्रों को संबोधित करते हुए बधाई दी और कहा कि एनआरडीआरए डेरी उत्पादन, प्रसंस्करण और प्रबंधन में बड़ी संख्या में प्रशिक्षित युवाओ को राष्ट्र को प्रदान कर रहा है । उन्होंने कहा कि आजादी के बाद से देश में दुग्ध उत्पादन में लगभग 10 गुणा वृद्धि हुई है और वर्तमान में देश में दुग्ध उत्पादन लगभग 176 मीट्रिक टन है । देश में श्वेत क्रांति की सफलता को यादकरते हुए कहा कि उन्होने कहा वर्तमान में देश में फिर से श्वेत क्रांति देखी जा रही है क्योंकि पिछले तीन वर्षों (2018 का डेटा) के दौरान दुग्ध उत्पादन मे 5.53 प्रतिशत की वार्षिक वृद्धि रही, जबकि विश्व मे वृद्धि दर 2.09 प्रतिशत रही। 

मात्र 240000/- में टोंक रोड जयपुर में प्लॉट 9314166166
इस समय दूध की प्रति व्यक्ति उपलब्धता देश मे 375 ग्राम प्रति दिन है जबकी विश्व मे ये औसतन लगभग 294 ग्राम है। उन्होंने एनडीआरआई के वैज्ञानिकों और युवा शोधकर्ताओं से डेयरी क्षेत्र में समकालीन मुद्दों पर काम करने के लिए कहा जैसे कि डेयरी किसानों की आय कैसे बढ़ाई जाए, दूध की गुणवत्ता की जांच के लिए उपकरण, डेयरी आपूर्ति श्रृंखला में मूल्यवर्धन बढ़ाने के लिए,डेयरी पशुओं की उत्पादकता बढ़ाने, दूध के खनन में वृद्धि। 

MUST WATCH & SUBSCRIBE

एनडीआरआई के निदेशक डा. आरआरबी ने पिछले एक साल के दौरान संस्थान द्वारा की गई महत्वपूर्ण गतिविधियों एवं उपलब्धियों पर प्रगति रिपोर्ट प्रस्तुत की और पुरस्कार प्राप्त करने वाले विद्यार्थियों एवं शिक्षकों को बधाई दी। 
इस अवसर पर मुख्य अतिथि ने डॉ. नरेंदर राजू, वैज्ञानिक को सर्वश्रेष्ठ शिक्षक पुरस्कार प्रदान किया। इस मौके पर डॉ. आर आर बी सिंह ने पीएचडी, मास्टर और बीटेक विषयों मेसबसे अधिक अंक प्राप्त करने के लिए डॉ. मान सिंह, दिग्विजय सिंह और संदीप बरूआ को स्वर्ण पदक प्रदान किया। 

More From state

Trending Now
Recommended