संजीवनी टुडे

चिन्मयानन्द के खिलाफ छात्रा रेप मामले की सुनवाई लखनऊ में करने का आदेश, पीडिता ने जताई यह आशंका

संजीवनी टुडे 03-02-2020 22:12:09

इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने स्वामी चिन्मयानन्द की जमानत मंजूर कर यह भी निर्देश दिया है कि विधि छात्रा से रेप केस की सुनवाई लखनऊ जिला न्यायालय में की जाय।


प्रयागराज। इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने स्वामी चिन्मयानन्द की जमानत मंजूर कर यह भी निर्देश दिया है कि विधि छात्रा से रेप केस की सुनवाई लखनऊ जिला न्यायालय में की जाय। उच्च न्यायालय ने शाहजहांपुर से इस केस की सुनवाई को लखनऊ ट्रांसफर करने का आदेश दिया है। न्यायालय ने यह आदेश इस कारण पारित किया क्योंकि पीडिता ने यह आशंका जताई थी कि आरोपी चिन्मयानन्द प्रभावशाली व्यक्ति है और वह अपने प्रभाव का प्रयोग कर केस की सुनवाई प्रभावित कर सकते हैं। साक्ष्य व कागजात में छेड़छाड़ कर सकते हैं। 

यह भी पढ़े: जन्मदिन की खुशी मातम में बदली, केक लेने जा रहे मामा-भांजे की मौत

इस कारण केस की निष्पक्ष सुनवाई के लिए मांग की गयी थीं कि इस केस की सुनवाई शाहजहांपुर से हटाई जाय। उच्च न्यायालय ने यह भी निर्देश दिया है कि पीडिता विधि छात्रा, उसके परिवार के सदस्यों और गवाहों की सुरक्षा केस की सुनवाई पूरी होने तक लखनऊ आयुक्त सुरक्षा मुहैया कराएगे। इनकी सुरक्षा के लिए दरोगा स्तर के अधिकारी के साथ साथ सशस्त्र कान्सटेबिलो की भी तैनाती की जाय।

यह भी पढ़े: उच्चतम न्यायालय ने केंद्र, राज्यों को जारी किया नाेटिस, जानें क्यों?

यही नही उच्च न्यायालय ने यह भी आदेश दिया है कि स्वामी हर महत्वपूर्ण तिथि पर अदालत में हाजिर रहेगे। जैसे केस खुलने के समय से लेकर आरोप विरचित होने तक वह न्यायालय में हाजिर होंगे और अगर बिना उचित कारण के वह न्यायालय में हाजिर नहीं होते हैं तो यह माना जाएगा कि वह जमानत की छूट का दुरुपयोग कर रहे हैं ।

मात्र 289/- प्रति sq. Feet में जयपुर में प्लॉट बुक करें 9314166166

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

More From state

Trending Now
Recommended