संजीवनी टुडे

अपराध आंकडों का अध्ययन किए बगैर राजनैतिक रोटियां सेंकने का प्रयास कर रहे हैं विपक्ष- सिंह

इनपुट- यूनीवार्ता

संजीवनी टुडे 22-10-2019 21:40:07

अपराध आंकडों का समुचित अध्ययन किये बगैर राजनैतिक रोटियां सेंकने का प्रयास कर रहे हैं। एनसीआरबी के आंकड़ों को समझने के लिये जनसंख्या के आधार पर अनुपात निकाला जाना चाहिए।


लखनऊ। उत्तर प्रदेश सरकार ने विपक्ष पर आरोप लगाया है कि राजनीतिक फायदे के लिये विपक्षी दल एनसीआरबी द्वारा जारी अपराध के आंकड़ों को तोड़ मरोड़ का प्रस्तुत कर रहे हैं। प्रदेश सरकार के प्रवक्ता सिद्धार्थ नाथ सिंह ने मंगलवार को कहा कि विपक्ष, खास तौर पर प्रियंका गांधी वाड्रा एवं अखिलेश यादव एनसीआरबी 2017 के अपराध आंकडों का समुचित अध्ययन किये बगैर राजनैतिक रोटियां सेंकने का प्रयास कर रहे हैं। एनसीआरबी के आंकड़ों को समझने के लिये जनसंख्या के आधार पर अनुपात निकाला जाना चाहिए।

यह खबर भी पढ़ें: ​31 अक्टूबर को ग्वालियर में नृत्य उत्सव का उद्घाटन करेंगे तजाकिस्तान एवं उजबेकिस्तान के राजदूत

सिंह ने कहा कि जिन राज्यों की जनसंख्या अधिक है वहाॅ पर अपराध भी अधिक घटित होते है। अपराध की स्थिति समझने के लिए क्राइम रेट एक अच्छा एवं विश्वसनीय संकेतक है। एनसीआरबी के मुताबिक क्राइम रेट को प्रति एक लाख जनसंख्या के सापेक्ष अपराधों की संख्या के रूप में परिभाषित अपराध दर (क्राइम रेट) एक सार्वभौमिक वास्तविक संकेतक है। यह राज्य के आकार और जनसंख्या में वृद्धि के प्रभाव को संतुलित करता है यानी जिस प्रदेश में जनसंख्या अधिक होगी, वहां अपराध की संख्या भी अधिक होगी।

प्रवक्ता ने कहा कि इस प्रकार क्राइम रेट, ही अपराधों की सही स्थिति समझने के लिए वास्तविक संकेतक है। अपराध दर प्रदेश की प्रति लाख जनसंख्या के आधार पर निकाली जाती है। योगी सरकार में महिलाओं की स्थिति काफी सुदृढ़ हुई है। प्रदेश की महिलाएं स्वयं को पूर्व की अपेक्षा अधिक सुरक्षित महसूस कर रही है।

मात्र 2500/- प्रति वर्गगज में फार्म  हाउस अजमेर रोड, जयपुर  में 9314188188

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

More From state

Trending Now
Recommended