संजीवनी टुडे

अब दो रुपये में होगा गैंगरीन बीमारी का इलाज, जानिए

संजीवनी टुडे 24-02-2018 14:57:50

Source: Google

चंडीगढ़। इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस बेंगलुरु ने इलाज की नई तकनीक इजाद की है। जल्द ही गैंगरीन का इलाज बेहद सस्ते में हर अस्पताल में संभव हो सकेगा। संस्थान ने सुपर हिल डिवाइस का निर्माण किया है।  इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस बंगलुरु में कार्यरत डॉ. गोपलन जगदीश ने यह जानकारी दी। इस डिवाइस का करीब पांच हजार मरीजों पर टेस्ट भी किया जा चुका है और जो परिणाम मिले वह काफी उत्साहजनक रहे। इस डिवाइस से एक बार के इलाज मेंं महज दो रुपये का खर्च आएगा। 

यह भी देखें: वीडियो : बीजेपी के इस सांसद ने स्कूल में शौचालय की अपने हाथो से की सफाई

गैंगरीन क्या है- 
इस समय भारत में पांच प्रतिशत लोगों की मौत गैंगरीन बीमारी के कारण हो जाती है। मधुमेह से पीडि़त व्यक्ति को यदि कोई चोट लग जाती है तो वह ठीक होने के बजाए बढ़ती जाती है। एक समय ऐसा भी आ जाता है कि जब मरीज गैंगरीन का शिकार हो जाता है। इस अवस्था में मरीज के जिस हिस्से में जख्म होता है वह पूरी तरह से सुन्‍न हो जाता है और उसमें किसी प्रकार की हलचल महसूस नहीं होती। एक छोटा जख्म भी नहीं भरता है और इससे साल भर में मरीज की मौत तक हो सकती है। 

MUST WATCH

ऐसे होगा इलाज
गैंगरीन के मरीजों के इलाज में सुपरहिल डिवाइस काफी फायदेमंद साबित होगी। शोधकर्ता के अनुसार, इस डिवाइज में प्रति मरीज के इलाज पर सिर्फ दो रुपये का खर्च आएगा। इसमें मरीज को किसी तरह की दवाई देने की जरुरत नहीं होती। सिर्फ रेज इफैक्ट से मरीज का इलाज किया जाएगा। अभी तक किए गए सभी टेस्ट में यह सफल पाया गया है।

Rochak News Web

More From state

Trending Now
Recommended