संजीवनी टुडे

शहद को हर्बल ऑयल बता डेढ़ करोड़ ठगने वाला नाइजीरियन गिरफ्तार

संजीवनी टुडे 13-06-2019 14:35:45

दिल्ली पुलिस की साइबर सेल ने ‘शहद’ को हर्बल ऑयल बताकर डेढ़ करोड़ रुपये ठगने वाले नाइजीरियन को गिरफ्तार कर लिया है। साइबर प्रिवेंशन अवेयरनेस एंड डिटेक्शन सेंटर(साईपैड) की टीम ने आरोपित को गिरफ्तार किया है, जो पिछले नौ साल से बिना किसी दस्तावेज के भारत में रह रहा था।


नई दिल्ली। दिल्ली पुलिस की साइबर सेल ने ‘शहद’ को हर्बल ऑयल बताकर डेढ़ करोड़ रुपये ठगने वाले नाइजीरियन को गिरफ्तार कर लिया है। साइबर प्रिवेंशन अवेयरनेस एंड डिटेक्शन सेंटर(साईपैड) की टीम ने आरोपित को गिरफ्तार किया है, जो पिछले नौ साल से बिना किसी दस्तावेज के भारत में रह रहा था। आरोपित ओकेओ प्रैडो खुद को प्रोफेशनल दिखाने के लिए लिंक्ड-इन वेबसाइट के जरिए लोगों से मिलता था और खुद को साउथ अफ्रीका के घाना का कारोबारी बताता था। आरोपित सिर्फ साउथ इंडियन लोगों को ही अपना शिकार बनाता था।

साइबर सेल क्राइम के डीसीपी अन्येष रॉय ने बताया कि साइबर क्राइम यूनिट ने हर्बल ऑयल और फोलोनिक एसिड के नाम पर लोगों के साथ ठगी करता था। वह लिंक्ड-इन पर अपने शिकार चुनता था। पुलिस को शिकायतकर्ता ने बताया था कि उससे एक व्यक्ति ने घाना का कारोबारी बनकर मुलाकात की थी और एनिमल वैक्सीनेशन के लिए प्रोडक्ट बनाने वाली कंपनी की प्रतिनिधि बताया था। 

आरोपित ने सैंपल के तौर पर शहद भेजा था, जिसे एक खास तरह का ऑयल(तेल) बताया था। आरोपित ने कहा था कि वह तेल भारत के नॉर्थ ईस्ट मिलेगा। जाल में फंसाने के लिए नॉर्थ ईस्ट के पते पर एक कंपनी खोली थी और जब शिकायतकर्ता ऑयल खरीदने जाता था, तो आरोपित खुद ही उसको ऑयल के नाम पर शहद देता था।

ऐसे होती थी डीलिंग 
ठगी के लिए आरोपित कीमती ऑयल को 50 लाख रुपये में खरीदने की बात कहता था, जबकि नॉर्थ ईस्ट वाले पते पर खोली गई फर्जी कंपनी वह तेल महज 25 लाख रुपये प्रति लीटर के हिसाब से बेचने का दावा करती थी। शिकायतकर्ता को बिना किसी रिस्क के 25 लाख रुपये का फायदा दिखता था और वह तुरंत 25 लाख रुपये में तेल खरीद लेता था। हालांकि जैसे ही वह कंपनी को पैसा देता, कंपनी और घाना का कारोबारी दोनों गायब हो जाते थे। पुलिस ने शिकायत के बाद जब जांच शुरू की, तो पता चला कि इस तरह की एक शिकायत पहले से ही चाणक्यपुरी थाने में दर्ज है।

पुलिस ने उस शिकायतकर्ता से संपर्क किया तो पता चला कि उसने इसी हर्बल ऑयल में मुनाफे के चक्कर में डेढ़ करोड़ रुपये गंवा दिए थे। इसके बाद पुलिस ने जांच करके ओकेओ को गिरफ्तार कर लिया। पता चला कि ओकेओ पुलिस ने बचने के लिए मोबाइल फोन यूज नहीं करता था। हालांकि वह जिस डोंगल से इंटरनेट चलाता था, पुलिस ने उसी की मदद से उसे पकड़ा।

मात्र 260000/- में टोंक रोड जयपुर में प्लॉट 9314166166

More From state

Trending Now
Recommended