संजीवनी टुडे

डीएल जारी करने की नई व्यवस्था अप्रैल से होगी लागू

संजीवनी टुडे 16-03-2019 12:46:13


लखनऊ। परिवहन विभाग सूबे के आरटीओ कार्यालय से जारी होने वाले ड्राइविंग लाइसेंस (डीएल) की व्यवस्था में बदलाव करने जा रहा है। नई व्यवस्था एक से 15 अप्रैल के बीच शुरू हो जाएगी। इसके तहत सात से दस दिन के भीतर आवेदक के घर डीएल पहुंच जाएगा।

मात्र 240000/- में टोंक रोड जयपुर में प्लॉट 9314166166

परिवहन आयुक्त धीरज साहू ने शनिवार को बताया कि ड्राइविंग लाइसेंस जारी करने की नई व्यवस्था एक से पन्द्रह अप्रैल के बीच शुरू हो जाएगी। इसके लिए मुख्यालय स्तर पर तैयारी तेजी से चल रही है। इस संबंध में सभी आरटीओ को दिशा निर्देश भी जारी कर दिए गए हैं। नई डीएल व्यवस्था से आवेदकों को घर बैठे सात से दस दिन में डीएल आसानी से मिल जाएगा।

उन्होंने बताया कि अगले माह से प्रदेश भर के आरटीओ कार्यालय से जारी होने वाले डीएल परिवहन आयुक्त मुख्यालय से जारी होंगे। स्थानीय कार्यालय में स्थाई डीएल का आवेदन करने के बाद डीएल का प्रिंट परिवहन आयुक्त मुख्यालय पर होगा। यहीं से आवेदक के गृह जनपद के पते पर डीएल भेजा जाएगा। इसके लिए मेसर्स स्मार्ट चिप प्राइवेट लिमिटेड को पांच वर्षों के लिए ठेका दिया गया है।

डीएल नहीं पहुंचने पर हेल्पलाइन नम्बर पर दर्ज होगी शिकायत
सात से दस दिन के तय समय पर डीएल नहीं पहुंचने पर हेल्पलाइन नम्बर पर शिकायत दर्ज कराना होगा। प्राइवेट कंपनी की ओर से जल्द ही हेल्पलाइन नम्बर जारी होगा। इस नम्बर के अलावा कार्यालय पर भी सुबह दस से शाम चार बजे तक शिकायत दर्ज करा सकेंगे। 

इसके लिए मुख्यालय के नई बिल्डिंग के तीसरे मंजिल पर कंट्रोल रूम तैयार किया जा रहा है। इस व्यवस्था के लागू होने से स्थानीय स्तर पर डीएल जारी होने व आवेदकों के घर समय से डीएल नहीं पहुंचने की समस्या काफी हद तक दूर हो जाएगी।

परिवहन आयुक्त कार्यालय से जारी होगा लर्निंग व स्थाई डीएल 
सारथी सॉफ्टवेयर आधारित स्मार्ट कार्ड डीएल योजना के लिए नई संस्था का चयन कर लिया गया। लर्नर व स्थाई डीएल की प्रिटिंग, आवेदक के पते पर डिस्पैच व डिलेवरी का काम संस्था द्वारा परिवहन आयुक्त कार्यालय पर किया जाएगा। 

MUST WATCH & SUBSCRIBE

इस संबंध में एक पत्र मुख्यालय से सभी आरटीओ व एआरटीओ को भेजा गया है। सभी आरटीओ और एआरटीओ अपने-अपने कार्यालय में 28 मार्च तक विद्युत कनेक्शन सहित जगह उपलब्ध कराएंगे। ताकि उक्त संस्था के कर्मी डीएल संबंधी डाटा मुख्यालय भेज सकें।

More From state

Loading...
Trending Now
Recommended