संजीवनी टुडे

अब मोबाइल से काटा जा सकेगा मेट्रो का टिकट, जल्द शुरू होगी व्यवस्था

संजीवनी टुडे 08-12-2018 17:37:53


कोलकाता। कोलकाता मेट्रो रेल का टिकट अब मोबाईल के जरिये भी प्राप्त होगा। गंगा नदी के नीचे से बनकर तैयार हुए केंद्र सरकार की महत्वाकांक्षी परियोजना ईस्ट वेस्ट मेट्रो रूट पर यातायात 2019 के मध्य से शुरू होने की संभावना है। उस रूट पर यातायात करने वाले लोगों को मेट्रो टिकट के लिए लंबी लाइन लगाने की जरूरत नहीं होगी बल्कि स्मार्ट फोन की मदद से ही ईस्ट वेस्ट मेट्रो का टिकट काटा जा सकेगा। 

इसके लिए मेट्रो रेल प्रबंधन ने दिल्ली की तर्ज पर कोलकाता में भी क्यूआर कोड स्कैनिंग प्रणाली शुरू करने का निर्णय लिया है। सॉल्टलेक से फूलबागान, राइटर्स होते हुए गंगा नदी के नीचे से हावड़ा मैदान तक जाने वाली इस मेट्रो रूट पर प्रत्येक स्टेशन पर क्यूआर कोड स्कैनिंग प्रणाली इंस्टॉल किया जा रहा है। 

इससे यात्री अपने मोबाइल में मेट्रो का टिकट काट सकेगा और उससे मिलने वाले क्यू आर कोड को मेट्रो के एग्जिट और एंट्री गेट पर स्कैन कर स्टेशन परिसर से बाहर या अंदर आवाजाही कर सकता है। इससे टिकट काउंटर पर लंबी लाइन लगाने से भी राहत मिलेगी और यातायात में भी सुविधाएं होंगी। 

ऑनलाइन टिकट व्यवस्था होने की वजह से मेट्रो की आय में भी बढ़ोतरी होने की संभावना जताई गई है। गौर करने वाली बात है कि पूर्व रेलवे ने कुछ स्टेशनों पर क्यू आर कोड स्कैनिंग टिकटिंग प्रणाली की व्यवस्था की है जिसमें हावड़ा, बैंडेल, सियालदह स्टेशन ऐसे हैं जहां क्यूआर कोड स्कैन कर टिकट काटा जा सकता है। अब उसी तरह से मेट्रो में भी यह व्यवस्था शुरू की जाएगी। 

बताया गया है कि दिल्ली में फिलहाल ऐसी व्यवस्था पहले से ही लागू है। शनिवार को इस बारे में पूछने पर मेट्रो रेलवे के एक वरिष्ठ अधिकारी ने नाम नहीं छापने की शर्त पर बताया कि ईस्ट वेस्ट मेट्रो सेवा शुरू होने में अभी कम से कम सात महीने का समय लगेगा। इसके पहले क्या कुछ व्यवस्थाएं होगी इस बारे में कुछ भी पुख्ता तौर पर कह पाना संभव नहीं है लेकिन एंट्री और एग्जिट के लिए क्यूआर कोड प्रणाली को इंस्टॉल करने की सहमति बन गई है। 

जयपुर में प्लॉट: 21000 डाउन पेमेन्ट शेष राशि 18 माह की आसान किस्तों में, मात्र 2.30 लाख Call:09314188188

MUST WATCH & SUBSCRIBE

दूसरी बात यह है कि अन्य मेट्रो स्टेशनों पर जिस तरह से टिकट काउंटर पर मेट्रो का टोकन लिया जाता है और उसके जरिए लोग यात्रा करते हैं, वह जस का तस रहेगा। क्यू आर कोड के साथ साथ लोग अगर चाहे तो काउंटर से भी टोकन लेकर यात्रा कर सकते हैं। कुल मिलाकर कहा जाए तो तकनीक का हाथ पकड़कर दिनोंदिन विकसित होती दुनिया के साथ मेट्रो रेलवे भी कदमताल करने में पीछे नहीं है। 

sanjeevni app

More From state

Loading...
Trending Now
Recommended