संजीवनी टुडे

ममता ने चक्रवात प्रभावित क्षेत्रों का किया दोबारा दौरा, पीड़ितों की संख्या छह करोड़ बताई

संजीवनी टुडे 23-05-2020 17:47:11

ममता ने चक्रवात प्रभावित क्षेत्रों का किया दोबारा दौरा, पीड़ितों की संख्या छह करोड़ बताई


कोलकाता। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने शनिवार को अम्फन चक्रवात से प्रभावित उत्तर और दक्षिण 24 परगना का दोबारा हवाई सर्वेक्षण किया। शुक्रवार को मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और राज्यपाल जगदीप धनखड़ के साथ इन क्षेत्रों का हवाई सर्वेक्षण किया था। इसके बाद शनिवार को एक बार फिर वह इस क्षेत्र में हवाई सर्वेक्षण के लिए निकली थीं। इसके बाद दक्षिण 24 परगना के काकद्वीप में प्रशासनिक बैठक की। इस दौरान मुख्यमंत्री ने दावा किया कि बंगाल में चक्रवात से पीड़ित लोगों की संख्या 6 करोड़ है। बनर्जी ने यह दावा तब किया है जब एक दिन पहले ही उनकी सरकार ने दावा किया था कि राज्य में प्रभावितों की संख्या करीब 2 करोड़ है। 

प्रशासनिक बैठक के दौरान मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि राज्य में अम्फन चक्रवात की वजह से करीब छह करोड़ लोग प्रभावित हुए हैं व 86 लोगों की मौत हुई है। अकेले दक्षिण 24 परगना में ही 73 लाख प्रभावित हुए हैं। दक्षिण 24 परगना में 10 लाख और डायमंड हार्बर में डेढ़ लाख घर क्षतिग्रस्त हुए हैं। 41600 बिजली के खंबे उखड़ गये हैं। इसके साथ ही मुख्यमंत्री ने यह भी दावा किया कि नदिया जिले के करीब 56 किलोमीटर तटबंध ढह गये हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि हुए नुकसान का जायजा लेने के लिए सभी प्रशासनिक विभाग संयुक्त रूप से कार्य करें और इसकी रिपोर्ट दें। --- 

राहत फंड के सदुपयोग का दिया निर्देश 
मुख्यमंत्री ने प्रशासनिक बैठक में स्थानीय युवाओं को राहत कार्य में लगाने का निर्देश दिया। उन्होंने कहा कि राहत कार्य में पूरा जोर लगाना होगा। इसे लेकर समस्या न हो। पैसा सोच-समझ कर खर्च किये जाने की जरूरत है। कोरोना की वजह से पहले ही गत तीन महीने से राज्य सरकार को कोई आय नहीं हो रही है लेकिन राशन, रहने, खाने-पीने की समस्या कम से कम लोगों को न हो, यह सुनिश्चित करना होगा। 

प्रशासनिक बैठक में प्रशासनिक अधिकारियों के अलावा जन प्रतिनिधियों से बातचीत में मुख्यमंत्री ने निर्देश दिया कि जरूरत पड़ने पर घर-घर जाकर राशन दिया जाये, कम्यूनिटी किचेन शुरू किया जाये ताकि लोगों को खाने की दिक्कत न हो। विद्यार्थियों के लिए विशेष ध्यान रखने की जरूरत पर उन्होंने बल दिया। उनकी पाठ्य पुस्तकें या कॉपियां जो चक्रवात में नष्ट हो गयी हैं उसकी व्यवस्था करने का उन्होंने निर्देश दिया। साथ ही स्कूली पोशाक भी उपलब्ध कराने के लिए मुख्यमंत्री ने कहा। इसके अलावा एंटी वेनम, दवाएं, आदि की व्यवस्था भी स्वास्थ्य केंद्रों में करने का उन्होेंने निर्देश दिया।

जनरेटर से बहाल की जाएगी बिजली  
चक्रवात के बाद पिछले 4 दिनों से बिजली गुल होने की समस्या से जूझ रहे लोगों के लिए राहत की खबर देते हुए मुख्यमंत्री ने जेनरेटर के जरिये बिजली की थोड़ी बहुत बहाली करने का सुझाव दिया। ममता ने कहा कि रास्ते क्षतिग्रस्त हुए, तालाब का पानी गंदा हो गया है, सुंदरवन के मैंग्रोव को भी नुकसान पहुंचा है। इन सभी को दुरुस्त किये जाने की जरूरत है।  

मृतकों के परिजनों को दी मुआवजा राशि  
प्रशासनिक बैठक के बाद मुख्यमंत्री ने चक्रवात में मारे गये स्थानीय पांच लोगों के परिजनों को दो-दो लाख रुपये की मुआवजा राशि प्रदान की। मुख्यमंत्री ने कहा कि जो अधिक घायल हैं उन्हें 50 हजार रुपये दिये जायेंगे। जो कम घायल हैं उन्हें 25 हजार रुपये की सहायता राशि दी जायेगी। घायलों की चिकित्सा भी सरकार ही करायेगी।  

यह खबर भी पढ़े: चक्रवात 'अम्फन' से हुई तबाही को समेटने में लगे वायुसेना के जहाज

यह खबर भी पढ़े: आत्मनिर्भर भारत अभियान राहत पैकेज पर अमल करें सरकारी क्षेत्र के बैंक : सीतारमण

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From state

Trending Now
Recommended