संजीवनी टुडे

मकर संक्रांति पर श्रद्धालुओं ने गंगा में लगाई डुबकी

संजीवनी टुडे 14-01-2019 16:11:48


हरिद्वार। भगवान सूर्य के दक्षिणायन से होकर मकर राशि में प्रवेश करने का पर्व मकर सक्रांति स्नान पर्व पर देश के कई प्रांतों से आए लाखों श्रद्धालुओं ने हरकी पैड़ी ब्रह्मकुण्ड समेत गंगा के विभिन्न घाटों पर आस्था की डुबकी लगा पुण्य लाभ अर्जित किया। 

जयपुर में प्लॉट/ फार्म हाउस: 21000 डाउन पेमेन्ट शेष राशि 18 माह की आसान किस्तों में, मात्र 2.30 लाख Call:09314188188

सोमवार को उदय तिथि में मकर संक्रांति पर्व न होने के कारण मंगलवार को भी श्रद्धालु गंगा स्नान करेंगे। गंगा स्नान पर श्रद्धालुओं की भारी भीड़ को देखते हुए पुलिस प्रशासन ने सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए। स्नान के बाद श्रद्धालुओं ने दान आदि कर्म किए। 

मकर सक्रांति का पर्व मनाने के लिए देश के पर्वतीय अंचलों से बड़ी संख्या में श्रद्धालु तीर्थनगरी पहुंचे। मकर संक्रांति का पर्वतीय क्षेत्रों में खासा महत्व माना जाता है। इस कारण प्रतिवर्ष उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश और जम्मू कश्मीर, राजस्थान,पंजाब, दिल्ली आदि प्रदेशों से बड़ी संख्या में श्रद्धालु स्नान पर्व का पुण्य उठाने के लिए पहुंचते हैं। 

इस बार भगवान सूर्य के मकर राशि में प्रवेश का समय सोमवार सांय सवा ठह बजे होने के कारण श्रद्धालुओं की भीड़ अपेक्षाकृत कम रही। बावजूद इसके तड़के ही श्रद्धालुओं का स्नान के लिए गंगा घाटों पर उमड़ना शुरू हो गया था। ठंड के बावजूद लोगों ने उत्साह के साथ गंगा में डुबकी लगाई। प्रातः से चला स्नान का सिलसिला देर शाम तक चलता रहा। स्नान के पश्चात श्रद्धालुओं ने मंदिरों में भगवान के दर्शन कर दान-पुण्य आदि कर्म किए। 

श्रद्धालुओं ने चावल, उड़द की दाल, मूंगफली, गूड़, तिल, दक्षिणा आदि का दान किया। मकर संक्रांति पर तिल व गुड के साथ खिचड़ी दान करने का विशेष महत्व है। इस कारण लोगों ने खिचड़ी दान भी किया। मंगलवार को सूर्य के उदयकाल में मकर संक्रांति होने के कारण खिचड़ी पर्व अधिकांश लोग मंगलवार को मनाएंगे। सम्पूर्ण मेला क्षेत्र को सात जोन व 14 सेक्टरों में बांटा गया था। 

MUST WATCH & SUBSCRIBE

इसी के साथ सेक्टर व जोन प्रभारियों की नियुक्ति की गई थी। पुलिस बल के साथ जल पुलिस घुड़सवार पुलिस, बम निरोधक दस्ता, आईआरबी, गोताखोर, एलआईयू के जवानों को भी तैनात किया गया था। भीड़ की संभावना को देखते हुए रूट डायवर्जन भी लागू किया गया था। भीड़ अपेक्षाकृत कम आने के कारण रूट डायवर्जन पूरी तरह से लागू नहीं किया गया। 

sanjeevni app

More From state

Loading...
Trending Now