संजीवनी टुडे

लॉकअप हत्याकांड : हिमाचल हाईकोर्ट से पूर्व डीएसपी मनोज जोशी को मिली जमानत

संजीवनी टुडे 25-04-2019 21:54:24


शिमला। जिला शिमला के कोटखाई के बहुचर्चित गुड़िया रेप एंड मर्डर केस से जुड़े सूरज लॉकअप हत्या प्रकरण के आरोपित ठियोग के पूर्व डीएसपी मनोज जोशी को हिमाचल प्रदेश हाई कोर्ट ने गुरुवार को जमानत दे दी है। कोर्ट के न्यायाधीश न्यायमूर्ति सुरेश्वर ठाकुर ने गुरुवार को मामले की सुनवाई के दौरान मनोज जोशी की जमानत के आदेश पारित किए। जोशी बीते 19 माह से शिमला के कंडा जेल में बंद हैं।

सीबीआई के अधिवक्ता अंशुल बंशल ने बताया कि हाईकोर्ट ने मेडिकल ग्राउंड पर मनोज जोशी को पांच लाख रुपये के जमानती मुचलके पेश करने की स्थिति में उनको रिहा करने के आदेश पारित किए हैं। हाईकोर्ट का यह आदेश सूरज लॉकअप मामले के एक अन्य आरोपित पूर्व एसपी डीडब्ल्यू नेगी को प्रदेश हाई कोर्ट से जमानत मिलने के बाद आया है।

मात्र 240000/- में टोंक रोड जयपुर में प्लॉट 9314166166

इसी प्रकरण के पूर्व आईजी एच. जहूर जैदी को भी सुप्रीम कोर्ट से जमानत मिल चुकी है। उल्लेखनीय है कि लॉकअप हत्याकांड मामले में मनोज जोशी जांच अधिकारी थे। उन पर सूरज की हत्या में संलिप्त होने का आरोप है। सीबीआई ने जोशी सहित आठ अन्य पुलिस वालों को 29 अगस्त,2017 को गिरफ्तार किया था, जिसके बाद से वे न्यायिक हिरासत में चल रहे थे।

MUST WATCH & SUBSCRIBE

कोटखाई में जुलाई 2017 में एक स्कूली छात्रा के साथ हुए दुष्कर्म व उसके कत्ल के बाद पुलिस ने पांच युवकों को इस आरोप में गिरफ्तार किया था लेकिन बाद में इनमें से एक सूरज नामक युवक की कोटखाई थाने में हत्या कर दी गई। जिसके बाद पुलिस ने सूरज की हत्या का इल्जाम दूसरे आरोपित राजू पर लगा दिया था। बाद में मामला सीबीआई में गया। सीबीआई जांच में पुलिस का इल्जाम झूठा पाया गया। सीबीआई ने इस मामले में पूर्व आइजी जैदी, पूर्व एसपी नेगी और पूर्व डीएसपी मनोज जोशी समेत नौ पुलिस अधिकारियों और कर्मचारियों को सूरज की हत्या के आरोप में गिरफ्तार किया था।
 

More From state

Trending Now
Recommended