संजीवनी टुडे

लॉकडाउन फंसे मज़दूरों को लेकर CM शिवराज के दावे पर कमलनाथ का पलटवार

संजीवनी टुडे 20-05-2020 17:29:13

सीएम शिवराज से कहा है कि झूठ बोलिये लेकिन मज़दूरों के नाम पर कम से कम इतना बड़ा मज़ाक़ तो मत करिये।


भोपाल | मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा दूसरे राज्य में फंसे मजदूरों को उनके घर पहुंचाने के लिए रोजाना 1000 से अधिक बसें चलाने और साढ़े चार लाख मजदूरों की घर वापसी के दावे पर पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने पलटवार किया है| उन्होंने सीएम शिवराज से कहा है कि झूठ बोलिये लेकिन मज़दूरों के नाम पर कम से कम इतना बड़ा मज़ाक़ तो मत करिये। 

कमलनाथ ने बुधवार को जारी अपने एक बयान में सीएम शिवराज के दावों पर पलटवार करते हुए कहा है कि आप कह रहे है कि मध्यप्रदेश की व्यवस्था देखिये, यहाँ की धरती पर कोई भी मज़दूर आपको भूखा, प्यासा व पैदल चलता हुआ नहीं दिखेगा, हमने कारगर इंतज़ाम किये है। इतना बड़ा झूठ व मज़दूरों के नाम पर ऐसा मज़ाक़, शर्म करिये ? यह सही है कि आप इन मज़दूरों की अभी तक सुध लेने गये नहीं हैंं तो आपको सच्चाई पता भी कैसे चले ? 

कमलनाथ ने सरकार की व्यवस्थाओं पर सवाल उठाते हुए कहा कि आज भी प्रदेश के सभी प्रमुख मार्ग व सीमाएँ हज़ारों मज़दूरों से भरे पड़े हुए है, कोई पैदल, कोई नंगे पैर, पैरो में छाले लिये, कोई ठेले पर, कोई साईकल पर, कोई ऑटो से, कोई अन्य मालवाहक वाहन से अपने घर को लौट रहा है। उन्होंने कहा कि प्रदेश की धरती पर कई घर लौटते ये बेबस-लाचार मज़दूर दुर्घटना का शिकार होकर मौत के मुँह में जा चुके हैंं, भूख -प्यास -गर्मी से दम तोड़ चुके हैंं। कई गर्भवती बहने सड़कों पर अपने बच्चों को जन्म दे चुकी हैंं। इसकी तस्वीरें प्रतिदिन प्रदेश की जनता खुली आँखो से देख रही है, इनकी मौत के आँकड़े सामने हैंं लेकिन शायद आपकी आँखो पर पट्टी बंधी हुई है, इसलिये आपको यह तस्वीरें व सच्चाई दिखायी नहीं दे पा रही है ? प्रदेश की जनता, कई सामाजिक व कई स्वयंसेवी संगठन, कांग्रेसजन इन मज़दूरों को मार्गों पर खाना खिला रहे हैंं, जूते चप्पल पहना रहे हैंं, पानी पिला रहे हैंं, घरों तक छोड़ रहे हैंं। 

कमलनाथ ने तंज कसते हुए कहा कि सरकार की कोई व्यवस्था इन मज़दूरों के लिये नहीं है। उलटा भोजन माँगने पर प्रदेश की धरती पर इन मज़दूरों पर बर्बर तरीक़े से लाठियाँ तक बरसायी गयींं और आप इतना बड़ा झूठ बोल रहे हैंं कि प्रदेश में कोई मज़दूर भूखा, प्यासा व पैदल चलता हुआ आपको नहीं दिखेगा ? 

कमलनाथ ने एक बार फिर अपनी बात दोहराते हुए सीएम शिवराज से कहा कि मैंने आपको पूर्व में कहा था और आज फिर दोहरा रहा हूँ कि आप आइये मेरे साथ प्रदेश के मार्गों पर, सीमाओं पर इन मज़दूरों की वास्तविक स्थिति व व्यथा देखने चलिये, फिर यह सफ़ेद झूठ बोलने का आप साहस नहीं दिखा पायेंगे। उन्होंने कहा कि प्रदेश में बसों के नाम पर हो रहा फ़र्ज़ीवाडा भी सभी के सामने आ चुका है। दावे जितने किये जा रहे है, ज़मीनी हक़ीक़त आज भी उससे उलट है।

यह खबर भी पढ़े: राजेंद्र पाल गौतम ने कहा- भाजपा और कांग्रेस के नेता बस में भीड़ पुराना वीडियो डालकर कर रहे गंदी राजनीति

यह खबर भी पढ़े: मिठाई की दुकानें खोलने की मिली अनुमति, नियमों का सख्ती से पालन करना अनिवार्य

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From state

Trending Now
Recommended