संजीवनी टुडे

जेकेके में अंतरराष्ट्रीयस्तर के सिम्पोजियम ‘लिटरेचर एंड द कंटेम्पररी सोसाइटी‘ का कल होगा आयोजन

संजीवनी टुडे 22-07-2019 20:18:11

विश्वविख्यात कवि एवं लेखक साहित्यिक चर्चा में लेंगे भाग


जयपुर। लिटरेचर पसंद करने वाले जयपुरवासियों के लिए एक अच्छी खबर है। जवाहर कला केन्द्र (जेकेके) द्वारा अपनी साहित्यिक गतिविधियों के तहत 23 जुलाई को अंतरराष्ट्रीयस्तर के सिम्पोजियम ‘लिटरेचर एंड द कंटेम्पररी सोसाइटी‘ का आयोजन किया जाएगा।  शीर्षक से आयोजित इस सिम्पोजियम में विश्वविख्यात कवि एवं लेखक, डॉ. अमित रंजन और प्रोफेसर स्टीफनोस स्टीफनाइड्स साहित्यिक चर्चा में भाग लेंगे। आज यह जानकारी जेकेके के अतिरिक्त महानिदेशक, श्री फुरकान खान ने दी। 

अतिरिक्त महानिदेशक ने आगे बताया कि इस सिम्पोजियम में दो सैशन होंगे। प्रातः 10 बजे आयोजित प्रथम सैशन में डॉ. अंमित रंजन ‘आर वी टू व्हीररेड फॉर वर्ड्स‘ विषय पर संबोधित करेंगे। उनके पश्चात् प्रोफेसर  स्टीफनोस स्टीफनाइड्स   लिटरेचर एंड सोसायटी : ए प्रोजेक्ट ऑफ कॉस्मोपोएटिक्स  ऑर कॉस्मोपॉलिटिक्स? विषय पर अपने विचार व्यक्त करेंगे। इसके पश्चात  पैनल डिस्कशन का संचालन स्वाति वशिष्ठ द्वारा किया जायेगा । दूसरे सैशन का आयोजन दोपहर 2 बजे किया जायेगा। इस सैशन में डॉ. रंजन द्वारा अपने कविता संग्रह ‘फाइंड मी लियोनार्ड कोहेन, आई एम ऑल मोस्ट थर्टी‘ में से कुछ कविताओं पर चर्चा करेंगे। उनके पश्चात् प्रोफेसर स्टीफनाइड्स श्रोताओं को अपनी कविता संग्रह ‘ब्लू मून इन राजस्थान‘ में से कुछ कविताएं सुनायेंगे और इन पर अपने विचार व्यक्त करेंगे। एडीजी, फुरकान खान द्वारा समापन भाषण दिया जाएगा।  

इस सिम्पोजियम के माध्यम से जयपुरवासियों को लिटरेचर के सही उद्देश्य एवं मायने जानने का अवसर मिलेगा। डॉ. रंजन के अनुसार महान साहित्य वह होता है जो भाषा की सीमाओं में विस्तार करता है। वे इस तथ्य पर भी प्रकाश डालेंगे कि क्या आधुनिक साहित्य अपने उद्देश्य को हासिल करने में सक्षम है अथवा यह मात्र पॉपकॉर्न कल्चर को बढ़ावा दे रहा है। क्या काउंटर कल्चर उपभोक्तावाद की केवल एक सनक भर है? सिम्पोजियम में इन प्रश्नों के माध्यम से, वर्तमान दौर के सोशियो-कल्चरल परिदृश्य में साहित्य की भूमिका का विश्लेषण करने का प्रयास किया जायेगा। 

उल्लेखनीय है कि प्रोफेसर स्टीफनाइड्स यूनिवर्सिटी ऑफ साइप्रस में इंग्लिश एवं कम्पेरेटिव लिटरेचर के पूर्व प्रोफेसर रह चुके हैं। उनका कविता संग्रह ‘ब्लू मून इन राजस्थान एंड अदर पोयम्स‘ के नाम से प्रकाशित है। डॉ. रंजन भुबनेश्वर में एनसीईआरटी के रीजनल इन्स्टिट्यूट ऑफ एजुकेशन में लिटरेचर पढ़ाते हैं। उन्होंने जेएनयू से पीएचडी और एमफिल किया है। डॉ. रंजन फ्लोरिडा इंटरनेशनल यूनिवर्सिटी में 2015-16 के लिए फुलब्राइट स्कॉलर रह चुके हैं। उन्हें एंडेवर ऑफ ऑस्ट्रेलिया एवं इन्लेक्स जैसी स्कॉलरशिप्स भी मिल चुकी है।

गोवर्मेन्ट एप्रूव्ड प्लाट व फार्महाउस मात्र रु. 2600/- वर्गगज, टोंक रोड (NH-12) जयपुर में 9314166166

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

More From state

Trending Now
Recommended