संजीवनी टुडे

डेंगू से निपटने को झांसी प्रशासन ने कसी कमर

इनपुट- यूनीवार्ता

संजीवनी टुडे 05-09-2019 18:01:54

बरसात के मौसम में मच्छर जनित बीमारियों के बढने की आशंका के बीच जिले के सभी सामुदायिक और प्राथमिक केंद्रों को डेंगू की पहचान और सावधान रहने के संबंध में व्यापक प्रचार प्रसार के आदेश जारी कर दिये गये हैं।


झांसी। बरसात के मौसम में मच्छर जनित बीमारियों के बढने की आशंका के बीच जिले के सभी सामुदायिक और प्राथमिक केंद्रों को डेंगू की पहचान और सावधान रहने के संबंध में व्यापक प्रचार प्रसार के आदेश जारी कर दिये गये हैं।

यातायात नियम उल्लंघन पर भारी जुर्माने की व्यवस्था पैसा कमाना नहीं, लोगों की जान बचाना: गडकरी

जिलाधिकारी शिव सहाय अवस्थी ने विकास भवन सभागार में गुरूवार को डेंगू बुखार के सम्बन्ध में एक बैठक में कहा कि डेंगू कैसे करे पहचान, कैसे रहे सावधान जैसे विषय पर जनपद के समस्त सी.एच.सी. व पी.एच.सी. में व्यापक प्रचार-प्रसार कराया जाए। ग्रामीण क्षेत्र में चौपाल के माध्यम से लोगों को जानकारी दें कि डेंगू की रोकथाम, सबकी जिम्मेदारी और सबकी भागीदारी से ही सम्भव है।

उन्होंने कहा कि समस्त एमओआईसी डेंगू की रोकथाम हेतु अपने क्षेत्र में लोगों को जागरुक करें, साथ ही डेंगू बुखार के सम्बन्ध में जो सिस्टम है, उसकी भी जानकारी लोगों को दें।जिलाधिकारी ने बैठक में समस्त अधिकारियों व चिकित्सकों से कहा कि डेंगू से कैसे बचे, उसकी जानकारी अवश्य लोगों को सरल भाषा में दे। लोग अपनी आदतों में बदलाव लाकर डेंगू से बच सकते है जैसे जब भी बाहर निकले शरीर को ढककर निकले ऐसे कपड़े पहने कि हाथ और पैर ढके रहे। डेंगू से प्रभावित मरीज यदि कोई है तो उसे महारानी लक्ष्मीबाई मेडीकल कालेज झांसी में माइक्रोबायलोजी विभाग भेजे ताकि वहां डेंगू की जांच (एलाईजा विधि) द्वारा की जा सके।

बैठक में सीएमओ डाॅ. सुशील प्रकाश ने बताया कि डेंगू में अचानक तेज सिरदर्द और बुखार का होना, मांसपेशियों तथा जोड़ों में दर्द होना, आंखों के पीछे दर्द होना जो कि आंखों को घुमाने से बढता है तथा गम्भीर मामलों में नाक, मुंह, मसूड़ों से खून आना अथवा त्वचा पर चकते उभरता आदि लक्षण है। डेंगू फैलाने वाला मच्छर रुके हुए साफ पानी में पनपता है, यदि घर के आस-पास पानी जमा है तो उसे हटा दे। घर में रखे बर्तन में भी पानी जमा न रखे। डेंगू मच्छर दिन के समय काटता है, ऐसे कपड़े पहने जो बदन को पूरी तरह ढके।

उन्होंने कहा कि मच्छररोधी क्रीम, क्वाईल, टिपलेंट आदि का उपयोग करे।डाॅ. प्रकाश ने बताया कि डेंगू के उपचार के लिए कोई खास दवा या वैक्सीन नही है। बुखार उतारने के लिए पैरासीटामोल ले सकते है। एस्प्रीन इबुब्रेफेन कोटिसोन का प्रयोग न करे। डाॅक्टर की सलाह लें। उन्होने बताया कि डेंगू के हर रोगी को प्लेटलेट्स की आवश्यकता नही पड़ती है।

बैठक में मुख्य विकास अधिकारी श्री निखिल टीकाराम फुंडे, नगर आयुक्त मनोज कुमार, डीएफओ बी.एन. मिश्रा, प्रशिक्षु आईएएस संजीव कुमार मौर्य सहित अन्य अधिकारी उपस्थित रहे।

गोवर्मेन्ट एप्रूव्ड प्लाट व फार्महाउस मात्र रु. 2600/- वर्गगज, टोंक रोड (NH-12) जयपुर में 9314166166

More From state

Trending Now
Recommended