संजीवनी टुडे

बुंदेलखंड की धरती पर इसरो ने दी दस्तक, छात्रों की उमड़ी भीड़

इनपुट- यूनीवार्ता

संजीवनी टुडे 18-10-2019 20:36:23

बुंदेलखंड की धरती पर झांसी स्थित बुंदेलखंड विश्वविद्यालय में पहली बार भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान केंद्र (इसरो) के सहयोग से अंतरिक्ष प्रदर्शनी का शुक्रवार को शुभारंभ किया गया


झांसी। उत्तर प्रदेश के बुंदेलखंड की धरती पर झांसी स्थित बुंदेलखंड विश्वविद्यालय (बुंविवि) में पहली बार भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान केंद्र (इसरो) के सहयोग से अंतरिक्ष प्रदर्शनी का शुक्रवार को शुभारंभ किया गया जिसमें विभिन्न विद्यालयों,महाविद्यालयों और विभिन्न संस्थानों के विद्यार्थियों ने बड़ी संख्या में हिस्सा लिया।

यह खबर भी पढ़ें: ​मुख्यमंत्री ने दिये किसानों को समय पर भुगतान करने के निर्देश

विश्वविद्यालय के राजीव गांधी इंडोर स्टेडियम में बुंविवि और इसरो के तत्वाधान में तीन दिवसीय विक्रम साराभाई अंतरिक्ष प्रदर्शनी का आयोजन किया जा रहा है। प्रदर्शनी के पहले ही दिन परिसर विभिन्न विद्यालयों और संस्थानों के विद्यार्थियों के जमावड़े से गुलजार रहा। इस प्रदर्शनी में झांसी और आसपास के क्षेत्रों के विद्यालयों ,महाविद्यालयों तथा सस्थानों से बड़ी संख्या में उमड़े विद्यार्थियों को अंतरिक्ष अनुसंधान की विभिन्न महत्वाकांक्षी परियोजनाओं के संबंध में जानकारी देने के लिए कई माॅडल भी रखे गए हैं। इनके माध्यम से विद्यार्थियों को इसरो की गतिविधियों और उपलब्धियों की जानकारी दी गई। विद्यार्थियों ने अंतरिक्ष अनुसंधान कार्यों को समझने में गहरी रुचि दिखाई। तीन दिवसीय अंतरिक्ष प्रदर्शनी 20 अक्तूबर तक चलेगी।

प्रदर्शनी का उद्घाटन चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय मेरठ विश्वविद्यालय के पूर्व कुलपति प्रो एस पी ओझा और इसरो के वैज्ञानिक डा.सतीश राव ने किया जबकि बुन्देलखण्ड विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो जे वी वैशम्पायन ने कार्यक्रम की अध्यक्षता की। इस अवसर पर कुलपति प्रो. वैशम्पायन ने इसरो के वैज्ञानिकों को इस प्रदर्शनी के आयोजन में सहयोग के लिए धन्यवाद दिया। कुलपति ने कहा कि विज्ञान के क्षेत्र मेें निरन्तर प्रगति हो रही है परन्तु अन्तरिक्ष विज्ञान के के क्षेत्र में हुई अभूतपूर्व है।इस क्षेत्र में भारत की प्रगति भी एक मील का पत्थर मानी जा सकती है। उन्होंने कहा कि इस प्रकार की प्रदर्शनियों का आयोजन निरन्तर और विशेष रूप से ग्रामीण क्षेत्रों में किया जाना चाहिए जिससे ग्रामीण क्षेत्रों के विद्यार्थी भी विज्ञान के इस क्षेत्र के प्रति आकर्षित हो।

मात्र 13.21 लाख में अपने ख़ुद के मकान का सपना करें साकार, सांगानेर जयपुर में बना हुआ मकान कॉल - 9314166166

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

More From state

Trending Now
Recommended