संजीवनी टुडे

मंत्री सिंह ने किया, आरसी वीपी नरोन्हा प्रशासन और प्रबंध अकादमी का निरीक्षण

संजीवनी टुडे 29-06-2019 18:44:05

प्रशासन अकादमी में नई सुविधाओं की होगी पहल


भोपाल। सामान्य प्रशासन मंत्री ने शनिवार को भोपाल स्थित आरसीवीपी नरोन्हा प्रशासन एवं प्रबंधकीय अकादमी का निरीक्षण किया। इस दौरान उन्‍होंने अकादमी में होने वाले प्रशिक्षण कार्यक्रमों की जानकारी ली। साथ ही अकादमी के महानिदेशक एपी श्रीवास्तव व निदेशक संजीव सिंह से भी चर्चा की। उन्होंने कहा कि अकादमी के प्रशिक्षण कार्यक्रमों को नया आयाम दिया जायेगा। राज्य सरकार इसके लिये अकादमी में नई सुविधाओं के विकास की पहल करेगी।

राजधानी भोपाल के शाहपुरा झील किनारे स्थित आरसीवीपी नरोन्हा प्रशासन एवं प्रबंधकीय अकादमी का निरीक्षण करने पहुंचे सामान्य प्रशासन मंत्री डॉ. गोविन्द सिंह ने शनिवार को अकादमी की गतिविधियों के बारे में विस्तार से जानकारी प्राप्त की। इस दौरान मंत्री सिंह ने कहा कि वर्ष 1966 में स्थापित अकादमी ने वर्ष 1994 में भारत सरकार से उत्कृष्टता पुरस्कार, वर्ष 1995 में सम्पूर्ण गुणवत्ता प्रबंधन के लिये उत्कृष्ट संस्थान और वर्ष 2003 में आईएसओ 9001-2000 प्रमाणन के बाद नई पहचान बनाई है। 

यह सिलसिला रुकना नहीं चाहिये। डॉ. सिंह ने अकादमी की गतिविधियों की सराहना भी की। उन्होंने नये कार्यों के लिये प्रस्ताव तैयार करने के निर्देश देते हुये कहा कि अकादमी में आवश्यक रिक्त पदों की पूर्ति की जायेगी। निरीक्षण के दौरान उन्होंने अकादमी परिसर में स्थित स्वर्ण जयंती सभागार, नरोन्हा वीथिका, मिनी थियेटर, पुस्तकालय, छात्रावास और निर्माणाधीन स्वीमिंग पुल का भी जायजा लिया।

इस दौरान महानिदेशक श्रीवास्तव ने बताया कि अकादमी देश के श्रेष्ठ प्रशिक्षण संस्थानों में शामिल है। अकादमी का 43 एकड़ क्षेत्र सभी आवश्यक सुविधाओं से सज्जित है। आवश्यकता हुई, तो नये छात्रावास के निर्माण की पहल भी की जायेगी। उन्‍होंने बताया कि अकादमी द्वारा राज्य सरकार के अधिकारियों के साथ ही अखिल भारतीय और केन्द्रीय सेवा के ग्रुप-ए के अधिकारियों का आधारभूत प्रशिक्षण, राज्य प्रशासनिक सेवा के वरिष्ठ अधिकारियों के मिड-करियर प्रशिक्षण और स्वॉन प्रोजेक्ट के तहत उच्च और स्कूल शिक्षा के विद्यार्थियों के लिये वर्चुअल कक्षाओं का संचालन किया जा रहा है। 

श्रीवास्तव ने बताया कि अकादमी में प्रतिवर्ष लगभग 250 ट्रेनिंग प्रोग्राम होते हैं। इसके अलावा संगोष्ठियां एवं कार्यशालाएं भी होती हैं। यहां भारत सरकार से परिचयात्मक प्रशिक्षण कार्यक्रम के लिये वित्त पोषित परियोजना भी क्रियान्वित की जा रही है। अकादमी में सर्वोत्तम प्रकोष्ठ बनाया गया है। उन्‍होंने बताया कि सेटकॉम केन्द्र से पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग के करीब 33 हजार पंचायत सचिवों और रोजगार सहायकों को यहां प्रशिक्षित किया गया है।

मात्र 260000/- में टोंक रोड जयपुर में प्लॉट 9314188188 

More From state

Trending Now
Recommended