संजीवनी टुडे

इंडियन एजुकेशन अवार्ड 2019 से सम्मानित होगी राजकीय प्राथमिक पाठशाला धिड़

संजीवनी टुडे 24-04-2019 17:03:49


फतेहाबाद। सरकारी स्कूलों की सूरत बदलने के प्रयासों में जुटे अध्यापकों की मेहनत रंग लाती नजर आ रही है। राजकीय प्राथमिक पाठशाला धिड़ में बच्चों को शिक्षा के लिए बेहतरीन माहौल उपलब्ध करवाने और नए-नए तरीकों से बच्चों को स्मार्ट शिक्षा देने के चलते इस स्कूल को इंडियन एजुकेशन अवार्ड 2019 के लिए चयनित किया गया है। जैसे ही स्कूल को यह उपलब्धि हासिल होने की सूचना मिली स्कूल के अध्यापकों व बच्चों के अलावा ग्रामीणों में भी खुशी की लहर दौड़ गई और उन्होंने स्कूल के मुख्य शिक्षक सेवा सिंह मुवाल व स्टाफ सदस्यों को बधाई दी। 

मात्र 240000/- में टोंक रोड जयपुर में प्लॉट 9314166166

पृथ्वी दिवस पर पौधरोपण करके इस खुशी का इजहार किया गया। स्कूल को 4 मई को दिल्ली के द्वारका में स्थित होटल रेडिशन ब्लू में आयोजित सम्मान समारोह में यह अवार्ड देकर सम्मानित किया जाएगा। स्कूल के मुख्य शिक्षक सेवा सिंह मुवाल ने बुधवार को यह जानकारी देते हुए इसे शिक्षक अशोक कुमार गोदारा, सतीश सैनी, रामनिवास जांगड़ा व अन्य सभी स्टाफ सदस्यों व बच्चों की मेहनत का परिणाम बताया। 

उन्होंने कहा कि जैसे ही वे सरकारी सेवा में आए, उनका लक्ष्य सरकारी शिक्षा को लेकर लोगों में फैली भ्रांतियों को दूर कर बच्चों को बेहतर शिक्षा देना रहा है। वे स्कूल में बच्चों को पढऩे के लिए शानदार क्लास रूम, खेलने के लिए हरा-भरा मैदान व सभी तरह की सुविधाएं जो निजी स्कूलों में बच्चों को मिलती हैं, देने के प्रयास कर रहे हैं जिसके लिए उन्हें साथी अध्यापकों के अलावा पंचायत का भी भरपूर सहयोग मिल रहा है। 

गांव के सरपंच प्रतिनिधिमार व एसएमसी प्रधान सुभाष चन्द्र ने इस उपलब्धि पर खुशी जाहिर करते हुए मुख्य शिक्षक सेवा सिंह मुवाल व अध्यापकों को बधाई दी। उन्होंने कहा कि कुछ समय पहले इस स्कूल का हाल इतना बुरा था कि स्कूल में एक भी पौधा नहीं था। साफ-सफाई का बुरा हाल था और बच्चों के पीने के पानी की कोई व्यवस्था नहीं था। ऐसे में इन अध्यापकों के प्रयासों से आज स्कूल की सूरत ही बदल गई है। पहले जहां इस स्कूल में बच्चों की संख्या मात्र 65 थी, अब वह बढ़कर 115 तक पहुंच चुकी है। 

स्कूल में पेयजल, शौचालय, स्मार्ट क्लास रूम, सुंदर बागवानी, खेल सामग्री, शिक्षण सामग्री उपलब्ध करवाई गई हैं। स्कूल में खाली पड़ी जगह पर किचन गार्डन बनाया गया है जिसमें टमाटर, मिर्च, बैंगन, घीया, भिंडी, तोरी, खीरे इत्यादि सब्जियां उगाई गई है। इसके दो फायदे हैं, एक तो स्कूल में सफाई रहे और बच्चों को मिड डे मील में आर्गेनिक सब्जी मिले। इसके लिए अध्यापकों के साथ-साथ अभिभावक भी सहयोग कर रहे हैं। 

MUST WATCH &SUBSCRIBE 

खण्ड शिक्षा अधिकारी अनिल वोहरा ने अध्यापकों के मेहनत की प्रशंसा करते हुए कहा कि अच्छे इंसान जहां भी जाते हैं, वहां खुशबू ही फैलाते हैं। सेवा सिंह व उनकी टीम ने ऐसा ही करके दिखाया हैं। वे चाहते हैं कि जिले के अन्य अध्यापक भी इसी तरह मेहनत कर स्कूल व बच्चों को सक्षम बनाए।

More From state

Loading...
Trending Now
Recommended