संजीवनी टुडे

लोक अदालत में समझौते से कई परिवार हुए एक

संजीवनी टुडे 08-12-2018 18:26:30


उज्जैन। शनिवार को जिले में नेशनल लोक अदालत का आयोजन किया गया। इस लोक अदालत में कई प्रकरणों में समझौते हुए। दोपहर 2 बजे तक जिला स्तरीय 21 खंडपीठों में कुल 538 प्रकरणों में निर्णय किये गये। 
 
लोक अदालत में कई बिछड़े परिवारों को समझाईश के द्वारा मिलाया गया।
जिला एवं सत्र न्यायाधीश आरके वाणी ने बताया कि जिले में लोक अदालत के लिये कुल 39 खंडपीठ गठित की गई थी। लोक अदालत में कुटुंब न्यायालयों में विभिन्न प्रकरणों का आपसी समझौते से निराकरण करते हुए कई बिछड़े परिवारों को एक किया गया। थाना नीलगंगा उज्जैन निवासी सोनू एवं उनके पुत्र नक्श परिवार में विघटन के कारण 2016 से पति से अलग रह रहे थे। कुटुंब न्यायालय में उनके द्वारा वाद प्रस्तुत किया गया। उभयपक्ष के मध्य प्रधान न्यायाधीश कुटुंब न्यायालय जीपी अग्रवाल द्वारा सुलह वार्ता करवाई गई। उभयपक्ष के मध्य राजीनामा के फलस्वरूप दिलीप और सोनू एक होकर खुशी-खुशी अपने पुत्र नक्श के साथ घर गये। 
 

इसी तरह भेरूनाला निवासी संदीप पिता बाबूलाल एवं बारां राजस्थान के ग्राम अंता की रानु के मध्य भी विवाह के बाद आपस में नहीं बनने के कारण परिवार में टूटन आ गई थी। दोनों की एक पुत्री भी है, जो कि अपनी मां के साथ निवास कर रही थी। सुलहकर्ता द्वारा आवेदक और अनावेदिका के मध्य सुलह वार्ता कराई गई।

जयपुर में प्लॉट: 21000 डाउन पेमेन्ट शेष राशि 18 माह की आसान किस्तों में, मात्र 2.30 लाख Call:09314188188

MUST WATCH & SUBSCRIBE

 पति के विरूद्ध जितने भी प्रकरण पत्नी ने लगाये थे, वह उसने वापस ले लिये और परिवार एक हो गया। इसी तरह हीरा मील की चाल में रहने वाली अंजलि मेहरा व पति पंकज मेहरा के बीच भी हुई अनबन को कुटुंब न्यायालय में समाप्त कर सुलह वार्ता करवाई गई। अब पति-पत्नी दोनों सहर्ष साथ रहने को राजी हो गये हैं। 
 
sanjeevni app

More From state

Loading...
Trending Now
Recommended