संजीवनी टुडे

नारद स्टिंग ऑपरेशन मामले में शोभन की पत्नी से ईडी ने की पूछताछ

संजीवनी टुडे 09-07-2019 15:09:53

नारद स्टिंग ऑपरेशन मामले में धन शोधन की जांच कर रहे प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने मंगलवार को कोलकाता के पूर्व मेयर व तृणमूल नेता शोभन चटर्जी की पत्नी रत्ना चटर्जी से पूछताछ की है।


कोलकाता। नारद स्टिंग ऑपरेशन मामले में धन शोधन की जांच कर रहे प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने मंगलवार को कोलकाता के पूर्व मेयर व तृणमूल नेता शोभन चटर्जी की पत्नी रत्ना चटर्जी से पूछताछ की है। दोपहर के समय रत्ना साल्टलेक के सीजीओ कंपलेक्स में स्थिति ईडी के पूर्वी क्षेत्रीय मुख्यालय में पहुंची जहां  मामले की जांच कर रही टीम उनसे पूछताछ कर रही है। जांच एजेंसी के सूत्रों के हवाले से। बताया गया है कि रत्ना का बयान रिकॉर्ड किया जा रहा है। 

दरअसल पश्चिम बंगाल में 2016 के विधानसभा चुनाव के समय नारद स्टिंग ऑपरेशन का वीडियो जारी किया गया था। इसमें सत्तारूढ़ पार्टी के 11 नेता, मंत्री और राज्य के एक आईपीएस अधिकारी कैमरे के सामने  घूस लेकर एक फर्जी कंपनी को पश्चिम बंगाल में कारोबार करने में मदद करने का आश्वासन देते नजर आए थे। तब शोभन चटर्जी कोलकाता के मेयर थे। उन पर पांच लाख रुपये लेकर फर्जी कंपनी के सीईओ बने नारद न्यूज़ पोर्टल के निदेशक मैथ्यू सैमुअल को कोलकाता और आसपास के क्षेत्रों में कारोबार में हर तरह की मदद  का आश्वासन देने का आरोप है। 

कोर्ट के निर्देश पर केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) ने इसकी जांच शुरू की थी और ईडी ने धन शोधन का मामला दर्ज कर इसकी जांच शुरू कर दी थी। इस मामले में जब शोभन चटर्जी से पूछताछ हुई तब उन्होंने बताया कि उनके रुपये का सारा हिसाब किताब उनकी पत्नी रत्ना रखती थी। बाद में जब उनकी पत्नी रत्ना से पूछताछ हुई तब उन्होंने शोभन की महिला मित्र बैसाखी बनर्जी को इसके लिए जिम्मेवार ठहराया था और दावा किया था कि शोभन चटर्जी के रुपये का हिसाब बैसाखी ही रखती थी। 

सीबीआई ने उसके बाद शोभन चटर्जी और बैसाखी से फिर पूछताछ की तब पता चला कि शोभन को अंधेरे में रखकर रत्ना चटर्जी ने बेनामी संपत्तियां खरीदी है और कंपनियां भी खोली है। उसमें अभिजीत गांगुली नाम के उसके एक और सहयोगी भी शामिल हैं। इसके अलावा रत्ना के मित्र अभिजीत ने शोभन चटर्जी से कथित तौर पर तीन करोड़ रुपये लिए थे। 

उस रुपये का इस्तेमाल चिटफंड व स्टिंग ऑपरेशन मामले में सीबीआई और ईडी को मैनेज करने के लिए किया जाना था। इसी की जांच में ईडी की टीम जुट गई है। रुपये कहां से आए, कहां खर्च किए गए, क्यों लिए आदि के बारे में पूछताछ होगी। रत्ना से पहले भी पूछताछ हुई है। उनके बयानों के मुताबिक तथ्यों को जांचने की कोशिश ईडी की टीम करेगी। 

गोवर्मेन्ट एप्रूव्ड प्लाट व फार्महाउस मात्र रु. 4300/- गज, अजमेर रोड (NH-8) जयपुर में 7230012256

bhggd

More From state

Trending Now
Recommended