संजीवनी टुडे

चक्रवात प्रभावित क्षेत्रों में दिलीप घोष ने खुद ही काटा पेड़, साफ की सड़कें

संजीवनी टुडे 25-05-2020 15:07:19

भाजपा की पश्चिम बंगाल इकाई के अध्यक्ष दिलीप घोष ने सोमवार सुबह चक्रवात प्रभावित सॉल्टलेक क्षेत्र में सड़कों पर गिरे पेड़ों को काटकर हटाते नजर आए हैं।


कोलकाता। भाजपा की पश्चिम बंगाल इकाई के अध्यक्ष दिलीप घोष ने सोमवार सुबह चक्रवात प्रभावित सॉल्टलेक क्षेत्र में सड़कों पर गिरे पेड़ों को काटकर हटाते नजर आए हैं। इस इलाके में उनका घर है।

घोष पश्चिम बंगाल सरकार पर लगातार यह आरोप लगाते रहे हैं कि चक्रवात से निपटने की तैयारियां पुख्ता नहीं की गई थीं। उसके बाद सोमवार सुबह हाफ पैंट और गंजी में ही वह अपने घर से बाहर निकले और पार्टी के कई अन्य नेताओं तथा कार्यकर्ताओं को लेकर सड़कों पर गिरे पेड़ों को काटकर हटाने लगे। इस दौरान दिलीप घोष के सुरक्षाकर्मियों ने भी कटे हुए पेड़ों के हिस्से को हटाने में मदद की।

इस बारे में पूछने पर घोष ने कहा कि पिछले कई दिनों से हमारे इलाके में पेड़ गिरे पड़े हैं। राज्य सरकार को इससे कोई लेना-देना नहीं, इसलिए मैं खुद ही सड़कों पर उतर गया हूं। पेड़ों को हटाने के लिए मेरे साथ भाजपा के कार्यकर्ता हैं। साल्ट लेक एक ऐसा क्षेत्र है जहां वरिष्ठ लोग ज्यादा रहते हैं। उनके लिए ऐसे कार्य करना संभव नहीं है। इसलिए इधर पेड़ आदि गिरने की वजह से बिजली आपूर्ति लगातार बाधित है। 

उन्होंने कहा कि क्षेत्र में नगर निगम के लोग नजर नहीं आते। जलापूर्ति बाधित है, लेकिन कोई ठीक करने के लिए नहीं आ रहा है। विद्युत आपूर्ति नहीं हो रही। उन्होंने यह भी कहा कि वह पेड़ आदि काटकर पश्चिम बंगाल सरकार की मदद कर रहे हैं। क्षेत्र में रहने के कारण कहा कि साफ-सफाई और लोगों की सुविधाओं को ध्यान रखना उनकी अपनी जिम्मेवारी है। 

केवल सरकार पर भरोसा कर आम लोग बैठे नहीं रह सकते। उन्होंने यह भी कहा कि किसी भी सरकार के लिए हर एक समस्या का समाधान कर देना संभव नहीं है। लोगों को भी हाथ बटाना चाहिए। इससे समस्याओं का समाधान जल्द आसानी से होगा।

उल्लेखनीय 20 मई को चक्रवात आया था। उसके बाद छह दिन बीत चुके हैं, लेकिन कोलकाता, साल्टलेक, उत्तर और दक्षिण 24 परगना के विस्तृत इलाके में अभी भी बिजली आपूर्ति अथवा इंटरनेट सेवाएं बहाल नहीं हो सकी हैं। 

यह खबर भी पढ़े: सेहत के लिए फायदेमंद होती हैं काली चाय, दूध वाली चाय से होते हैं शरीर को ये 5 नुकसान

यह खबर भी पढ़े: जानिए क्या है जंग-ए-बद्र जिसके बाद से मनाया जाने लगा ईद-उल-फित्र का त्योहार

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From state

Trending Now
Recommended