संजीवनी टुडे

बाड़ाबंदी में महिला विधायकों ने हाथों में मेहंदी रचाकर तीज माता से मांगा अखंड सुहाग

संजीवनी टुडे 06-08-2020 22:35:10

राजधानी जयपुर से थार मरुस्थल के गढ़ जैसलमेर स्थानांतरित किए गए गहलोत खेमे की महिला विधायकों ने गुरुवार को सातूड़ी तीज (कजली तीज) का पर्व मनाया।


जयपुर। राजस्थान में सरकार बचाने की कोशिशों के बीच राजधानी जयपुर से थार मरुस्थल के गढ़ जैसलमेर स्थानांतरित किए गए गहलोत खेमे की महिला विधायकों ने गुरुवार को सातूड़ी तीज (कजली तीज) का पर्व मनाया। महिला विधायकों ने जैसलमेर की पांच सितारा होटल सूर्यागढ़ पैलेस में दोपहर में हाथों पर मेहन्दी रचाई और अखंड सुहाग की कामना को लेकर व्रत रखा। इस बीच कुछ पुरुष विधायकों ने जैसलमेर की विख्यात पटवों की हवेली का भ्रमण किया। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत गुरुवार को विधायकों के साथ विधानसभा सत्र की रणनीति पर चर्चा के लिए जयपुर से जैसलमेर जाने वाले थे, लेकिन उन्होंने अपना कार्यक्रम निरस्त कर दिया।

महिला विधायकों ने भाद्रपद के कृष्ण पक्ष की तृतीया पर हाथों और पैरों में मेहंदी लगाई तथा व्रत रखकर तीज माता की पूजा-अर्चना की। मंत्री ममता भूपेश, जोधपुर शहर विधायक मनीषा पंवार सहित अन्य महिला विधायकों ने अखंड सुहाग के लिए व्रत रखकर अपने पति की लम्बी उम्र की कामनाएं की।

सियासी उठापटक के बीच बसपा विधायकों के मामले में हाईकोर्ट की डिवीजन बैंच ने गुरुवार को फैसला दिया कि विधायकों को सिंगल बैंच से जारी नोटिस की 8 अगस्त तक तामील करवाई जाएगी। इसकी जिम्मेदारी जैसलमेर जिला जज को दी जाएगी। जरूरत पडऩे पर वे पुलिस की मदद भी ले सकेंगे। डिवीजन बैंच ने विधायकों के दलबदल पर अस्थाई स्थगन का फैसला सिंगल बैंच पर ही छोड़ दिया। सिंगल बैंच में 11 अगस्त को सुनवाई होगी। डिवीजन बैंच ने निर्देश दिया है कि उसी दिन सुनवाई कर फैसला सुना दिया जाए। गहलोत गुट के विधायक जैसलमेर में बाड़ेबंदी में हैं। बसपा से कांग्रेस में गए 6 विधायक भी उनमें शामिल हैं। अब जैसलमेर और बाड़मेर के प्रमुख अखबारों में भी नोटिस पब्लिश करवाया जाएगा। इस मामले में भाजपा विधायक मदन दिलावर और खुद बसपा ने भी हाईकोर्ट की सिंगल बैंच के आदेश को डिवीजन बैंच में चुनौती दी थी। सिंगल बैंच ने विधायकों के दलबदल पर तुरंत स्टे देने की बजाय 30 जुलाई को नोटिस जारी किए थे।

इस बीच भारतीय जनता पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष डॉ. सतीश पूनियां ने गुरुवार को ट्वीट कर गहलोत खेमे के विधायकों के साथ मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पर तंज कसा। उन्होंने राममंदिर पर कांग्रेस के रूख और जैसलमेर में विधायकों की बाड़ाबंदी पर सवाल उठाए। उन्होंने कहा कि सीएम ने कहा था कि विधायकों पर जो मामले दर्ज किए गए हैं, वो गलत हुए तो पद से इस्तीफा दे दूंगा। तो अब उन्हें इस्तीफा देना चाहिए। पूनियां ने कहा कि ये यूटर्न वाली सरकार है। मुख्यमंत्री बात के ही धणी हैं। राजस्थान तो बात और तलवार के धनी लोगों की धरती है। यू-टर्न लेकर कितने दिन सरकार चलाएंगे।

यह खबर भी पढ़े: राममंदिर भूमिपूजन पर पाकिस्तान को भारत का करारा जवाब, आतंकी देश से यही उम्मीद

यह खबर भी पढ़े: राष्ट्रीय महिला आयोग ने महेश भट्ट व मौनी रॉय सहित कई अभिनेत्रियों को भेजा नोटिस

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From state

Trending Now
Recommended