संजीवनी टुडे

मुझे स्वीकार करने में संकोच नहीं, जनता मुझे देखना चाहती थी सीएम : गहलोत

संजीवनी टुडे 08-04-2019 16:37:38


बीकानेर। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि विधानसभा चुनाव-2018 के समय प्रदेश की जनता मुझे ही मुख्यमंत्री देखना चाहती थी। उन्होंने कहा कि मैं यह स्वीकार करता हूं और मुझे यह बात कहने में कोई संकोच नहीं है कि जनता मुझे ही सीएम के लिए पुकार रही थी लेकिन मैंने कभी नहीं कहा मुझे सीएम बनाओ। 

मात्र 240000/- में टोंक रोड जयपुर में प्लॉट 9314166166

मुख्यमंत्री बनने के बाद पहली दफा संभाग मुख्यालय के पत्रकारों से मिले गहलोत ने सवाल के जवाब में कहा कि सीएम किसे बनाना चाहिए यह पार्टी हाईकमान तय करता है। मैंने कभी डिमाण्ड नहीं की लेकिन कांग्रेस पार्टी ने मुझे सीएम बनाया और जनता की मांग पर मुख्यमंत्री बनाया। उन्होंने यह भी माना और कहा कि हमारी पार्टी में कुछ लोग ऐसे हैं जो अपनी 'राजनीति' को चमकाने के लिए मीडिया को गुमराह करते हैं, लेकिन उन्होंने मीडियाकर्मियों से भी अपेक्षा की कि वे सत्य को ही प्रकाशित करें।

उन्होंने कहा कि भाजपा-आरएसएस को गुस्सा बहुत जल्दी आता है, पत्रकारों की पिटाई के अधिकांश मामले भाजपा-आरएसएस के कार्यकर्ताओं के नाम ही हैं, हमने हमारी आलोचना को भी सहजता से लिया है। उन्होंने यह भी कहा कि सचिन पायलट ऐसे प्रदेशाध्यक्ष हैं जिन्होंने पांच साल तक कांग्रेस की कमान संभाले रखी, उनके खिलाफ किसी ने नहीं कहा कि प्रदेशाध्यक्ष बदला जाए। 

125 साल हो गए कांग्रेस ने शानदार इतिहास रचा है : सीएम गहलोत
इससे पहले रविवार रात्रि कांग्रेस के कार्यकर्ता सम्मेलन में गहलोत ने कहा कि बीकानेर में हमेशा मुझे चुनाव में आने का अवसर मिलता है, यहां मैं देखता हूं कि कार्यकर्ताओं में जो निष्ठा है, समर्पण भाव है, उत्साह है उसको देख कर के उम्मीदवार का भी और नेताओं की भी हौसला अफजाई होती है उसके लिए मैं आपका शुक्रिया अदा करना चाहता हूं। 

गहलोत ने कहा कि यह चुनाव देश की तकदीर का फैसला करेगा। राहुल गांधी ने यहां जो सभी मंच पर बैठे हैं उनकी राय ली और उसके बाद में फैसला किया गया मदन गोपाल मेघवाल को कांग्रेस का उम्मीदवार घोषित करना है और टिकट एक ही मिलता है दो मिलते नहीं है। 

कांग्रेस की एक खासियत है और जो समझदार नेता होता है वह चाहे राहुल गांधी जी हो, सोनिया गांधी जी हो, राजीव गांधी जी थे, इंदिरा गांधी जी थी मैंने अनुभव किया है कि समझदार नेता टिकट मिलने के बाद में यह भूल जाता है कि मैंने कल किसके लिए क्या कहा था?। जैसे ही टिकट डिक्लेअर हुआ उसे सिर्फ इंदिरा गांधी के हाथ का निशान दिखता है, तिरंगा झंडा दिखता है जो त्याग का, बलिदान का, कुर्बानी का इतिहास रखता है। 

MUST WATCH & SUBSCRIBE

आप तो हमारे कांग्रेस परिवार के सदस्य है इसलिए मैं कहना चाहूंगा हमको गर्व होना चाहिए कि हम लोग यहां बैठे हुए हैं इस तिरंगे झंडे के नीचे, 125 साल से अधिक हो गए हैं इस पार्टी को जिसमें शानदार इतिहास रचा है।

More From state

Trending Now
Recommended