संजीवनी टुडे

सिंगरौली-सोनभद्र में सोने का विशाल भण्डार, बढ़ेगी भारत की आर्थिक ताकत

संजीवनी टुडे 22-02-2020 21:33:15

सोनभद्र से लगी सिंगरौली की पहाडिय़ों में सोने भण्डार मौजूद है। पिछले वर्षों रिलायंस कंपनी ने अपने सर्वे में रीवा जिले के मऊगंज की पहाडिय़ों में भी सोने का पता लगाया है।


रीवा। संभाग के सिंगरौली जिले की सीमा से लगे यूपी के सोनभद्र की पहाडिय़ों में सोने का विशाल भंडार मिलने के बाद इसकी चर्चा पूरी दुनिया में शुरू हो गई है। अमेरिका, ब्रिटेन और रूस भी इस सूचना से अचंभित हैं। सोने की खुदाई होने के बाद भारत के स्वर्ण भंडार में जो इजाफा होगा, उससे न केवल भारत की आर्थिक ताकत बढ़ेगी, बल्कि सोने के मामले में भारत अमेरिका को भी पछाड़ कर अपनी बादशाहत कायम कर सकता है। सोनभद्र से लगी सिंगरौली की पहाडिय़ों में सोने भण्डार मौजूद है। पिछले वर्षों रिलायंस कंपनी ने अपने सर्वे में रीवा जिले के मऊगंज की पहाडिय़ों में भी सोने का पता लगाया है।

विंध्य पर्वत श्रंखला सोनभद्र में सोने के विशाल भंडार के बाद भारत सोना के मामले में दुनिया के तीन शीर्ष देशेां में शामिल हो गया है। भारतीय भूगर्भ सर्वेक्षण विभाग के मुताबिक जिले में करीब 3350 टन स्वर्ण भंडार होने का अनुमान है। यह देश के कुल गोल्ड रिजर्व का पांच गुना है। इस सोने की कीमत करीब 12 लाख करोड़ है। मौजूदा समय में भारत के पास लगभग 626 टन सोने का भंडार है। विश्व स्वर्ण काउंसिल की रिपोर्ट के मुताबिक, संयुक्त राज्य अमेरिका के पास दुनिया में सबसे अधिक 8,133.5 टन गोल्ड रिजर्व है। इसके बाद जर्मनी के पास 3,366 टन और अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) के पास 2,814 टन है। भारत से ज्यादा सोने का भंडार रखने वाले अन्य देशों में इटली 2,451.8 टन, फ्रांस 2436 टन, रूस 2,241.9 टन, चीन 1,948.3 टन, स्विट्जरलैंड 1,040 टन और जापान के पास 765.2 टन का भंडार है।

अन्य खनिज भी दबा है सोन पहाड़ी में

जिस जगह सोना मिलने की पुष्टि हुई है, उन पहाडिय़ों में सोने के अलावा तमाम अन्य बेशकीमती खनिज भी जाए जाते हैं। यहां के सलैयाडीह क्षेत्र में एडालुसाइट, पटवध क्षेत्र में पोटाश, भरहरी में लौह अयस्क और छपिया ब्लाक में सिलीमैनाइट के भंडार सदियों से दबे पड़े हैं। जिले के खनिज अधिकारी केके राय के मुताबिक, यहां यूरेनियम का भी भंडार होने की संभावना है। सोने की खदान होने के बाद इस खनिजों की भी खुदाई और परिवहन हो सकेेगा।

खान पर ज़हरीले सांपों का पहरा

सोनभद्र की सोन पहाडिय़ों पर दुनिया के सबसे जहरीले सांपों का बसेरा है। विंध्य पर्वत शृंखलाओं के बीच स्थित इन पहाडिय़ों में रसेल वाइपर, कोबरा व करैत जैसी प्रजातियां पायी जाती हैं। यदि यह सांप किसी को काट लें तो उसे बचाना संभव नहीं है। जुगल थाना क्षेत्र, महोली विंढमगंज चोपन ब्लाक का कोन क्षेत्र बहुत खतरनाक है। विश्व का सबसे जहरीले सांप रसेल वाइपर सोनभद्र में ही मिलता है। बताते हैं कि वाइपर के जहर में हीमोटॉक्सिन होता है, जो खून को जमा देता है। और घंटे भर से भी कम समय में काटने वाले व्यक्ति की मौत हो जाती है।

शिव पहाड़ी और राम-सीता पत्थर भी है नाम

सोनभद्र की पहाडिय़ों का जिक्र रामायण काल में भी हुआ है। तब से लेकर अब तक यहां सोने के भंडार की चर्चाएं होती रही हैं। लेकिन हजारों साल बाद अब यहां सोना पाए जाने की अधिकृत जानकारी मिली है। जियोलॉजिकल सर्वे आफ इंडिया ने भी दोनों जगहों का चिह्नांकन सीता-राम पत्थर के रूप में किया है। स्वर्ण भंडार मिलने के बाद हरदी और सोन पहाड़ी के प्रति लोगों की आस्था और श्रृद्धा बढ़ गयी है।

सीमाएं मिलती हैं चार राज्यों से

सिंगरौली से लगा सोनभद्र देश का इकलौता जिला है जिसकी सीमाएं चार राज्यों मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, झारखंड और बिहार से मिलती हैं। यह यूपी का सबसे बड़ा जिला भी है। बताया जाता है आजादी से पहले यहां सोना ढूंढने का काम अंग्रेजों ने शुरू किया था। यह पूरा इलाका आदिवासियों की आबादी का है। यहां नक्सल मूवमेंट का भी आंशिक असर है।

यह खबर भी पढ़ें:​ डोनाल्ड ट्रंप के आगमन की तैयारियों पर कांग्रेस ने उठाये सवाल

जयपुर में प्लॉट मात्र 289/- प्रति sq. Feet में  बुक करें 9314166166

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

More From state

Trending Now
Recommended