संजीवनी टुडे

कैसे हारेगा कोरोना:-प्रदेश में नर्सिंग अधीक्षक के 259 पद स्वीकृत लेकिन वर्तमान में केवल 10 ही कार्यरत

बनवारी चन्दवाड़ा

संजीवनी टुडे 17-09-2020 12:59:05

अस्पतालों में नर्सिंग अधीक्षकों के 249 पद खाली होने से पूरी व्यवस्था चरमराई हुई है और कई तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है।


आरपीएससी की ओर से नियुक्त सदस्य रामू राम रायका को करनी है अन्तिम बैठक लेकिन साहब के पास अभी समय नहीं है ! 

जयपुर। प्रदेश में इन दिनों कोरोना जमकर आतंक मचा रहा है जहां प्रदेश में कोरोना संक्रमितों की संख्या एक लाख के पार जा चुकी है वही यह संख्या धीरे-धीरे और बढ़ती जा रही है। कोरोना को काबू में करने के लिए चिकित्सकों की टीम पूरी तरह मुस्तैद है लेकिन अस्पतालों में नर्सिंग अधीक्षकों के 249 पद खाली होने से पूरी व्यवस्था चरमराई हुई है और कई तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। एक तरफ तो सरकार दावा करती है कि सरकार की तरफ से कोरोना को लेकर कोई भी कमी नहीं आने दी जाएगी, लेकिन वही प्रदेश के अस्पतालों में कोरोना का जिम्मा संभाले नर्सिंग कर्मियों को देखने वाला तक कोई नहीं है।

aD

प्रदेश का हाल यह है कि राज्य सरकार द्वारा नर्सिंग अधीक्षकों के 259 पद स्वीकृत किये गये है लेकिन वर्तमान में इनमे से मात्र 10 नर्सिंग अधीक्षक ही कार्यरत है। बाकी जगह विभाग द्वारा कार्यवाहक लगाये गये है जिनके द्वारा जैसे -तैसे काम तो चलाया जा रहा है लेकिन विभाग है कि कोरोना दौर मे भी इस गभींर समस्या पर कोई कार्रवाई करता नजर नहीं आ रहा है जो विभाग एक बड़ी लापरवाही को दर्शाता है। 

aD
चिकित्सा विभाग की ओर से डीपीसी तैयार,आरपीएससी में अटकी:-
सरकार की ओर से एक सूची तैयार कर आरपीएससी को भिजवा दी गई है जहां आयोग की ओर से नियुक्त सदस्य  रामू राम रायका को बैठक कर अन्तिम रूप देना है लेकिन रामू राम रायका की ओर से तारीख नहीं देने के कारण विभाग लिस्ट जारी नहीं कर रहा है।अगर आने वाले समय में भी यही आलम रहा तो फ्रंट लाइनर्स के रूप में कार्य कर रहे  नर्सिंग कर्मियों को और अधिक परेशानी का सामना करना पड़ सकता है जिसका खामियाजा केवल और केवल जनता को भुगतना होगा।

वर्ष 2013-14 के बाद से नहीं हुई कोई डीपीसी जारी:-

विभाग की ओर से वर्ष 2013-14 के बाद से कोई डीपीसी जारी नहीं हो सकी है जिसका खामियाजा जनता को भुगतना पड़ रहा है। इसके बाद की वरिष्ठता सूची बनकर तैयार है लेकिन सरकार की लापरवाही के चलते सूची जारी नहीं हो सकी है। सबसे बड़ी बात यह है कि तैयार वरिष्ठता सूची का इंतजार करते- करते कई लोग रिटायर्ड भी हो चुके है।अगर सरकार की ओर से इस मामले को गंभीरता से लिया जाता है तो आमजन व नर्सिंग कर्मियों को राहत मिल सकेगी। 

अधिकारी फोन उठाने को तैयार नहीं,जवाब किससे ले:- 
इस मामले को लेकर संजीवनी टुडे संवाददाता ने जिम्मेदार अधिकारी आरपीएससी चेयरमैन दीपक उप्रेती व नर्सिंग अधीक्षक डीपीसी हेतु नियुक्त आरपीएससी सदस्य रामू राम रायका को कई फोन किये लेकिन अधिकारी है कि किसी भी फोन का जवाब नहीं रहे है। ऑफिस में फोन करने पर इनके सहायक भी साहब के मीटिंग में होने का हवाला देकर अपना पल्ला झाड़ रहे है। 

"हमने सूची तैयार कर आरपीएससी को भिजवा दी है जैसे ही आरपीएससी तारीख देंगी उस हिसाब से डीपीसी जारी कर दी जाएगी"
          मुकुल शर्मा 
अतिरिक्त निदेशक( प्रशासन)
चिकित्सा एवं स्वास्थ्य सेवाएं, जयपुर

यह खबर भी पढ़े: LAC को लेकर फिर पलटा चीन का बयान, कहा- भारत पर छोड़ी सीमा पर शांति बहाली की पूरी जिम्मेदारी

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From state

Trending Now
Recommended