संजीवनी टुडे

राम मंदिर निर्माण को हिंदू संगठनों और संत समाज ने भरी हुंकार, संसद में अध्यादेश लाए मोदी सरकार

संजीवनी टुडे 08-12-2018 18:43:04


डेस्क। अयोध्या में राम मंदिर निर्माण को लेकर शनिवार को ऐतिहासिक सेरी पैवेलियन में हिंदू संगठनों और संत समाज ने हुंकार भरी। मंडी संसदीय क्षेत्र की इस संकल्प सभा में विश्व हिंदू परिषद के आहवान पर हजारों की संख्या में राम भक्तों ने अयोध्या में मंदिर निर्माण केलिए हिंदू समाज को संगठित होने का आह्वान किया। 
भगवा रंग में रंगे सेरी पैवेलियन में वक्ताओं ने कहा कि बहुत हुई बातें, बहुत हुई बहस अब करो संकल्प। इसी संकल्प सभा के दौरान मुख्य वक्ता के रूप में आरएसएस के सह प्रांत प्रचारक संजय ने कहा कि दुनिया की कोई भी ताकत अब राम मंदिर को बनाने से रोक नहीं सकती है। 


उन्होंने कहा कि शाहबानों केस केलिए रातों रात कानून बनाया गया, मगर राम मंदिर के मुददे को लटकाया जा रहा है। मगर अब हिंदू समाज संगठित और जागृत हो गया है, केंद्र सरकार को अब इसकेलिए संसद में कानून बनाकर मंदिर निर्माण का रास्ता साफ करना होगा।
वहीं पर विश्व हिंदू परिषद के प्रांत कार्य अध्यक्ष लेखराज राणा ने वीएचपी की ओर से राम मंदिर निर्माण को लेकर 77वां और निर्णायक संघर्ष किया जा रहा है।उन्होंने कहा कि देश भर में राज्यपालों के माध्यम से राष्ट्रपति को ज्ञापन भेजे गए। इसके बाद अयोध्या, बंगलुरू, नागपुर के बाद अब दिल्ली में चार बड़ी सभाएं की जा रही है। आंदोलन के तीसरे चरण में जन जागरण केलिए हर संसदीय क्षेत्र में संकल्प सभा की जा रही है। जिसमें सांसदों के माध्यम से प्रधानमंत्री को ज्ञापन भेजा जा रहा है। जिसमें संसद में राम मंदिर निर्माण को लेकर अध्यादेश लाने की मांग की गई। वहीं गीता जयंती के बाद निचले स्तर के सभी धार्मिक स्थलों पर अनुष्ठान कर राम मंदिर निर्माण केलिए प्रार्थना की जाएगी।

महामंडलेश्वर राम शरण दास ने कहा कि राजनीतिक मकडज़ाल में हिंदू समाज उलझता जा रहा है। जिससे राम मंदिर निर्माण में अड़चनें डाली जाती रही है। मगर अब हिंदू समाज संगठित हो गया है। लेकिन कुछ बुद्धिजीवी हिंदू समाज के खिलाफ उठ खड़े हुए हैंंऔर हिंदू हित की उपेक्षा कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जिन्हें संत समाज का आशीर्वाद प्राप्त है। वे भी महाभारत के अर्जुन की तरह व्यामोह में फंसे हुए हैं। उन्होंने मांग की है कि राम मंदिर का फैसला अदालत के बजाय अब संसद में कानून लाकर किया जाना चाहिए। इस अवसर पर मंडी के सांसद रामस्वरूप को राम मंदिर निर्माण बारे संसद में अध्यादेश लाने बारे ज्ञापन सौंपा गया। 

जयपुर में प्लॉट: 21000 डाउन पेमेन्ट शेष राशि 18 माह की आसान किस्तों में, मात्र 2.30 लाख Call:09314188188

MUST WATCH & SUBSCRIBE

इस अवसर पर रामस्वरूप शर्मा ने कहा कि 1990 और 1992 में वे भी कार सेवक के रूप में रामजन्म भूमि आंदोलन का हिस्सा रहे हैं। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस सत्र में राम मंदिर को लेकर संसद में अध्यादेश ला सकते हैं, जिसका वे समर्थन करेंगे।

sanjeevni app

More From state

Loading...
Trending Now