संजीवनी टुडे

सिरमौर के बागथन गौ प्रजनन केंद्र से मिलेगी हिमाचल को अपनी गाय गौरी

संजीवनी टुडे 23-06-2019 17:48:16

यहां के बागथन गौ प्रजनन केंद्र में चल रही महत्वपूर्ण कार्य योजना के तहत जल्द ही प्रदेशवासियों को अपनी हिमालची गाय मिलने वाली है।


सिरमौर। यहां के बागथन गौ प्रजनन केंद्र में चल रही महत्वपूर्ण कार्य योजना के तहत जल्द ही प्रदेशवासियों को अपनी हिमालची गाय मिलने वाली है। इस गाय की खासियत है यह होगी , वह प्रदेश के वातावरण के अनुरूप होगी और दूध का भी अधिक उत्पादन करेगी। बागथन जोकि दुग्ध उत्पादन क्षेत्र के रूप में जाना जाता है। यहां पर पशु पालन विभाग का गौ प्रजनन केंद्र वर्ष 1967 से कार्य कर रहा है। यहां पर ऑस्ट्रेलिया से खास विदेशी नस्ल की गायें लायी गयी हैं। इस समय यहां पर 13 गायें व 7 बैलों समेत 24 पशु रखे गए हैं। साथ ही लोगों को यहां पर दुग्ध उत्पादन बारे भी जानकारी दी जाती है और जागरूकता शिविर भी लगाए जाते हैं। 

अब विभाग ने सरकार के निर्देशों के अनुरूप हिमाचल की अपनी नस्ल की गाय विकसित करने की कार्य योजना बनाई है, जिसके तहत यहां पर शोध और प्रजनन का कार्य चल रहा है। इसके जल्द ही पूरा होने की उम्मीद है। इससे प्रदेश को विशुद्ध रूप से अपनी हिमाचली गाय मिल जाएगी, जिसका नाम गौरी रखा गया है। कहने का मतलब जल्द ही यह नस्ल विकसित होकर लोगों के सामने आने वाली है। उप निदेशक पशुपालन नीरू शबनम ने इसकी पुष्टि की है। उनका कहना है कि इस दिशा में काफी कार्य हो चुका है। जल्द ही प्रदेश को अपनी गाय गौरी मिलने वाली है। 

उप निदेशक पशु पालन डॉ. नीरू  शबनम ने बताया कि वर्ष 1967 में स्थापित इस गौ केंद्र में दुग्ध उत्पादन के बारे लोगों को जानकारियां दी जाती हैं, लेकिन अब यहां पर हिमाचल की अपनी गाय ,गौरी  को लेकर कार्य योजना पर कार्य चल रहा है जोकि यहां की भौगोलिक परिस्थितियों को ध्यान में रखकर विकसित की जा रही है। उल्लेखनीय है कि गौरी के आने से हिमाचल को भी अपनी स्थानीय नस्ल की गाय मिलेगी। इससे दुग्ध उत्पादन की अधिक संभावनाएं भी बढ़ेंगी।

मात्र 260000/- में टोंक रोड जयपुर में प्लॉट 9314166166 

More From state

Trending Now
Recommended