संजीवनी टुडे

हरियाणा : भीषण गर्मी से रेड अलर्ट, तपा मैदान

संजीवनी टुडे 25-05-2020 15:37:08

वैश्विक महामारी कोरोना चुनौती व लॉकडाउन के बीच अब भीषण गर्मी व लू के थपेडों ने परेशानी बढ़ा दी है। पिछले तीन दिन से आसमान से बरस रहे अंगारे और सूर्य देव के तल्ख तेवरों को देखते हुए रेड अलर्ट जारी किया गया है।


चंडीगढ़। वैश्विक महामारी कोरोना चुनौती व लॉकडाउन के बीच अब भीषण गर्मी व लू के थपेडों ने परेशानी बढ़ा दी है। पिछले तीन दिन से आसमान से बरस रहे अंगारे और सूर्य देव के तल्ख तेवरों को देखते हुए रेड अलर्ट जारी किया गया है। यानि मैदानी क्षेत्र गर्मी से पूरी तरह तप चुके हैं। आगामी तीन दिन में दक्षिणी हरियाणा में पारा 48.0 डिग्री सेल्सियस पार कर सकता है।

हरियाणा, पंजाब और चंडीगढ़ में पारा आसमान छू रहा है। दिन झुलस रहा है तो न्यूनतम तापमान में लगातार हो रही बढ़ोतरी से रात्रि भी तपनी शुरू हो गई है। न्यूनतम तापमान में हो रही बढ़ोतरी को देखते हुए हरियाणा में आगामी तीन दिन भीषण गर्मी से जन-जीवन प्रभावित होगा। राष्ट्रीय राजधानी से सटे गुरुग्राम, सोनीपत, फरीदाबाद सहित पूरे एनसीआर क्षेत्र में लू का प्रकोप बढ़ेगा। इन क्षेत्रों में लोगों को भीषण गर्मी का सामना करना पड़ सकता है।

भारतीय मौसम विज्ञान विभाग की रिपोर्ट के मुताबिक, रोहतक में रविवार की रात्रि सबसे गर्म रही, यहां न्यूनतम तापमान 30.0 डिग्री सेल्सियस पर पहुंच गया, जबकि राजस्थान से सटे नारनौल का अधिकतम तापमान 45.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। हिसार का 44.4 डिग्री सेल्सियस, सिरसा का 44.0 डिग्री सेल्सियस और भिवानी का 44.0 डिग्री सेल्सियस रहा। चिलचिलाती धूप, लू व गर्म हवाओं से हीट स्ट्रोक बढ़ने का भी खतरा बना हुआ है, इसलिए लगातार बढ़ रही गर्मी को देखते हुए भारतीय मौसम विज्ञान विभाग की ओर से हिदायत जारी की गई है कि लॉकडाउन में घर से बाहर निकलने का परहेज करें।

केंद्रीय मृदा लवणता अनुसंधान संस्थान करनाल के मुताबिक जारी रेड अलर्ट को देखते हुए दक्षिण हरियाणा के जिलों हिसार, महेंद्रगढ़ व नारनौल में अधिकतम तापमान 48.0 डिग्री सेल्सियस को पार कर सकता है। अन्य जगह पर भी तापमान 44 से 45 डिग्री सेल्सियस के आसपास बने रहने की संभावना है। विशेषज्ञों की मानें तो गर्मी से बचाव के लिए जब भी घर से निकलें तो खाली पेट मत निकलें। सिर पर छाता, साफा या कपड़ा रखकर चलना चाहिए।

मौसम वैज्ञानिकों ने संभावना जताई है कि 28 मई के बाद गर्मी से राहत मिलने की उम्मीद है। 29 मई से एक प्रभावी पश्चिमी विक्षोभ जम्मू कश्मीर के पास पहुंचने का अनुमान है। इसके चलते एक चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र मैदानी भागों पर विकसित होगा। इन दोनों सिस्टम के कारण न सिर्फ पहाड़ों पर, बल्कि मैदानी भागों में बरसात हो सकती है। पूरे उत्तर भारत में 29 से 31 मई के बीच बारिश की संभावना है। यह प्री मानसून का आखिरी चरण होगा।

हरियाणा व पंजाब क्षेत्र से यह चरण शुरू होगा। धीरे-धीरे अन्य इलाकों में भी मौसम बदल सकता है। इस दौरान बादल छाने के साथ ही गरज के साथ बरसात हो सकती है।

यह खबर भी पढ़े: मध्यप्रदेश: मंत्रिमंडल विस्तार की चर्चाओं के बीच राज्यपाल से मिलने राजभवन पहुंचे सीएम शिवराज

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From state

Trending Now
Recommended