संजीवनी टुडे

हरियाणा: भारी संख्या में जमातियों के पॉजिटिव आने से मेडिकल कालेज बना कोविड अस्पताल

संजीवनी टुडे 04-04-2020 18:12:47

हरियाणा में मुस्लिम समुदाय के लोगों के भारी संख्या में कोरोना पीडि़त पाए जाने के बाद प्रदेश सरकार ने नूंह के नलहड़ के शहीद हसन खान मेवाती सरकारी मेडिकल कॉलेज को विशेष रूप से कोविड-19 अस्पताल के रूप में घोषत किया है।


चंडीगढ़। हरियाणा में मुस्लिम समुदाय के लोगों के भारी संख्या में कोरोना पीडि़त पाए जाने के बाद प्रदेश सरकार ने नूंह के नलहड़ के शहीद हसन खान मेवाती सरकारी मेडिकल कॉलेज को विशेष रूप से कोविड-19 अस्पताल के रूप में घोषत किया है। इस अस्पताल में 600 बैड हैं और यहां सभी प्रकार के चिकित्सा उपकरण की पूर्ण उपलब्धता और आपूर्ति है। 

हरियाणा की मुख्य सचिव केशनी आनन्द अरोड़ा ने शनिवार को चंडीगढ़ से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से संकट समन्वय समिति की बैठक की अध्यक्षता करते हुए यह जानकारी दी। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि जो मरीज पहले से इस अस्पताल में भर्ती हैं, उन्हें तुरंत नजदीकी अस्पतालों में स्थानांतरित कर दिया जाए। उन्होंने निर्देश दिए कि प्रदेश के मेडिकल कॉलेजों और अस्पतालों में विशेष रूप से कोविड वार्ड बनाए जाएं।

मुख्य सचिव ने निर्देश दिए कि मेडिकल कॉलेजों को विशेष रूप से कोविड अस्पतालों में परिवर्तित करने के लिए संभावनाएं तलाशी जाएं और प्रत्येक जिले में निजी लैब की भी पहचान की जाए ताकि सभी आवश्यक व्यवस्थाएं पूरी करने के बाद इन लैबों को कोविड- 19 के सैंपल की जांच के लिए नामित किया जा सके। इसके साथ ही, हर अस्पताल और मेडिकल कॉलेज में रैपिड टेस्टिंग किट की उपलब्धता सुनिश्चित की जाए।

मुख्य सचिव ने निर्देश दिए कि सब्जियों के रेट कैप करने के आदेश पहले ही जारी किए जा चुके हैं और सभी उपायुक्त यह सुनिश्चित करें और तय कीमतों को सोशल मीडिया पर व्यापक रूप से प्रसारित किया जाए ताकि लोग को कीमतों के बारे में पता लग सकें। इसके अलावा, अधिकारी यह भी सुनिश्चित करें कि कीमतों की सूची दुकानों के बाहर और फेरीवालों की गाडिय़ों पर चिपकाई जाए। मुख्य सचिव ने यह भी निर्देश दिए कि मूंग दाल और सरसों के तेल की दर भी तय की जाए।

जहां मिले कोरोना पॉजिटिव वहां दूध विक्रेताओं के जाने रोक
मुख्य सचिव ने निर्देश दिए कि जिन जिलों में जहां-जहां कोरोना के पॉज़िटिव मामले पाए गए हैं, उन इलाकों में दूध की आपूर्ति करने वाले दूधवालों की संख्या को कम किया जाए और इसके स्थान पर पैक्ड दूध की आपूर्ति बढ़ाने पर अधिक ध्यान दिया जाए। उन्होंने निर्देश दिए कि किसी भी आवश्यक वस्तु की तय दर से अधिक कीमत न वसूली जाए, इस पर कड़ी निगरानी रखी जाए।

उन्होंने यह भी निर्देश दिए कि पुरानी धर्मशालाओं में रहने वाले साधुओं की उचित निगरानी की जानी चाहिए और यह सुनिश्चित किया जाना चाहिए कि इन साधुओं की थर्मल स्कैनिंग की जाए और सोशल डिस्टेंसइंग का पालन करवाना सुनिश्चित किया जाए।

यह खबर भी पढ़े: BHEL ने विकसित की इलेक्ट्रोस्टेटिक डिसइंफेक्शन मशीन, कोरोना संक्रमण को फैलने से रोकने में निभाएगी भूमिका

यह खबर भी पढ़े: राजस्थान में कोरोना पॉजिटिव महिला की मौत के बाद शहर में दशहत का माहौल कायम

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From state

Trending Now
Recommended