संजीवनी टुडे

यूपी/ धरती के भगवान ने शिवरात्रि पर शिव की पूजा पर लगाई रोक, 100 शैय्या जिला अस्पताल के विवादित सीएमएस ने आदेश किया लागू

संजीवनी टुडे 20-02-2020 21:26:23

100 शैय्या युक्त जिला चिकित्सालय चिचौली में स्थित श्री सिद्धेश्वर महादेव मंदिर पर धरती के भगवान विवादित सीएमएस ने पूजा अर्चना करने पर रोक लगा दी है। भक्तों को जैसे ही इसकी जानकारी हुई तभी उनके अंदर आक्रोश व्याप्त हो गया, तथा विवादों के घेरे में रहने वाले सीएमएस को कोसने लगे।


औरैया।100 शैय्या युक्त जिला चिकित्सालय चिचौली में स्थित श्री सिद्धेश्वर महादेव मंदिर पर धरती के भगवान विवादित सीएमएस ने पूजा अर्चना करने पर रोक लगा दी है। भक्तों को जैसे ही इसकी जानकारी हुई तभी उनके अंदर आक्रोश व्याप्त हो गया, तथा विवादों के घेरे में रहने वाले सीएमएस को कोसने लगे। अस्पताल के स्टाफ ने नाम नहीं छापने की शर्त पर बताया कि सीएमएस ऐसे ही उल्टे सीधे फरमान जारी करते रहते हैं। वह लोग भी अस्पताल में शिव मंदिर होने के बावजूद सीएमएस की हठधर्मिता के चलते शिवरात्रि पर पूजा पाठ करने से वंचित रहेंगे। धरती के भगवान का दर्जा प्राप्त सीएमएस डॉक्टर राजीव रस्तोगी ने एक लिखित रूप में आदेश जारी किया है। 

जिसमें उन्होंने कहा है कि 21 फरवरी शुक्रवार को महा शिवरात्रि के अवसर पर 100 शैय्या अस्पताल चिचौली में स्थित श्री सिद्धेश्वर महादेव मंदिर पर कोई भी व्यक्ति पूजा पाठ एवं किसी प्रकार का धार्मिक अनुष्ठान नहीं करेगा। डॉक्टर रस्तोगी का कहना है कि पूजा पाठ करने से आने जाने वाले मरीजों एवं उनके तीमारदारों को परेशानी होगी। उन्होंने इस आशय की प्रतिलिपि जिला अधिकारी , सीएमओ, एवं लखनऊ उच्चाधिकारियों को भेजी हैं। आपको बताते चलें कि उपरोक्त सीएमएस लंबे समय से विवादों से घिरे रहते हैं , कहीं वह पत्रकारों से वाद विवाद कर धमकी देते हैं तो कभी स्टाफ के साथ भी अभद्रता का व्यवहार कर मनमाने ढंग से कार्य कराना चाहते हैं। इतना ही नहीं विरोध करने पर वह अपने ही स्टाफ को दंडित करने से नहीं चूकते हैं। जिसके चलते अस्पताल के कर्मचारियों एवं चिकित्सकों में भी हमेशा आक्रोश बना रहता है 

 क्योंकि यदि वह लोग सीएमएस की बात नहीं मानते हैं तो उन्हें कार्रवाई किए जाने का भय सताता रहता है। अस्पताल में मौजूद कुछ कर्मचारियों ने नाम नही छापने की शर्त पर बताया कि उन्हें खेद ही नहीं बल्कि अफसोस है कि अस्पताल के अंदर विश्वेश्वर महादेव मंदिर होने के बावजूद महा शिवरात्रि पर भी वह पूजा अर्चना नहीं कर सकेंगे , क्योंकि इसमें सीएमएस का आदेश आड़े आ रहा है। सीएमएस के इस फरमान को लेकर क्षेत्रीय लोगों में भी आक्रोश व्याप्त है , जो कभी भी ज्वालामुखी बनकर फूट सकता है। सीएमएस के उपरोक्त फरमान से चारों ओर निंदा हो रही है।

यह खबर भी पढ़े: राजस्थान/ दलितों को पीटने के मामले में शामिल सातों अभियुक्त गिरफ्तार, धरना समाप्त

मात्र 289/- प्रति sq. Feet में जयपुर में प्लॉट बुक करें 9314166166

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

More From state

Trending Now
Recommended