संजीवनी टुडे

गहलोत ने कहा, बच्चों में सेवा भाव जागृत करने के लिए सरकार सुलभ कराएगी बाल साहित्य

इनपुट- यूनीवार्ता

संजीवनी टुडे 14-11-2019 21:53:59

गहलोत ने कहा है कि राज्य सरकार बच्चों को देश और समाज के प्रति सेवाभाव रखने की प्रेरणा देने के लिए बाल साहित्य सुलभ कराने के प्रयास करेगी। इसी उद्देश्य से प्रदेश में बाल साहित्य अकादमी का गठन भी किया जायेगा।


जयपुर। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा है कि राज्य सरकार बच्चों को देश और समाज के प्रति सेवाभाव रखने की प्रेरणा देने के लिए बाल साहित्य सुलभ कराने के प्रयास करेगी। इसी उद्देश्य से प्रदेश में बाल साहित्य अकादमी का गठन भी किया जायेगा।

यह खबर भी पढ़ें: ​प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति ने नारायण सिंह के निधन पर किया शोक व्यक्त, मोदी ने कहा...

गहलोत आज आधुनिक भारत के निर्माता देश के प्रथम प्रधानमंत्री पं. जवाहर लाल नेहरू की 130वीं जयन्ती पर मुख्यमंत्री निवास पर विभिन्न राजकीय स्कूलों से आए करीब पांच सौ विद्यार्थियों से संवाद कर रहे थे। उन्होंने बच्चों से कहा कि वे महात्मा गांधी, पं. नेहरू तथा देश के अन्य महापुरूषों के जीवन के बारे में पढ़े, जानें और उनसे प्रेरणा लें।

मुख्यमंत्री ने कहा कि पं. नेहरू और उनके दौर के महान नेताओं ने देश को आजादी दिलाने के लिए गांधी जी के सानिध्य मेें संघर्षमय जीवन बिताया। उन्होंने कहा कि पं. नेहरू बच्चों से बेहद स्नेह रखते थे और इसी कारण उनके जन्मदिवस को बाल दिवस के रूप में मनाया जाता है।

गहलोत ने बच्चों को आशीर्वाद और शुभकामनाएं दीं एवं उनके साथ गुब्बारे छोड़े। उन्होंने खादी वेशभूषा में आए बच्चों से गुलाब के फूल ग्रहण किए और बच्चों को टॉफियां बांटी और उन्हें दुलार किया। इस अवसर पर राजस्थान राज्य बाल संरक्षण अधिकार आयोग की अध्यक्ष श्रीमती संगीता बेनीवाल, अन्य सदस्य तथा बाल अधिकार कार्यकर्ता मौजूद थे।

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From state

Trending Now
Recommended