संजीवनी टुडे

पूर्व मंत्री मंजू वर्मा के पति चंद्रशेखर वर्मा की जमानत याचिका खारिज

संजीवनी टुडे 22-01-2019 22:53:43


बेगूसराय। आर्म्स एक्ट मामले में जेल में बंद पूर्व समाज कल्याण मंत्री मंजू वर्मा के पति चंद्रशेखर वर्मा की जमानत याचिका मंगलवार को मंझौल न्यायालय से खारिज हो गई। इस मामले में चंद्रशेखर वर्मा 29 अक्टूबर से, जबकि पूर्व समाज कल्याण मंत्री मंजू वर्मा 20 नवंबर 2018 से जेल में बंद हैं। मंजू वर्मा की जमानत याचिका पहले ही मंझौल न्यायालय से खारिज हो चुकी है तथा जिला जज के यहां लंबित है जबकि उनके पति की ओर से दाखिल की गई जमानत याचिका को भी न्यायालय ने खारिज कर दिया है। अधिवक्ता सत्यनारायण महतो ने बचाव पक्ष की ओर से न्यायालय को बताया कि मेरा मुवक्किल बिल्कुल निर्दोष है। उन्हें राजनीतिक साजिश के तहत फंसाया गया है। गोली रिकवरी के दौरान हमारे मुवक्किल पटना में थे और उनके संज्ञान में कुछ नहीं था। वे 1997 से लगातार पटना में निवास करते आ रहे हैं जबकि रिकवरी के दौरान बरामद गोली का एक भी हथियार बरामद नहीं हुआ। 

जयपुर में प्लॉट/ फार्म हाउस: 21000 डाउन पेमेन्ट शेष राशि 18 माह की आसान किस्तों में, मात्र 2.30 लाख Call:09314188188

बिना हथियार के बरामद गोली खिलौना के समान है। इसलिए जमानत पाने का अधिकारी है। वहीं, सरकार की ओर से पीपीओ शैलेन्द्र कुमार ने जमानत का विरोध करते हुए कहा मामला काफी संवेदनशील है तथा जिला एवं सत्र न्यायालय के लिए विचारणीय योग्य है। इसलिए जमानत याचिका को खारिज किया जाय। सुनवाई के उपरांत प्रभारी एसीजेएम धीरेन्द्र कुमार राय ने मामले को गंभीर बताते हुए जमानत याचिका खारिज कर दी। बता दें कि मुजफ्फरपुर शेल्टर होम कांड का खुलासा होने के उपरांत वर्मा दम्पत्ति के जीवन में भूचाल आ गया। समाज कल्याण मंत्री के विभाग में हुए उक्त कांड का खुलासा होने से पहले तक सब-कुछ ठीक-ठाक चल रहा था लेकिन कांड का खुलासा होते ही मंजू वर्मा मंत्री को कुर्सी गंवानी पड़ी। इसके बाद जदयू अध्यक्ष सह मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के द्वारा उन्हें पार्टी से निलंबित कर दिया गया। वहीं उनका विभाग होने के कारण सीबीआई के द्वारा दम्पति के हर ठिकाने पर छापेमारी की गई। 

MUST WATCH & SUBSCRIBE

छापेमारी के क्रम में पूर्व समाज कल्याण मंत्री के पति चंद्रशेखर वर्मा के पैतृक आवास चेरिया वरियारपुर थाना क्षेत्र के अर्जुन टोल श्रीपुर से छापेमारी में 50 जिंदा गोली बरामद की गयी।इस मामले में सीबीआई के डीएसपी के द्वारा स्थानीय थाने में प्राथमिकी दर्ज कराई गई जिसमें वर्मा दम्पति को हाईकोर्ट से भी अग्रिम जमानत नहीं मिली ।सुप्रीम कोर्ट का भी दरवाजा खटखटाया गया ।इस बीच मंझौल न्यायालय से कुर्की जब्ती की कार्रवाई का आदेश निकल जाने के कारण पूर्व मंत्री के पति ने आत्मसमर्पण कर दिया । इसके बाद भी पू्र्व मंत्री को राहत नहीं मिली एवं न्यायालय के आदेश से दो दिनों तक चली कुर्की जब्ती की सौ फीसदी कार्रवाई के बाद मंजू वर्मा को भी आत्मसमर्पण करने के लिए मजबूर होना पड़ा। 

More From state

Loading...
Trending Now
Recommended