संजीवनी टुडे

कोटा-झालावाड़ में बाढ़ के हालात, खतरे के निशान से ऊपर नदियां, बांध हुए ओवरफ्लो

संजीवनी टुडे 16-09-2019 13:56:33

राजस्थान के पूर्वी-दक्षिणी जिलों में बीते 5 दिन से भारी वर्षा से बाढ़ के हालात उत्पन्न हो गए हैं।


जयपुर। राजस्थान के पूर्वी-दक्षिणी जिलों में बीते 5 दिन से भारी वर्षा से बाढ़ के हालात उत्पन्न हो गए हैं। कोटा एवं झालावाड़ के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों की सामने आई तस्वीरों में वहां के बिगड़े हालातों का अनुमान लगाया जा सकता है। 

gfdgfdggg

कोटा और झालावाड़ संग ही बूंदी, बारां और प्रतापगढ़ में भी बारिश ने कहर बरपाया है। अनेक क्षेत्रों में बाढ़ के पानी से गांव टापू बनकर रह गए हैं। कोटा कैथून कस्बे में भी बाढ़ में फंसे लोगों को बचाने हेतु सेना ने रेस्क्यू ऑपरेशन का मोर्चा संभाला है। उधर इन सभी जिलों में प्रशासन ने स्कूलों हेतु अवकाश की घोषणा कर दी है। 

यह खबर भी पढ़े:भैंसरोड़गढ़ विद्यालय में पानी भर जाने से फंसे छात्रों को निकालने के प्रयास जारी

कोटा
कोटा में पानी चंबल नदी से लगभग 100 फीट ऊपर बने मकानों की ओर बढ़ रहा है। शहर के अनेक क्षेत्रों में पानी 8 से 10 फीट तक पहुंच गया है। प्रशासन के मुताबिक, सोमवार को भी बाढ़ के हालात बने रहेंगे। उधर, चंबल के नजदीक संजय कॉलोनी में पानी बढ़ने पर एक परिवार के 2 मासूम फंस गए। कांस्टेबल राकेश मीणा ट्‌यूब की मदद से 7-8 फीट गहरे पानी में कूदे एवं दोनों को सुरक्षित निकाल लिया।

बूंदी
बूंदी के बसोली में बीते रविवार को गुढ़ा बांध के 4 गेट 6 फीट तक खोले गए। 12 गांवों में हाईअलर्ट है।

झालावाड़ 
झालावाड़ के चौमहला, गंगधार, रायपुर इलाके में घरों में पानी भरा। सेना के 70 जवानों ने चौमहला इलाके में मोर्चा संभाला।

gfdgfdggg

बारां 
बारां में पार्वती, कालीसिंध एवं परवन नदी के उफान पर रहने से अनेक कस्बों से संपर्क कटा। पलायथा तथा सीसवाली कस्बे की निचली बस्तियों में पानी घुसा। प्रशासन ने घर छोड़ने को बोला। 

धौलपुर 
धौलपुर में भी हालात काफी बुरे हैं। यहां चंबल का ब्रिज डूब गया है जिससे आवागमन बंद हो गया है। पानी ब्रिज से लगभग चार पांच फीट ऊपर बह रहा है। राजाखेड़ा इलाके की बसई घियाराम ग्राम पंचायत के आधा दर्जन गांवों के 50 से ज्यादा मकानों को खाली किया गया है। गांवों का एक-दूसरे से संपर्क तक भी कट गया है। 

जिले के बांधों की स्थिति
कंट्रोल रूम की माने तो, शनिवार को जिले के कालीसिंध बांध के 21 गेट 144 मीटर खोलकर 4 लाख 81 हजार 600 क्यूसेक पानी की निकासी की गई।
- वहीं, गागरीन बांध पर 1.90 मीटर की चादर चल रही है जिससे 62000 278 क्यूसेक,
- भीमसागर के 4 दरवाजे 4.88 मीटर खोलकर 13000 693 क्यूसेक,
- चंवली बांध पर एक मीटर की चादर से 23000 584 क्यूसेक,
- छापी बांध के 11 गेट 18.50 मीटर खोलकर 52000 405 क्यूसेक
- राजगढ़ बांध के 7 दरवाजे 70 मीटर खोलकर 1 लाख 82000 127 क्यूसेक पानी की निकासी जारी रही।

gfdgfdggg

बता दें कि बाड़मेर के चौमहला इलाके में शनिवार को छोटी कालीसिंध, चंबल, चाचूर्णी, क्षिप्रा समेत दूसरी नदियां खतरे के निशान से ऊपर बही। चौमहला के कुण्डला रोड, कोलवी रोड, फाटक बाहर इलाके में 3 से चार फीट पानी बह रहा है। इससे रेल मार्ग पूरी तरह से बंद रहा। वहीं, गंगधार उपखण्ड के भी सभी रास्ते अवरुद्ध हैं।

गोवर्मेन्ट एप्रूव्ड प्लाट व फार्महाउस मात्र रु. 2600/- वर्गगज, टोंक रोड (NH-12) जयपुर में 9314166166

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

More From state

Trending Now
Recommended