संजीवनी टुडे

जंगलों में आग/ वायरल वीडियो और तस्वीरों का उत्तराखंड से नहीं कोई संबंध, CM रावत ने कहा- अपने नाम का इस तरह से दुरुपयोग न होने दें

संजीवनी टुडे 28-05-2020 12:32:09

उत्तराखंड के जंगलों में लगी आग की खबरें इन दिनों सोशल मीडिया पर खूब चल रही हैं। इनमें से कुछ तस्वीरें तो हाल के दिनों की ही हैं।


नई दिल्ली। उत्तराखंड के जंगलों में लगी आग की खबरें इन दिनों सोशल मीडिया पर खूब चल रही हैं। इनमें से कुछ तस्वीरें तो हाल के दिनों की ही हैं। लेकिन बड़ी संख्या में ऐसे वीडियो और तस्वीरें शेयर की जा रही हैं जो या तो पुरानी हैं या जिनका उत्तराखंड से कोई संबंध नहीं है।

वही अब मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत सहित कई अधिकारियों ने लोगों को अफवाहों से बचने की सलाह दी है। त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि मुझे यह कहते हुए बड़ा दुख हो रहा है कि सोशल मीडिया पर कई नामी-गिरामी हस्तियां "उत्तराखंड जल रहा है" जैसे एक भ्रामक दुष्प्रचार का हिस्सा बनी हैं। आप सभी से इतनी अपेक्षा है कि अपने नाम का इस तरह से दुरुपयोग न होने दें। 

25 मई तक राज्य के 71 हेक्टेयर जंगल आग की चपेट में आ चुके हैं और इसमें दो महिलाओं की मौत भी हो चुकी है। वन विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी बताते हैं, ‘बीते सालों की तुलना में जंगलों में लगी आग का आंकड़ा अब तक काफी कम है। पिछले साल इस वक्त तक लगभग डेढ़ हजार हेक्टेयर जंगल आग की चपेट में आ चुके थे। इस साल यह आंकड़ा सिर्फ 71 हेक्टेयर है।’

हालांकि हर साल बढ़ते तापमान के कारण जंगल में आग लगने की घटनाएं सामने आती हैं। जबकि अंग्रेजी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया की एक रिपोर्ट के अनुसार पहली घटना की सूचना के बाद से जंगल की आग ने 51.34 हेक्टेयर क्षेत्र को नुकसान पहुंचाया है। रिपोर्ट में आगे कहा गया कि कुमाऊं क्षेत्र में आग लगने की 21 घटनाएं सामने आईं, जबकि गढ़वाल और आरक्षित वन क्षेत्रों में क्रमश: 16 और 9 मामले दर्ज किए गए।  

यही नहीं, राज्य में आग से घिरे वनस्पतियों और जीवों के बारे में बताते हुए, कई निवासियों ने हैशटैग #PrayForUttarakhand के साथ वाइल्डफायर के वीडियो और फोटो ट्वीट किए, जो जल्द ही ट्रेंडिंग टॉपिक बन गया। पूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस नेता जितिन प्रसाद ने लिखा- 'इन खूबसूरत पहाड़ों और जंगलों और वन्यजीवों को जलता देख दुखी हूं, जो बीते 4 दिनों से इसका शिकार हैं।  सरकार को नियंत्रण और राहत प्रदान करने के उपायों को अमल में लाना चाहिए।'

यह खबर भी पढ़े: लॉकडाउन में प्रवासी मजदूरों के लिए मसीहा बने सोनू सूद, अब फिल्ममेकर संजय गुप्‍ता ने एक्टर से मांगे राइट्स

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From state

Trending Now
Recommended